बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

सेहत के लिए जानना जरूरी है कि कब, क्या और कितना खाना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान यह और जरूरी होता है, क्योंकि आपके संग बच्चे की सेहत का सवाल भी होता है। हालांकि, भारत में पोषण के कुछ फैक्ट इसकी दुखद तस्वीर पेश करते हैं।

भारत में 26.8 फीसदी महिलाओं की शादी 18 साल से पहले हो जाती है। इसकी वजह से 22.9 प्रतिशत महिलाएं प्रेग्नेंसी के समय कम वजन की होती हैं। यही कारण है कि भारत में 58 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकार हैं।

गर्भावस्था के दौरान पोषण इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि आपके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं। बच्चे की ग्रोथ के लिए यह काफी अहम भी है। इस दौरान फीटल ग्रोथ रिस्ट्रिक्शन (एफजीआर) का जोखिम काफी होता है। दुनियाभर में इसकी वजह से एक-चौथाई बच्चे काल के गाल में समा जाते हैं। खराब पोषण की वजह से बच्चे समुचित वजन हासिल नहीं कर पाते हैं। वहीं, कुछ मामलों में इसकी वजह से बच्चों का कॉगनिटिव विकास नहीं हो पाता है।

वयस्क रोग की भ्रूण उत्पत्ति

ऐसा स्वीकार किया जा चुका है कि गंभीर बीमारियों की बड़ी वजह खराब लाइफस्टाइल है। कोरोनरी हार्ट डिजीज, डाइबिटीज मेलिटस और हाइपरटेंशन फेटल लाइफ न्यूट्रिशन के बाई-प्रोडक्ट्स होते हैं। फीटल लाइफ के समय महिलाओं के भूखे रहने से इंसुलिन रजिस्टेंस सिंड्रोम होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में गर्भावस्था को दौरान बेहतर न्यूट्रिशन जरूरी है, क्योंकि इससे बाल मृत्यु दर, पैटर्न बर्थ, कम वजन के बच्चे पैदा होने जैसी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता है।

मां के समुचित पोषण के ये हैं असर-

-मां के माइक्रोन्यूट्रिएंट स्तर में सुधार

- कम वजन के बच्चों में कमी

-पोस्ट डिलीवरी ब्लीडिंग एमएमआर में कमी

-मातृत्व एनीमिया में कमी, प्रीमैच्योर बेबी में कमी

-गर्भपात में कमी, दिमाग के नुकसान में कमी

मातृत्व पोषण को ऐसे सुधारें

स्वस्थ खान-पान के लिए काउंसिलिंग करें। बैलेंस्ड एनर्जी और प्रोटीन डाइटरी सप्लीमेंट्स लें। फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन (400 माइक्रोग्राम) पहले ट्राइमिस्टर में लें। आयरन और फोलिक एसिड दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैल्शियम सप्लीमेंट्स दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैफीन का सेवन कम करें। पास्चुराइज्ड दूध ही लें। बिना पका और कम पका खाना न लें। बिना पका मीट भी न लें। किसी भी फल-सब्जी को धोकर खाएं। खाना खाने से पहले हाथ धोएं। बागवानी करते समय दास्ताने पहनें और हाथों को अच्छी तरह धोएं।

गर्भावस्था में डाइट

-प्रेग्नेंसी में अतिरिक्त ऊर्जा के रूप में 350 किलो कैलोरी की आवश्यकता होती है

-दूसरी और तीसरी तिमाही में पोषक स्नैक्स जरूरी है

-कम वजन वाली प्रेग्नेंट महिलाएं एक अतिरिक्त स्नैक्स लें। अधिक वजह वाली महिलाएं पूरे दिन में छोटे-छोटे मील (खाना) लें।

-कम पोषण वाला खाना खाने की वजह से महिलाओं को चक्कर आना, मितली आना, भूख कम लगना जैसे समस्याएं होती हैं।


कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण की आज से हो रही है शुरूआत, जानें

कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण की आज से हो रही है शुरूआत, जानें

एक मार्च मतलब आज से कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण की शुरूआत हो रही है। जिसमें 60+ बुजुर्गों और 45 पार के बीमारों को टीका लगना है। दूसरे दौर में 27 करोड़ लोगों को लगना है टीका। कोरोना वायरस का टीका लगवाने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। तो क्या है इसका पूरा प्रोसेस और व्यवस्था, जानेंगे इससे जुड़ी हर एक जरूरी जानकारी।इस तरह कराना होगा रजिस्ट्रेशन

टीका लगवाने का सबसे पहला स्टेप रजिस्ट्रेशन है। इसके लिए 4 विकल्प हैं। पहला है कोविन 2.0 पोर्टल (CO-Win 2.0 portal) जिस पर आप अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। जिसका लिंक आपको आरोग्य सेतु एप पर भी मिल जाएगा।आरोग्य सेतु एप से इस वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है। आरोग्य सेतु से भी सेंटर और स्लॉट की बुकिंग की जा सकती है। दूसरा ऑप्शन है सीधे COWIN.GOV.IN की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन कराना। तीसरा ऑप्शन है आसपास के किसी कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर रजिस्ट्रेशन कराना। 60 से ज्यादा उम्र वाले लोगों की सुविधा के लिए सरकार ने चौथा ऑप्शन भी दिया है। जहां ऐसे लोग फोन से भी रजिस्‍ट्रेशन करा सकते हैं। इसके लिए कॉल सेंटर का नंबर 1507 डायल कर रजिस्ट्रेशन से संबंधित हर एक जानकारी प्राप्त की जा सकती है।


रजिस्ट्रेशन के स्टेप्स

अगर आपके घर में बुजुर्ग या कोई 45 पार का बीमार व्यक्ति है तो उसे इस चरण में टीका जरूर लगवाएं।

- रजिस्ट्रेशन कराने के लिए CO-Win ऐप या वेबसाइट पर जाएं।

- यहां अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें, इसके बाद आपके नंबर एक OTP आएगा। इस OTP को दर्ज करने के बाद आपका अकाउंट बन जाएगा।

- इसके बाद नाम, उम्र, लिंग के साथ कुछ और जानकारी देनी होती है।


- कोई एक फोटो पहचान पत्र भी अपलोड करना होगा।

- अब आपको किस सेंटर पर टीका लगवाना है और किस तारीख को लगवाना है, ये दर्ज करना होगा।

- 60 पार के लोगों को सिर्फ पहचान पत्र दिखाना होगा।

- अगर आप 45 साल से ज्‍यादा की उम्र के हैं और को-मॉर्बिडिटी है तो उसका सर्टिफिकेट अपलोड करना होगा।

- सरकारी सेंटर पर मुफ्त, प्राइवेट अस्पतालों में वैक्सीनेशन के लिए देने होंगे 250 रूपए।


खत्म हुई अब दूरी, लोगों को पहली बार मिली ये सेवा       75 फीसदी आरक्षण, हरियाणा से पलायन कर सकते हैं उद्योग       ‘Aruvi’ के हिन्दी रीमेक में नजर आएंगी फातिमा सना शेख, कहा...       Virat Kohli अनुष्का शर्मा की हाइट को लेकर थे परेशान, जानें       Shweta Tiwari पलक तिवारी और रेयांश के साथ आई नजर       सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ नजर आएंगी रश्मिका मंदाना, Mission Majnu की शूटिंग लखनऊ में हुई शुरू       इस एक्टर के निधन की ख़बर सुनकर इसलिए सुन्न पड़ गये थे अभिषेक कपूर       Saif Ali Khan ने कोविड-19 वैक्सीन की ली डोज       इस एक्ट्रेस के बॉयफ्रेंड ने खेल मंत्री किरण रिजिजू से आयकर छापे मामले में मांगी मदद       क्या ‘इंडियन आइडल 12’ बंद होने जा रहा है? शो को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा       जेपी दत्ता और बिंदिया गोस्वामी की बेटी निधि जयपुर में कर रहीं शादी       ‘Liger’ का गोवा शेड्यूल हुआ पूरा, इस एक्ट्रेस ने शेयर किए पार्टी के फोटो       आज है श्री राम की भक्त माता शबरी की जयंती, जानें       आज है फाल्गुन मास की कालाष्टमी, इस मुहूर्त में करें पूजा       भगवान शिव ने स्वयं बताई है महाशिवरात्रि व्रत की महिमा, जानें       कैसे हुई थी माता शबरी की प्रभु श्री राम से मुलाकात       मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शुक्रवार को जरुर करें ये उपाय       इस महाशिवरात्रि करें ये दो कार्य, आप पर होगी भगवान शिव की कृपा       कालाष्टमी आज, जानें मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल       भगवान शिव ने क्यों लिया अर्धनारीश्वर अवतार, हमारे और आप से जुड़ा है कारण