KYC अपडेट करने के लिए ग्राहक को दिसंबर तक का समय दें बैंक, RBI ने दी सख्‍त हिदायत

KYC अपडेट करने के लिए ग्राहक को दिसंबर तक का समय दें बैंक, RBI ने दी सख्‍त हिदायत

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि 31 दिसंबर 2021 तक कोई भी Bank Account खाताधारक की KYC अपडेट न होने के कारण Freeze नहीं किया जाएगा। साथ ही यह भी कहा कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (NBFC) और भुगतान प्रणाली परिचालक आधार ई-केवाईसी सत्यापन लाइसेंस (Aadhaar E kyc Verification) के लिए केंद्रीय बैंक के पास आवेदन कर सकते हैं। मई, 2019 में वित्त मंत्रालय ने बैंकिंग कंपनियों को छोड़कर अन्य इकाइयों द्वारा आधार सत्यापन सेवाओं के इस्तेमाल के लिए आवेदन को विस्तृत प्रक्रिया जारी की थी।

आधार ईकेवाईसी वेरिफिकेशन

रिजर्व बैंक की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि एनबीएफसी, भुगतान प्रणाली परिचालरक और भुगतान प्रणाली भागीदार आधार सत्यापन लाइसेंस-केवाईसी प्रयोगकर्ता एजेंसी (केयूए) लाइसेंस या उप-केयूए लाइसेंस के लिए विभाग को आवेदन कर सकते हैं जिसे आगे यूआईडीएआई (भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण) के पास भेजा जाएगा।

Sandbox योजना

इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने कहा है कि नियामकीय ‘सैंडबॉक्स’ योजना के तहत छह इकाइयों ने ‘पहले समूह’ का परीक्षण चरण पूरा कर लिया है। इसका विषय खुदरा भुगतान है। उनके उत्पादों को नियामकीय इकाइयों द्वारा स्वीकार्यता के लिए व्यावहारिक माना गया है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि इन इकाइयों के उत्पाद मुख्य रूप से ऑफलाइन डिजिटल भुगतान, प्रीपेड कार्ड, संपर्करहित भुगतान और वॉयस आधारित यूपीआई से संबंधित हैं।

नए प्रोडक्‍ट और सर्विस की टेस्टिंग

नियामकीय सैंडबॉक्स से सामान्य तौर पर तात्पर्य नियंत्रित/परीक्षण वाले नियामकीय माहौल में नए उत्पादों और सेवाओं के सीधे परीक्षण से होता है। इसमें नियामक कुछ रियायतों की अनुमति भी दे सकता है। पहले समूह में जिन इकाइयों के उत्पाद रिजर्व बैंक द्वारा तय निमयों के अनुकूल पाए गए हैं उनमें न्यूक्लियस सॉफ्टवेयर एक्सपोर्ट्स (पेसे), टैप स्मार्ट डेटा इन्फॉर्मेशन सर्विसेज (सिटीकैश), नैचुरल सपोर्ट कंसल्टेंसी सर्विसेज (आईएनडी-ई-कैश), नफा इनोवेशंस (टोन टैग), उबोना टेक्नोलॉजीज (भीम वॉयस) और ईरूट टेक्नोलॉजीज (सिम के जरिये ऑफलाइन भुगतान) शामिल हैं।


होम लोन हुआ सस्ता, भारतीय स्टेट बैंक ने घटाई ब्याज दर

होम लोन हुआ सस्ता, भारतीय स्टेट बैंक ने घटाई ब्याज दर

नई दिल्ली: आनें वाले त्योहारी सीजन में रियल एस्टेट कंपनियों के साथ बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं को आशा है कि घरों की बिक्री में तेजी आएगी. गणेश चतुर्थी के बाद देश में त्योहारी सीजन प्रारम्भ हो गया है, जो नवंबर के अंत तक चलेगा. ऐसे में कोटक महिन्द्रा और एसबीआई सहित कई बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती की है. कोविड-19 महामारी के बावजूद देश में लोग अपने सपनों का घर खरीद रहे थे. इससे जून तिमाही में घरों की कीमतों में 1.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

लोन मेला 15 अक्टूबर से
केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बोला कि बैंक 15 अक्टूबर से लोन मेला का आयोजन करेंगे, ताकि त्योहारों के मौसम में लोगों को सरलता से होम लोन सहित अन्य लोन मिले.

निचले स्तर पर ब्याज दर
भारत में होम लोन की ब्याज दरें रेकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गई हैं. मैजिकब्रिक्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2021 में होम लोन लेने वाले ग्राहकों की रूचि 26 प्रतिशत बढ़ी है. सस्ते ब्याज दर पर होम लोन लेकर आयकर बचाने का विकल्प भी लोगों को भा रहा है.

एसबीआई ने की कटौती
फेस्टिव सीजन प्रारम्भ होने के साथ ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने बेस रेट में 0.05 प्रतिशत की कटौती की है, जिससे लोन की ब्याज दर घटकर 7.45 प्रतिशत रह गई है. यह ब्याज दर 15 सितंबर से कारगर है. इससे बैंक के ग्राहकों के होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई कम हो जाएगी.

वर्तमान में ये हैं विभिन्न बैंकों की होम लोन ब्याज दरें
आईडीएफसी फर्स्ट बैंक - 6.5-8 परसेंट
कोटक महिन्द्रा बैंक - 6.65-7.1 परसेंट
बैंक ऑफ बड़ौदा - 6.75-8.35 परसेंट
आईसीआईसीआई - 6.75-7.40 परसेंट
पंजाब एंड सिंध बैंक - 7.1-7.9 परसेंट
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया - 6.8-7.3 परसेंट
एसबीआई - 6.8-7.15 परसेंट
इंडियन बैंक - 6.8-8.25 परसेंट
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया - 6.85 परसेंट से शुरू
एक्सिस बैंक - 6.90-8.40 परसेंट
केनरा बैंक - 6.9-8.9 परसेंट
आईडीबीआई बैंक - 6.95-8.55 परसेंट
पंजाब नेशनल बैंक - 6.95-7.85 परसेंट
इंडियन ओवरसीज बैंक - 7.05-7.30 परसेंट
यूको बैंक - 7.15-7.25 परसेंट