नीम के पत्तों के सेवन से होते हैं ये फायदे, कभी नहीं होता है कैंसर

नीम के पत्तों के सेवन से होते हैं ये फायदे, कभी नहीं होता है कैंसर

नीम कई बीमारियों के इलाज में कामयाब है। नीम को आयुर्वेद में ‘सर्व रोग निवारिणी’ का नाम दिया गया है। चाहें पेट की समस्या हो या त्‍वचा की नीम आपको हर रोग से आसानी से छुटकारा दिला सकता है। वैस तो नीम स्वाद में कड़वा होता है परंतु यह आपके शरीर को ठंडा है और पित्‍त और कफ दोषों से आपके बचाने में मदद करता है।

नीम के सेवन के फायदे:

अगर आप मुंहासे की समस्या से परेशान हैं तो नीम आपके लिए बेहद लाभकारी है। नीम में जीवाणुरोधी गुण पाया जाता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण मुंहासों के दाग और निशान को हटाने में मदद करते हैं।

नीम के पत्ते प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सुधार करके कैंसर के उपचार में सहायक होते हैं। यह शरीर में मुक्त कणों को खत्म करते हैं और कोशिका विभाजन कर सूजन को कम करते हैं।

नीम की दातुन करने से आपके दांतों और मसूड़ों की सभी समस्‍याएं खत्‍म हो सकती हैं। नीम में एंटीमाइक्रोबायल गुण पाए जाते हैं जो बदबू, दांतों का पीलापन, मुंह के अल्सर और पायरिया जैसे रोगों को खत्‍म करने में सहायक हैं।


तनाव कम करने के लिए दवाओं का सेवन हो सकता है खतरनाक

तनाव कम करने के लिए दवाओं का सेवन हो सकता है खतरनाक

आजकल अपेक्षा से अधिक काम और तनाव के कारण मेंटल हेल्‍थ प्रभावित हो रही है। अगर आप तनाव, अवसाद या एंग्‍जायटी से बचने के लिए दवा खा रहे हैं, तो सावधान हो जाएं, यह कई तरह से आपकी सेहत को प्रभावित करती है। लंबे समय तक इस तरह की दवाओं का सेवन करने से न केवल आपकी ब्रेन हेल्‍थ प्रभावित होती है, बल्कि आपकी सेक्‍स लाइफ  भी खराब हो सकती है।

दवाओं का सेवन हो सकता है खतरनाक:

जब आप मू‍ड स्विंग से बचने के लिए एंटी स्‍ट्रेस दवाओं को लंबे समय तक लेते हैं, तब आपका मूड इन्‍हीं दवाओं पर निर्भर रहने लगता है। दवा लेने से मस्तिष्‍क में एंटी स्‍ट्रेस हॉर्मोन रिलीज होते हैं। जिससे आप खुश अनुभव करते हैं।

कुछ लोगों को एंटी स्‍ट्रेस या एंटी डिप्रेशन दवा लेने के कारण ब्‍लड प्रेशर लो होने की शिकायत होने लगती है। ये दवाएं आपको कूल करने की कोशिश करती हैं। आप बिना तनाव के अपना दिन बिता सकें।

जब आप मस्तिष्‍क को दवाओं के माध्‍यम से तनाव मुक्‍त करने की कोशिश करते हैं, तब आपका आत्‍मविश्‍वास का स्‍तर भी गिरने लगता है। इसलिए डॉक्‍टर इन दवाओं पर लंबे समय तक निर्भर न रहने की सलाह देते हैं।