रात में बच्चे को सोने नहीं देती खांसी तो इन घरेलू उपायों से दिलाएं आराम

रात में बच्चे को सोने नहीं देती खांसी तो इन घरेलू उपायों से दिलाएं आराम

मौसम का असर सबसे पहले बच्चे पर ही नजर आता है। खासकर खांसी उन्हें सबसे ज्यादा परेशान करती है। यदि खांसी रात को हो, तो इससे उनकी नींद बाधित होती है। अच्छी और पर्याप्त नींद न लेने से उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है और इम्यून कमजोर हो जाता है। यही कारण है हर मां कुछ ऐसे घरेलू उपाय अपनाती हैं, जिनकी मदद से बच्चे की खांसी फुर्र हो जाए। यहां हम आपको कुछ ऐसे ही घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं।

​बच्‍चों में खांसी के कारण

बच्चे को निम्न कारणों से खांसी हो सकती है-

  • संक्रमण - वायरल इंफेक्शन जैसे सर्दी और फ्लू के कारण बच्चे को खांसी हो सकती है।
  • एसिड रिफ्लक्स - एसिड रिफ्लक्स का एक लक्षण खांसी है। यदि एसिड रिफ्लक्स है, तो बच्चे में अन्य लक्षण भी नजर आएंगे। उन पर गौर करें।
  • अस्थमा - अस्थमा का निदान मुश्किल हो सकता है, क्योंकि हर बच्चे में इसके लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। लेकिन खांसी के दौरान घरघराहट होना, खासकर रात में खांसी की स्थिति का बिगड़ जाना अस्थमा के लक्षणों में से एक है।
  • एलर्जी और साइनसाइटिस - साइनस की कुछ एलर्जी के कारण खांसी हो सकती है।

​बच्चे में रात को खांसी आने के घरेलू उपाय

सर्दी के मौसम में बच्चों को खांसी हो सकती है। फूड एलर्जी, डस्ट एलर्जी या अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्सयाएं जैसे ब्रोंकाइटिस, फेफड़ोंमें संक्रमण के कारण भी खांसी होती है। यदि बच्चा रात को खांसता है, तो इसके लिए मौजूद हैं कुछ घरेलू उपाय।

  • नीलगिरि का तेल : यदि आपका बच्चा 2 साल से कम उम्र का है, उसके तकिए पर नीलगिरि के तेल की कुछ बूंदें डाल दें। इससे उसकी नाक खुल जाएगी और उसे बंद नाक से तुरंत आराम मिलेगा। आप उसके कपड़े में भी कुछ बूंद लगा सकती हैं। खांसी की अवस्था सुधरेगी और बच्चे को आराम मिलेगा। ध्यान रखें कि इस तेल से बच्चे के गले में मालिश न करें।
  • गर्म सूप : बच्चे को गर्म सब्ज्यिों या चिकन का सूप दें। इससे बच्चे को जल्द खांसी से छुटकारा मिलेगा। इससे उसके गले की खराश भी कम हो जाएगी।

​खांसी दूर करने का इलाज

आप अन्‍य कुछ घरेलू नुस्‍खों की मदद से भी बच्‍चों में खांसी का इलाज कर सकते हैं, जैसे कि :

  • मिस्री : गले में हुई खराश से छुटकारापाने के लिए बच्चों को मिस्री दी जाती है। खराश खांसी की एक बड़ी वजह है। छोटे बच्चे मिस्री को बहुत चाव से चूसते हैं। माना जाता है कि मिस्री गले में नमी बनाए रखती है, जिससे गले में जलन कम होती है। मिस्री की ही तरह कुछ टाॅफियां भी मार्केट में मौजूद हैं, जो गले की खराश के लिए उपयोगी हैं। आप विकल्प के तौर पर इन्हें भी दे सकती हैं।
  • हल्दी : हल्दी कई मर्ज की एक दवा है। इसमें एंटीबैक्टीरियरल गुण होते हैं। घरेलू नुस्खों में इसे कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है। खांसी के लिए हल्दी के साथ अलग-अलग चीजें मिला सकती हैं जैसे- एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाएं। यह दूध बच्चे को पीने के लिए दें। छोटे बच्चे संभवतः पूरा दूध न पी सकें, लेकिन इस दूध के कुछ चम्मच उन्हें जरूर दें। बच्चे को खांसी से आराम मिलेगा।
  • हल्दी और शहद : जैसा कि पहले ही बताया कि हल्दी में एंटीबैक्टीरियल गुण हैं और शहद गले को तर रखता है। यह गले को स्मूद रखता है जिससे बच्चे को रात के समय होने वाली सूखी खांसी में आराम मिलता है। ध्यान रखें कि एक साल से ज्यादा उम्र के बच्चे को ही हल्दी के साथ शहद मिलाकर दें।

Sore Throat Cure: बदलते मौसम में गले की खराश से परेशान है तो करें ये घरेलू उपाय

Sore Throat Cure: बदलते मौसम में गले की खराश से परेशान है तो करें ये घरेलू उपाय

सर्दी का मौसम जैसे-जैसे विदाई ले रहा है वैसे-वैसे मौसम के बदलाव का असर सेहत पर भी दिख रहा है। मोटे कपड़े कम होते जा रहे हैं और गर्म चीजों की जगह ठंडी चीजें ले रही हैं, मौसमी बदलाव का असर हमारी सेहत पर साफ दिख रहा है। इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशान गला ही करता है। इस मौसम में ठंडे पानी, कोल्ड्रिंक्स और ठंडी चीजों के सेवन से गले की खराश होना आम बात है। मौसम के बदलाव के कारण सर्दी, जुकाम एवं गले में दर्द या गले में खराश रहती है। बदलते मौसम में अगर खान-पान का ख्याल नहीं रखा जाए तो ये परेशानी किसी को भी अपनी चपेट में ले लेती है। गले में दर्द एवं खराश के कारण व्यक्ति को कुछ भी निगलने में कठिनाई होती है।

गले की खराश का सबसे ज्यादा असर रात में दिखता है। सोने से गले में कांटे पड़ते हैं, सुबह-सुबह आवाज नहीं निकलती। आप भी मौसम की वजह से होने वाली गले की खराश से परेशान हैं तो हम आपको कुछ देसी उपायों के बारे में बताते हैं जिन्हें अपनाकर आप गले की ख़राश को ठीक कर सकते हैं।


रात को हल्दी का गर्म दूध पीएं:

सोते समय हल्दी का दूध पीए। हल्दी में संक्रमण को दूर करने की क्षमता होती है, जो गले के संक्रमण को ठीक करने में मदद करती है।

काली मिर्च और तुलसी का सेवन करें:

एक कप पानी में 4 से 5 कालीमिर्च एवं तुलसी की 5 पत्तियों को उबालकर काढ़ा बना लें और इस काढ़े को पिएं। इस काढ़े का सेवन रात को करेंगे तो फायदा मिलेगा। काली मिर्च और तुलसी औषधीय गुणों से भरपूर होती है जो गले के संक्रमण को दूर करने में मददगार है।


लहसुन का करें इस्तेमाल:

लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, इसलिए यह गले के संक्रमण को दूर करने में मदद करता है। लहसुन की कली को कुछ देर के लिए अपने दांतों के बीच रखें। इसका रस चूसने से गले को आराम मिलेगा।

गर्म पानी से गरारे करें: 

गले में खराश है तो गुनगुने पानी में नमक डाल कर गरारे करें। गरारे करने से गले की खराश दूर होगी और गले का संक्रमण भी ठीक हो जाएगा। गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करना गले के लिए एक अच्छा इलाज है। 


शहद का करें सेवन:

गले की खराश दूर करने के लिए शहद का सेवन करें। शहद में गले की सूजन और जलन को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं। यह उपाय गले की खराश से राहत दिलाएगा।


मदरसे आतंकियों का ठिकाना, पाकिस्तान पर US का बड़ा दावा       62 कैदियों की मौत, तीन शहरों की जेलों में गैंगवार       भारत से बातचीत पर कही इतनी बड़ी बात, इमरान ने श्रीलंका में भी अलापा कश्मीर राग       ट्रांसजेंडर कंफर्मेशन सर्जरी, दुनिया में पहली बार हुआ ऐसा       राष्ट्रपति बाइडेन ने पलटा ट्रंप का ये फैसला, भारतीयों के लिए बड़ी खुशखबरी!       भाजपा को मिला हमले का बड़ा मौका, राहुल के सेल्फ गोल से मुसीबत में कांग्रेस       सोशल मीडिया पर बड़ी खबर! सरकार ला रही ये नया नियम       टूटा 15 सालों का रिकॉर्ड, राजधानी में लोगों का हाल-बेहाल       बेटा बना IAS अधिकारी, पिता ने घर बेचकर पढ़ाया       भारत को विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे की जरूरत : PM मोदी       यहां जानिए किन-किन सेवाओं पर पड़ेगा असर, देश भर में कल भारत बंद       करोड़पति हुआ मजदूर, खुदाई में मिली ऐसी बेशकीमती चीज       LoC पर बड़ी खबर: भारत-पकिस्तान के बीच हुई ये बात       बरामद 40 करोड़ की ड्रग्स: NCB की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी, तस्करों में मची खलबली       खत्म Board Exam की टेंशन: सरकार का बड़ा फैसला, अब पास होंगे सभी छात्र       भीष्म द्वादशी, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व       प्रदोष व्रत एवं भीष्म द्वादशी आज, पढ़ें 24 फरवरी 2021 का पंचांग       कब है माघ पूर्णिमा? जानें तिथि, मुहूर्त एवं महत्व       आज है प्रदोष व्रत, जानें कब है माघ पूर्णिमा       कई रोगों से रहते हैं घिरे, ब्रह्म मुहूर्त में गलती से भी न करें ये काम