बिटकॉइन में गिरावट,CoinMarketCap के अनुसार...

बिटकॉइन में गिरावट,CoinMarketCap के अनुसार...
बिटकॉइन (Bitcoin) की मूल्य बीते सप्‍ताह 20,000 $ (लगभग 15 लाख रुपये) तक गिर गई थी. इसके बाद से दुनिया की इस सबसे पॉपुलर क्रिप्‍टोकरेंसी को छोटे हानि हो रहे हैं. गुरुवार को BTC की ट्रेडिंग एक प्रतिशत से कम की गिरावट के साथ प्रारम्भ हुई. भारतीय एक्सचेंज कॉइनस्विच कुबेर के अनुसार,  फ‍िलहाल बिटकॉइन 21,452 $ (लगभग 16 लाख रुपये) पर कारोबार कर रहा है. इंटरनेशनल एक्सचेंजों पर भी इसे छोटे हानि का सामना करना पड़ा है. Binance और Coinbase के मुताबिक बिटकॉइन का मूल्य 0.46 प्रतिशत गिरकर 20,199 $ (लगभग 15.80 लाख रुपये) पर आ गया है. 

बाजार में चल रहे उतार-चढ़ाव के बीच गैजेट्स 360 के क्रिप्टो प्राइस ट्रैकर पर ईथर (Ether) की वैल्‍यू में 0.99 प्रतिशत की कमी देखी गई है. यह वर्तमान 1,143 $ (लगभग 89,500 रुपये) पर कारोबार कर रहा है.

दुनिया की टॉप दो क्रिप्‍टोकरेंसीज ने ट्रेडिंग में हानि दर्ज किया है, जबकि ज्‍यादातर altcoins ने क्रिप्टो प्राइस चार्ट पर फायदा दर्ज करके चौंकाया है. यह संकेत दे सकता है कि BTC और ETH के उलट सस्ते altcoins में पूंजी का प्रवाह दिखाई दे रहा है. Tether, USD Coin और Binance USD जैसे सिक्‍कों को भी थोड़ा लाभ हुआ है. मीम कॉइंस के तौर पर चर्चित डॉजकॉइन (DOGE) और शीबा इनु (SHIB) ने भी फायदा दर्ज कर चार्ट में स्वयं को ग्रीन बना लिया है. 

हालांकि Bitcoin Cash, Monero, Elrond और Bitcoin SV ने घाटा दर्ज कर स्वयं को बिटकॉइन और ईथर के साथ खड़ा किया है. कुल मिलाकर, छोटे altcoins ने अच्‍छे संकेत दिखाना प्रारम्भ कर दिया है, जबकि महंगी क्रिप्टोकरेंसी निवेश ऑप्‍शन के रूप में अभी नहीं उभर रही हैं. पिछले हाल के दिनों में निवेशकों ने शॉर्ट बिटकॉइन फंड से 5.8 मिलियन $ (लगभग 45 करोड़ रुपये) रिडीम किए हैं.  CoinShares की यह रिपोर्ट इशारा देती है कि इस समय क्रिप्टो इंडस्‍ट्री में नकारात्मकता अपने पीक पर है.

CoinMarketCap के अनुसार, क्रिप्टो सेक्‍टर का मौजूदा बाजार कैप 900 अरब $ (लगभग 70,49,601 करोड़ रुपये) है. मंदी की संभावना और क्रिप्‍टो सेग्‍मेंट में दिख रही निराशा के बावजूद पूरे विश्व में क्रिप्‍टो को लेकर योजनाएं आगे बढ़ रही हैं. चाहे क्रिप्‍टोकरेंसी को पेमेंट ऑप्‍शन के रूप में अपनाना हो या फ‍िर इससे जुड़े नियमों को फाइनलाइज करना हो, अनेक राष्ट्रों में यह काम हो रहा है. 
 


अब गैस-सिलेंडर पर नहीं करना होगा एक भी पैसा खर्चा पढ़ें डिटेल

अब गैस-सिलेंडर पर नहीं करना होगा एक भी पैसा खर्चा पढ़ें डिटेल

नई दिल्ली: IOC Surya Nutan: राष्ट्र में महंगाई दिनों दिन बढ़ती जा रही है. चाहे वह पेट्रोल हो, डीजल हो या एलपीजी गैस हो, सभी के मूल्य बढे हुए हैं. ऐसे में आम आदमी का जीवन जीना कठिनाई होता जा रहा है. यानी आज के समय हर आदमी दो समय की रोटी जुटाने में लगा है. अब ऐसे में हर कोई सोचता है कि उसे कम से कम एलपीजी सिलेंडर तो सस्ता मिल सके. वहीं राष्ट्र की राजधानी दिल्ली में घरेलू गैस सिलेंडर की मूल्य 1000 रुपये तक पहुंच गई है. कमर्शियल गैस सिलेंडर की बात करें तो इसके मूल्य कुछ शहरों में 2,000 के पार चली गई है.

इसी परेशानी को देखते हुए राष्ट्र की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी भारतीय ऑयल कॉरपोरेशन एक निवारण लाई है. इस कंपनी ने हिंदुस्तान में रिचार्ज होने वाला और घर के अंदर प्रयोग होने वाला सोलर चूल्हा पेश किया है.  इसकी सहायता से आप तीन समय का खाना फ्री में ही बना सकते हैं. आइए जानते हैं इस सोलर चूल्हे के बारे में विस्तार से…

आपको बता दें कि राष्ट्र की सबसे प्रसिद्ध ऑयल कंपनी भारतीय ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने 22 जून 2022 यानी की बुधवार को इस नए सोलर चूल्हे को लॉन्च किया था. इस चूल्हे की विशेषता है कि इस चूल्हे को रसोई घर में रख कर सौर्य ऊर्जा के जरिए उपयोग में लाया जा सकता है. ये चूल्हा घर के बाहर लगे सोलर पैनल से अपनी एनर्जी कंज्यूम कर सकता है जिसके बाद यह चार्ज हो कर पूरी ढंग से इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएगा.इस चूल्हे की खास बात तो यह है कि आप इसे रात में भी उपयोग कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त इस चूल्हे को खरीदने और इसकी मेंटेनेंस में आपके कोई भी एक्स्ट्रा पैसे खर्च नहीं होने वाले हैं. आपको बता दें कि बुधवार को पेट्रोलियम मिनिस्टर हरदीप सिंह के ऑफिशियल रेजिडेंस पर हो रहे एक कार्यक्रम के दौरान इस सौर चूल्हे को लॉन्च किया गया था.

क्या होगी कीमत:

उन्होंने बोला कि इस समय एक गैस चूल्हे की मूल्य 18,000 रुपये से 30,000 रुपये के करीब आती है. लेकिन पैमाने की अर्थव्यवस्था को देखते हुए 2-3 लाख यूनिट का उत्पादन किया जाता है और कुछ सरकारी सहायता मिलती है, तो कॉस्ट 10,000 रुपये से 12,000 रुपये प्रति यूनिट तक तम हो सकती है.

बिना रखरखाव के चूल्हे की लाइफ 10 वर्ष है. इसमें एक ट्रेडिशनल बैटरी नहीं है, जिसे बदलने की जरूरत है. साथ ही सोलर पैनल की लाइफ 20 वर्ष होती है