CM नीतीश ने इतने महीने में 6 करोड़ लोगों के टीकाकरण दिया टारगेट

CM नीतीश ने इतने महीने में 6 करोड़ लोगों के टीकाकरण दिया टारगेट

कोविड-19 संक्रमण के थर्ड वेव की संभावना के बीच बिहार सरकार बिहार में जल्द से जल्द जनता को ज़्यादा से ज़्यादा टीकाकरण करवाने की मुहिम में जुट गयी है स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा मीटिंग में सीएम नीतीश कुमार ने ऑफिसरों को लक्ष्य दे दिया है कि अगले छह महीने में छह करोड़ लोगों का टीकाकरण किसी भी क़ीमत पर हो जाना चाहिए  मुख्यमंत्री ने बोला कि लोगों को टीका लगाने के कार्य में जितने सरकारी कर्मचारियों की आवश्यकता है, उतने लोगों को लगाया जाना चाहिए उन्होंने इस मामले में जागरूकता अभियान चलाने की भी जरूरत बताई

बता दें कि अद्यतन आंकड़े के अनुसार बिहार में लगभग 13 करोड़ की आबादी में अब  तक महज 1  करोड़ 30  लाख  लोगों का ही  टीकाकरण  कराया जा सका है अब अगले छह  महीने में 6 करोड़  लोगों  का टीकाकरण कराना है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऑफिसरों को बोला की लोगों  को  प्रेरित  करें  कि  वे  अपना  टीका लगवायें,  अपने परिवार  का  टीका  लगवायें  और  पड़ोसियों को  भी टीका लगवाने के लिये प्रेरित करें कोई टीकाकरण की इस मुहिम से छूट ना जाए इसके लिए पंचायत  स्तर,  वार्ड  स्तर  पर  माइक्रो लेवल प्लानिंग करें ताकि कोई भी टीका  लगवाने से नहीं छूटे

सीएम नीतीश ने बोला कि कोविड-19   संक्रमण की दर में गिरावट आयी है लेकिन कोविड-19 संक्रमण  की  जांच  में और तेजी लायें और इसके लिए टेस्टिंग, ट्रीटमेंट और टीकाकरण काम को  बेहतर ढ़ंग से करते रहना है नीतीश कुमार ने बोला कि जब वो पटना में आकस्मित से ये जानने के लिए निकले थे कि पटना में अनलौक 1 के बाद क्या तस्वीर है तो कई लोग बिना मास्क के दिख रहे थे ऐसे लोगों को  कोविड-19 संक्रमण  के  प्रति सचेत करना है साथ ही सभी  को मास्क  का उपयोग जरूर  करना है

स्वास्थ्य के क्षेत्र में संरचनात्मक ढांचे के निर्माण के साथ-साथ कई बेहतर काम किये गये हैं,  जिसका  रिज़ल्ट है कि हेल्थ सेंटर पर उपचार कराने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है   हमलोगों का उद्देश्य है कि  विवशता में उपचार के लिये बिहार से बाहर नहीं जाना पड़े समीक्षा मीटिंग में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव सहित मुख्य सचिव, विकास आयुक्त सहित कई वरीय ऑफिसर उपस्थित थे मीटिंग 1 अणे  मार्ग  स्थित संकल्प में हुई


स्‍वतंत्रता दिवस को लेकर प्‍लेटफॉर्म से ट्रेनों तक की चेकिंग शुरू

स्‍वतंत्रता दिवस को लेकर प्‍लेटफॉर्म से ट्रेनों तक की चेकिंग शुरू

स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए गया जंक्शन पर बुधवार की देर रात आरपीएफ व जीआरपी के अधिकारी व पुलिस कर्मियों के द्वारा सर्कुलेटिंग एरिया, वेटिंग रूम, पार्सल कार्यालय, ट्रेन, प्लेटफार्म पर डाग स्क्वाड के साथ सघन जांच की गई।

वहीं, गया जंक्शन से गुजरने वाली हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी, भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, सियालदह नई-दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस समेत अन्य एक्सप्रेस ट्रेनों में सघन जांच अभियान चलाया गया। इस दौरान ट्रेनों के कोंच में संदिग्ध वस्तुओं और सामान की विशेष रूप से जांच की गई। इस संबंध में रेल थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि यह जांच रेलवे के उच्चाधिकारियों के आदेशानुसार की गई।

आरपीएफ व जीआरपी के अधिकारियों ने डाग स्क्वाड के साथ सर्कुलेटिंग एरिया में फोर व्हीलर चालकों एवं टू व्हीलर प्राइवेट पार्किंग स्टैंड के कर्मियों को सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई बातें बताई गई। आरपीएफ इंस्पेक्टर एएस सिद्दीकी ने कहा कि सर्कुलेटिंग एरिया में कोई भी अनक्लेम्ड फोर व्हीलर या टू व्हीलर नजर में आने पर तुरंत जीआरपी एवं आरपीएफ को सूचित करने को कहा गया है।


साथ ही पार्सल कार्यालय में जाकर पार्सल की जांच की गई। इसमें कोई भी अनक्लेम्ड या अनबुक्ड पार्सल नहीं पाया गया। पार्सल ऑफिस में ड्यूटी में तैनात स्टाफ को कोई भी अनक्लेमड या अनबक्ड लगेज बरामद होने पर तत्काल आरपीएफ व जीआरपी को सूचित करने का निर्देश पार्सल आफिस के रेलकर्मी व मजदूरों को दिया गया। आरपीएफ व जीआरपी की टीम ने पूर्व में हुई घटनाओं को ध्यान में रखते हुए सावधानी बरतने की बात कहीं। इस मौके पर आरपीएफ के सब इंस्पेक्टर विक्रमदेव सिंह के अलावे अधिकारी व जीआरपी के सभी पदाधिकारी व जवान शामिल थे।