High Court ने बंपर-टू-बंपर बीमा लागू करने का आदेश लिया वापस

High Court ने बंपर-टू-बंपर बीमा लागू करने का आदेश लिया वापस

मद्रास हाई कोर्ट ने बीमा कंपनियों को 1 सितंबर, 2021 से बेचे जाने वाले नए वाहनों के लिए पांच साल के लिए बंपर-टू-बंपर बीमा सुनिश्चित करने का निर्देश देने वाले अपने पहले के आदेश को वापस ले लिया है। IRDA और अन्य का कहना था कि इसे लागू करना असंभव है। जिसके बाद कोर्ट ने अपने फैसले को वापस ले लिया है।

न्यायमूर्ति एस वैद्यनाथन ने कहा, अदालत को लगता है कि इस साल 4 अगस्त को पैराग्राफ 13 में जारी निर्देश मौजूदा स्थिति में लागू करने के लिए अनुकूल और उपयुक्त नहीं हो सकता है। इसलिए, उस पैरा में उक्त निर्देश मौजूदा समय के लिए वापस ले लिया जाता है।


न्यायाधीश ने आशा व्यक्त की और भरोसा किया कि कानून निर्माता इस पहलू पर गौर करेंगे और वाहनों के व्यापक कवरेज से संबंधित अधिनियम में उपयुक्त संशोधन की आवश्यकता की जांच करेंगे ताकि निर्दोष पीड़ितों की रक्षा की जा सके। न्यायाधीश ने कहा कि निर्देश को वापस लेने को देखते हुए संयुक्त परिवहन आयुक्त द्वारा इस संबंध में जारी 31 अगस्त का सर्कुलर भी रद किया जाता है।

IRDAI, GIC और SIAM ने कहा कि 4 अगस्त को जज की ओर से गैर-बीमित निर्दोष पीड़ितों को सुरक्षा कवरेज के संबंध में व्यक्त किए गए विचार, जैसे कि एक निजी कार में अनावश्यक रहने वाले और पीछे की सवारी करने वालों की सुरक्षा के लिए IRDAI के परामर्श से विधिवत ध्यान रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि बंपर टू बंपर पॉलिसी के कवरेज को अनिवार्य करने वाला आदेश मौजूदा समय में कानूनी व्यवस्था में प्रभावी कार्यान्वयन के लिए तार्किक और आर्थिक रूप से व्यवहार्य नहीं हो सकता है। इसका उल्टा प्रभाव पड़ेगा, जिससे समाज पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा और इसलिए, न्यायालय द्वारा जारी निर्देश पॉलिसीधारकों, ऑटोमोबाइल उद्योग और बड़े पैमाने पर जनता के हित में वापस लिए जाते हैं।


होम लोन हुआ सस्ता, भारतीय स्टेट बैंक ने घटाई ब्याज दर

होम लोन हुआ सस्ता, भारतीय स्टेट बैंक ने घटाई ब्याज दर

नई दिल्ली: आनें वाले त्योहारी सीजन में रियल एस्टेट कंपनियों के साथ बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं को आशा है कि घरों की बिक्री में तेजी आएगी. गणेश चतुर्थी के बाद देश में त्योहारी सीजन प्रारम्भ हो गया है, जो नवंबर के अंत तक चलेगा. ऐसे में कोटक महिन्द्रा और एसबीआई सहित कई बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती की है. कोविड-19 महामारी के बावजूद देश में लोग अपने सपनों का घर खरीद रहे थे. इससे जून तिमाही में घरों की कीमतों में 1.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

लोन मेला 15 अक्टूबर से
केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बोला कि बैंक 15 अक्टूबर से लोन मेला का आयोजन करेंगे, ताकि त्योहारों के मौसम में लोगों को सरलता से होम लोन सहित अन्य लोन मिले.

निचले स्तर पर ब्याज दर
भारत में होम लोन की ब्याज दरें रेकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गई हैं. मैजिकब्रिक्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2021 में होम लोन लेने वाले ग्राहकों की रूचि 26 प्रतिशत बढ़ी है. सस्ते ब्याज दर पर होम लोन लेकर आयकर बचाने का विकल्प भी लोगों को भा रहा है.

एसबीआई ने की कटौती
फेस्टिव सीजन प्रारम्भ होने के साथ ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने बेस रेट में 0.05 प्रतिशत की कटौती की है, जिससे लोन की ब्याज दर घटकर 7.45 प्रतिशत रह गई है. यह ब्याज दर 15 सितंबर से कारगर है. इससे बैंक के ग्राहकों के होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई कम हो जाएगी.

वर्तमान में ये हैं विभिन्न बैंकों की होम लोन ब्याज दरें
आईडीएफसी फर्स्ट बैंक - 6.5-8 परसेंट
कोटक महिन्द्रा बैंक - 6.65-7.1 परसेंट
बैंक ऑफ बड़ौदा - 6.75-8.35 परसेंट
आईसीआईसीआई - 6.75-7.40 परसेंट
पंजाब एंड सिंध बैंक - 7.1-7.9 परसेंट
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया - 6.8-7.3 परसेंट
एसबीआई - 6.8-7.15 परसेंट
इंडियन बैंक - 6.8-8.25 परसेंट
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया - 6.85 परसेंट से शुरू
एक्सिस बैंक - 6.90-8.40 परसेंट
केनरा बैंक - 6.9-8.9 परसेंट
आईडीबीआई बैंक - 6.95-8.55 परसेंट
पंजाब नेशनल बैंक - 6.95-7.85 परसेंट
इंडियन ओवरसीज बैंक - 7.05-7.30 परसेंट
यूको बैंक - 7.15-7.25 परसेंट