संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा- शुक्रिया       कोरोना से नहीं हारे जॉनसन: आईसीयू से बाहर आए, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा...       अमेरिका ने चाइना को दी Telecom बैन करने की धमकी, कोरोना को लेकर गहराया विवाद       कोरोना: 10 लाख लोगों के लिए सिर्फ 5 बेड, सुविधाओं की कमी से जूझ रहे अफ्रीकी देश       लंदन उच्च न्यायालय ने टाली सुनवाई, दिवालिया घोषित नहीं होगा विजय माल्या       घर आंगन में फिर फुदकने लगी है नन्ही गौरेया       कोरोना: न्यूजीलैंड ने हिंदुस्तान के साथ प्रारम्भ किया था लॉकडाउन       तस्वीरें: लॉकडाउन से पर्यावरण में पड़ी जान, गंगा-यमुना का पानी हुआ साफ       Honor Play 4T व Play 4T Pro हुए लॉन्च, दोनों में मिलेगी 4,000mAh की बैटरी       महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर मंडराया कोरोना का खतरा       वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...       पीएम मोदी ने कहा कि भारत कोरोना से निपटने में अपने मित्रों की हरसंभव मदद करने के लिए तैयार       संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा...       जानें कैसे करती है कोरोना से बचाव, 350 रुपये में तैयार की पीपीई किट       जेईई मेन के आवेदनकर्ता को मिला सुनहरा मौका       जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...       कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'       PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...       कोरोना वायरस के मद्देनजर नेवी में भर्ती पर रोक, एडमिरल करमबीर सिंह बोले...       कोरोना से जंग में लगे पुलिसवालों को मिलेगा 30 लाख का कवर, हरियाणा सरकार बड़ा फैसला!      

जोर-जोर से हंसने से भी फैल सकता है कोरोना वायरस!

जोर-जोर से हंसने से भी फैल सकता है कोरोना वायरस!

कोरोना वायरस से संक्रमण से बचाव के लिए WHO की ओर से कई गाइडलाइंस जारी किए गए हैं, जिससे कि गलतफहमियों से बचते हुए सभी लोगों को कोरोना की ठीक जानकारी हो सके. वहीं, संसार से कई चिकित्सक व रिसर्च संस्थान भी कोरोना से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर रिसर्च कर रहे हैं. 
हाल ही में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) व अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (All India Institute Of Medical Sciences, New Delhi) के डॉक्टरों की एक विशेष टीम के द्वारा ऐसे अध्ययन किए गए जिसमें यह देखा गया कि जोर-जोर से हंसने वाले लोग कोविड-19 का संक्रमण दूसरे तक बड़ी सरलता से पहुंचा सकते हैं.


हंसने से कैसे फैल सकता है कोरोना! 
डॉक्टरों के द्वारा जारी की गई गाइडलाइन के अनुसार, जब कोई आदमी जोर-जोर से हंसता है तो कभी-कभी उसके मुंह से कुछ ड्रॉपलेट्स भी निकलती हैं जो खांसने व छींकने के दौरान निकलने वाली ड्रॉपलेट्स के समान होती हैं. डॉक्टरों का बोलना है कि अगर आप ऐसे लोगों के करीब हैं जो, जोर-जोर से व ठहाके मार कर हंसते हैं तो आपको इनसे सावधान रहने की आवश्यकता है, क्योंकि अगर ऐसे लोग कोविड-19 से संक्रमित हैं तो इनके द्वारा हवा में छोड़ी गई ड्रॉपलेट्स में कोरोना वायरस उपस्थित होने कि सम्भावना है, जो सांस लेने के दौरान आपके शरीर के अंदर भी प्रवेश कर जाएंगे.

फिलहाल दूरी बनाए रखने से रहेंगे सेफ 
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें व ऐसे लोगों से 1 मीटर की दूरी बनाएं रखें. प्रयास करें कि घर से बाहर न निकलें व बहुत आवश्यकता पड़ने पर आप बाहर निकल रहे हैं तो, किसी सर्फेस को न छुएं. खांसने व छींकने वाले लोगों के साथ-साथ अब जोर-जोर से हंसने वाले लोगों से भी दूरी बनाए रखें. इसके अलावा दुनिया स्वास्थ्य संगठन और, चिकित्सक के साथ-साथ सरकार की तरफ से बताई गई सभी गाइडलाइन का नियम से पालन करें व अपने आप को इस वायरस के संक्रमण से सुरक्षित रखें.


Coronavirus: क्या पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?, जानें

Coronavirus: क्या पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?, जानें

इन दिनों कोरोना वायरस को लेकर कई तरह के मिथक प्रचलित हो रहे हैं. इन्हें लेकर आम लोगों में बहुत ज्यादा भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है. क्या है, इन मिथकों की सच्चाई, इस बारे में आपको बता रहा है हिन्दुस्तान. 

मिथक: क्या पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?

हकीकत: पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है या पत्तागोभी की सतह पर यह वायरस 30 घंटे तक ठहरता है, ऐसी खबरें गलत हैं. दुनिया स्वास्थ्य संगठन ने ऐसी कोई भी रिपोर्ट जारी नहीं की है, न ही इस तरह का कोई मुद्दा सामने आया है. विशेषज्ञों का इतना ही मानना है कि हर फल व सब्जी को प्रयोग करने से पहले खूब अच्छी तरह धो लें.

मिथक: क्या कोरोना वायरस पुरुषों को अधिक होता है?
हकीकत: कोरोना वायरस किसी को भी प्रभावित कर सकता है. इसमें स्त्री-पुरुष का कोई भेद नहीं है. अभी तक मिले आंकड़े बताते हैं कि स्त्रियों की तुलना में पुरुषों में संक्रमण के मुद्दे अधिक हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अभी तक संक्रमितों में 76 फीसदी पुरुष हैं व 24 फीसदी महिलाएं. लेकिन इसके कई अन्य कारण भी हैं. पहले से स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं, धूम्रपान जैसी कई चीजें इसकी वजह हो सकती हैं. इसलिए सरकार व स्वास्थ्य एजेंसियां घर में रहते हुए या घर से बाहर निकलते हुए आपसे जिन सुरक्षात्मक तरीकों को अपनाने को कह रही हैं, उनका पालन जरूर करें.
 मिथक: संक्रमित आदमी रक्तदान कर सकते हैं?
हकीकत:कई दिन से ये अफवाहें चर्चा में हैं कि रक्तदान करवाने वाली संस्थाएं रक्तदान करने वालों का कोरोना टेस्ट कर रही हैं. यह ठीक नहीं है. सलाह यह है कि अगर किसी को संक्रमण के लक्षण हैं या इसकी संभावना है, तो वह स्वस्थ होने के 28 दिन बाद ही रक्तदान करे. अभी इसका कोई प्रमाण नहीं है कि यह संक्रमण रक्त के जरिये फैलता है. यह विषाणु श्वसन तंत्र से जुड़ा है, जो छींकने-खांसने आदि के दौरान निकले ड्रॉपलेट के जरिये फैलता है. हां, रक्तदान कराने वाली संस्थाएं साफ-सफाई का उचित ख्याल रख रहे स्वस्थ लोगों से रक्तदान करने की विनती जरूर कर रही हैं.