NSA ओ'ब्रायन ने सैंडर्स के आरोपों को किया खारिज, बोले...       शत्रुघ्न सिन्हा ने PAK राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात, कहा...       मरने वालों की 2,442 हुई संख्या, कोरोना ने निगली कई जिंदगियां       कोरोना से भयभीत हुआ चीन, चिनफिंग बोले...       मोदी के रहते कश्मीर में कुछ नहीं हो सकता : इमरान खान       रेप के बाद नाबालिग ने दिया बेटी को जन्म, फिर किया ये काम       एक दिन के नवजात मासूम को मिली ऐसी सजा, सुनकर हो जाएंगे हैरान       कमरे में अकेली बेटी को देख बिगड़ गई पिता की नियत       मुख्यमंत्री नितीश कुमार का बड़ा बयान, कहा...       संघ प्रमुख डॉ मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा...       विपक्ष पर हमलावर हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया, कहा...       कितनी दूर है दिल्ली से अमेरिका, ट्रंप के दौरे से पहले गूगल पर सर्च कर रहे लोग       इस बार दिल्ली में रामवीर सिंह विधूड़ी को मिला मौका       अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हिन्दी में ट्वीट पर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी बोले...       मनमोहन सिंह ने कहा कि अब तक 9 भारतीय प्रधानमंत्रियों ने किया अमेरिकी दौरा       US प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप भी खाएंगे हरिओम के पान       नियॉन रंग की टाई में दिखें डोनाल्ड ट्रंप, सफेद रंग के जंपसूट में हिंदुस्तान पहुंची मेलानिया ट्रंप       ओबामा को परोसी गई थी ये फिश, ट्राउट का स्वाद नहीं चख पाएंगे ट्रंप       आज के दिन श्रीदेवी ने संसार को किया था अलविदा       बिग बॉस 13 से निकलते ही जमकर प्रसिद्ध हुए आसिम रियाज      

सर्दियों में बच्चों को डायपर पहनाते समय रखें ध्यान

सर्दियों में बच्चों को डायपर पहनाते समय रखें ध्यान

अक्सर बच्चों को डायपर पहनाया जाता है। लेकिन डायपर रैशेज़ बच्चों के लिए तकलीफ भरे हो सकते हैं। इनमें, कई बार बहुत अधिक दर्द और तकलीफ होती है। जिससे, बच्चे परेशान हो जाते हैं। डायपर रैशेज़ के लिए कुछ टिप्स देते हैं। जिनसे, बच्चों को डायपर रैश की समस्या से जल्द राहत दिलाने में मदद होती है।

इन बातों का रखें खास ध्यान:

जब, बच्चे की डायपर बदलें। तो, माइल्ड बेबी वाइप्स का इस्तेमाल करें। गीले कॉटन के कपड़े से पोंछने के बाद स्किन को थोड़ी देर डायपर-फ्री रखें। इससे, डायपर रैशेज़ से बचा जा सकता है।

बच्चे की सफाई के लिए केमिकल-वाले प्रॉडक्ट्स, साबुन या टिश्यू पेपर का इस्तेमाल ना करें। ये सभी चीज़ें बच्चे की कोमल त्वचा को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

गीले डायपर की वजह से बच्चे की स्किन को नुकसान होता है। इसीलिए जितनी जल्दी हो गीले डायपर को बदल दें। इससे, बच्चे की त्वचा को हेल्दी रखने में मदद होगी।

अगर डायपर रैशेज़ के बाद बच्चे को बुखार, फोड़े, पस या मवाद भरी फुंसियां या त्वचा में कटने-फटने जैसी कोई परेशानी दिखे। तो, तुंरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें। ये सभी स्किन इंफेक्शन के लक्षण हो सकते हैं।


क्या आपको पता हैं उल्टी-दस्त और कब्ज में हरड़ के इस्तेमाल से मिलती है राहत

क्या आपको पता हैं उल्टी-दस्त और कब्ज में हरड़ के इस्तेमाल से मिलती है राहत

हरड़ पाचन तंत्र को मजबूत बनाती है. साथ ही यह शरीर को डिटॉक्स कर वजन घटाने में भी मदद करती है. इसमें कई प्रकार के एसिडिक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं. इसमें कई अन्य अघुलनशील पदार्थ भी होते हैं. इसमें 18 प्रकार के अमीनो एसिड भी पाए जाते हैं.


उल्टी-दस्त से मिलता आराम

बुखार, पेट फूलना, उल्टी-दस्त, गैस बनना व बवासीर जैसी समस्याओं में इसका इस्तेमाल किया जाता है. हरड़ का चूर्ण व शहद का इस्तेमाल करने से उल्टी-दस्त में आराम मिलता है.
कब्ज में राहत

हरड़ में गैलिक एसिड पाया जाता है जो रक्त में प्लाज्मा इंसुलिन बढ़ाकर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है. कब्ज के लिए चुटकीभर हरड़ चूर्ण को नमक के साथ खाना चाहिए. इसे लौंग या दालचीनी के साथ लें. दस्त की समस्या में हरड़ की चटनी बनाकर दिन में 3-4 बार खाने से दस्त में आराम मिलता है.
जरूर बरतें सावधानी

कमजोर शरीर, अवसादग्रस्त आदमी तथा गर्भवती स्त्रियों को इसका इस्तेमाल करने से बचना चाहिए. इसको बिना आयुर्वेद विशेषज्ञ से परामर्श के नहीं लें.

Loading...