स्टीलबर्ड ने नई हेलमेट रेंज ब्लौअरबेट की लॉन्च जानें क्यों है खास

स्टीलबर्ड ने नई हेलमेट रेंज ब्लौअरबेट की लॉन्च जानें क्यों है खास

विस्तार राष्ट्र की प्रमुख हेलमेट निर्माता कंपनी Steelbird Hi-tech India (SBHT), स्टीलबर्ड हाई-टेक इण्डिया (एसबीएचटी) ने हेलमेट की एक नयी सीरीज Blauer BET (ब्लौअरबेट) को लॉन्च किया है. नयी हेलमेट रेंज राइडर के जीवन को सुरक्षित बनाने के ब्रांड के आदर्श वाक्य के अनुरूप है. ब्लौअरबेट हेलमेट का सबसे बड़ा आकर्षण यह है कि वे नए यूरोपीय सुरक्षा मानकों-ईसीई 22.06 को पूरा करते हैं और पूरी सुरक्षा प्रदान करते हैं.

सबसे खास बात यह है कि स्टीलबर्ड के नए हेलमेट में मिलने वाले नए यूरोपीय सुरक्षा मानक-ईसीई 22.06 जनवरी 2024 से हिंदुस्तान और दुनिया में जरूरी तौर पर लागू होंगे.

कंपनी ने एक बयान में कहा, "हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि ब्लौअरबेट सीरीज के लॉन्च के साथ, स्टीलबर्ड हिंदुस्तान में लागू होने से पहले इन हेलमेटों को नए सुरक्षा मानकों के साथ लॉन्च करके इस पहल को अपनाने वाले पहले ब्रांडों में से एक बन जाएगा.

इंटीग्रेटेड सन वाइजर जैसे हेलमेट के सामान के मानक होंगे जो उन्हें टेस्ट पास करने के लिए पूरा करने की जरूरत होगी.

इस प्रक्रिया पर लागू होने वाले नवीनतम साइंस के साथ परीक्षण प्रक्रियाओं को स्वयं बदल दिया गया है.

असर परीक्षण मुश्किल और तेज प्रभावों के साथ-साथ कम गति वाले प्रभावों को भी देखेंगे.

असर परीक्षण के लिए पेश किया गया एक नया कोण स्टेशन भी होगा.

ईपीएस भी मल्टीपल डेनसिटीज में है इसलिए कम वजन के होने के बावजूद ये सवार को अधिक सुरक्षा प्रदान करता है.

नए नियम जनवरी 2024 से लागू होंगे, जो निर्माताओं को नए मानकों को पूरा करने के लिए हेलमेट का उत्पादन करने का समय देता है.

जनवरी 2024 के बाद, सवार अभी भी कानूनी रूप से अपना ईसीई 22.05 हेलमेट पहन सकते हैं, लेकिन निर्माता द्वारा वितरक या खुदरा विक्रेता को आपूर्ति किए गए किसी भी नए हेलमेट को ईसीई 22.06 के रूप में प्रमाणित करना होगा.

स्टैंडर्ड को HIC (हेड इंजरी मानदंड) (एचआईसी) नामक परीक्षणों की एक पूरी सीरीज पास करने के लिए एक हेलमेट की आवश्यकता होती है. एक डमी के सिर ने हादसा की स्थिति में सिर को हुए हानि का आकलन करने के लिए अधिकतम एक्सलरेशन का विश्लेषण करने के लिए अंदर एक्सेलेरोमीटर वाला हेलमेट पहना था. परीक्षण में शॉक एब्जॉर्प्शन, रिटेंशन सिस्टम और हेलमेट का अनसीटिंग शामिल है. विजन के लिए एक समान स्थिति सुरक्षा और दृष्टि की गुणवत्ता सुनिश्चित करनी चाहिए. निर्माता परीक्षण करता है और फिर जांच के लिए रिपोर्ट एक बाहरी प्रमाणित प्रयोगशाला में जमा करता है.

बदलाव असर परीक्षण को प्रभावित करेंगे और असर कैसे होता है. वर्तमान में, हेलमेट को प्रभावित करने वाला भार पूर्व-निर्धारित गति के साथ होता है और आगे, ऊपर, पीछे, साइड और चिन गार्ड को प्रभावित करता है. नए मानक के साथ, न केवल सेंट्रल लाइन पर, बल्कि प्रति सैम्पल एक अतिरिक्त प्वाइंट, एक दूसरे से अलग असर के अन्य प्वाइंट्स जोड़े जाएंगे.


इंटीग्रेटेड सन वाइजर जैसे हेलमेट के सामान के मानक होंगे जो उन्हें टेस्ट पास करने के लिए पूरा करने की जरूरत होगी.

इस प्रक्रिया पर लागू होने वाले नवीनतम साइंस के साथ परीक्षण प्रक्रियाओं को स्वयं बदल दिया गया है.

असर परीक्षण मुश्किल और तेज प्रभावों के साथ-साथ कम गति वाले प्रभावों को भी देखेंगे.

असर परीक्षण के लिए पेश किया गया एक नया कोण स्टेशन भी होगा.

ईपीएस भी मल्टीपल डेनसिटीज में है इसलिए कम वजन के होने के बावजूद ये सवार को अधिक सुरक्षा प्रदान करता है.

नए नियम जनवरी 2024 से लागू होंगे, जो निर्माताओं को नए मानकों को पूरा करने के लिए हेलमेट का उत्पादन करने का समय देता है.

जनवरी 2024 के बाद, सवार अभी भी कानूनी रूप से अपना ईसीई 22.05 हेलमेट पहन सकते हैं, लेकिन निर्माता द्वारा वितरक या खुदरा विक्रेता को आपूर्ति किए गए किसी भी नए हेलमेट को ईसीई 22.06 के रूप में प्रमाणित करना होगा.


इसी माह लॉन्च होगा TVS iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर

इसी माह लॉन्च होगा TVS iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर
TVS ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर नए iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर को टीज किया है. टीज़र में इस अपकमिंग स्कूटर की कुछ झलकियां भी दिखाई गई है. कंपनी ने इसमें The Power of 123 टैगलाइन का इस्तेमाल किया है. स्कूटर को 18 मई, 2022 को दोपहर 2:00 बजे लॉन्च किया जाएगा. ऐसा प्रतीत होता है कि यह मौजूदा iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर का नया वेरिएंट हो सकता है, जो लॉन्ग रेंज के साथ आएगा और इसके डिजाइन में भी कुछ परिवर्तन होंगे.

TVS ने ट्विटर हैंडल पर एक टीज़र वीडियो टीज़र शेयर किया है, जिसमें लाल रंग में नए इलेक्ट्रिक स्कूटर की कुछ झलक दिखाई गई है. यह iQube है, जिसका मौजूदा वर्जन हिंदुस्तानियों को काफी पसंद आ रहा है. यूं तो कंपनी ने इस टीजर वीडियो में डिजाइन के अतिरिक्त स्कूटर के किसी स्पेसिफिकेशन से पर्दा नहीं उठाया है, लेकिन वीडियो में The Story of 123 का जिक्र किया गया है, जो संभवत: आने वाले स्कूटर की रेंज हो सकती है. बता दें कि मौजूदा मॉडल 75 km की रेंज के साथ आता है. ऐसा हो सकता है कि अपकमिंग स्कूटर में बड़ा बैटरी पैक दिया जाए.
 

जैसा कि हमने बताया, नए 2022 TVS iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर को कल, यानी 18 मई को दोपहर 2 बजे लॉन्च किया जाना है. लॉन्च में इस स्कूटर के सभी स्पेसिफिकेशन्स से पर्दा उठने की आसार है.

iQube TVS के इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर पोर्टफोलियो का एकमात्र प्रोडक्ट है. इसकी हिंदुस्तान में भिड़न्त Ola S1 Pro, Ather 450 सीरीज़, Bajaj Chetak EV सहित कई अन्य इलेक्ट्रिक स्कूटर्स से होती है. 

मौजूदा मॉडल की कीमत की बात करें, तो FAME II और राज्य सरकारस की सब्सिडी के बाद इसकी दिल्ली में कीमत 1,00,777 रुपये है.

स्पेसिफिकेशन्स की बात करें, तो मौजूदा iQube इलेक्ट्रिक स्कूटर में 4.4kW क्षमता की इलेक्ट्रिक मोटर मिलती है. कंपनी का दावा है कि ये स्कूटर सिंगल चार्ज में 75 किलोमीटर की रेंज दे सकता है. स्कूटर की टॉप स्पीड 78Kmph है. इसमें 2.25kWh क्षमता की lithium-ion बैटरी मिलती है. स्कूटर कई आधुनिक फीचर्स से लैस आता है और इसका इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर जीपीएस / नेविगेशन और मोबाइल कनेक्टिविटी सपोर्ट करता है.