पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जिन पर दूसरी बार महाभियोग चलेगा, निचले सदन का बहुमत-ट्रम्प ने भड़काई कैपिटल हिल्स में हिंसा

पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जिन पर दूसरी बार महाभियोग चलेगा, निचले सदन का बहुमत-ट्रम्प ने भड़काई कैपिटल हिल्स में हिंसा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग चलाने का प्रस्ताव हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (निचले सदन) में पास हो गया है। ट्रम्प पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति बन गए हैं, जिस पर दूसरी बार महाभियोग चलेगा। उन पर देश के खिलाफ विद्रोह भड़काने का आरोप है। कुछ रिपब्लिकन सांसदों ने भी ट्रम्प पर महाभियोग चलाने के पक्ष में वोट किया है।

निचले सदन में महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पूर्ण बहुमत से पास हुआ है। सीएनएन के मुताबिक प्रस्ताव के पक्ष में 232 और विरोध में 197 वोट डाले गए। पक्ष में वोट करने वाले सांसदों का मानना है कि ट्रंप दंगे भड़काने के आरोपी है। ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी के भी 10 सांसदों ने उनके खिलाफ वोट किया है।

प्रस्ताव पारित होने से पहले ट्रम्प ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अब कोई हिंसा नहीं होनी चाहिए। कोई भी कानून तोड़ने वाला काम या किसी तरह की बर्बरता नहीं होनी चाहिए। यह वह नहीं है जिसके लिए मैं खड़ा रहता हूं। यह वह नहीं है जिसके लिए अमेरिका खड़ा रहता है। मैं सभी अमेरिकियों से अपील करता हूं कि वे तनाव कम करने और माहौल शांत करने में मदद करें।

पिछले हफ्ते समर्थकों ने तोड़फोड़ की थी

ट्रम्प के समर्थकों ने पिछले सप्ताह US कैपिटल बिल्डिंग में तोड़फोड़ की थी। इस हिंसा में एक पुलिस अफसर समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद से ही ट्रम्प निशाने पर हैं। उनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग चलाए जाने की कार्रवाई की गई। यह सब नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के शपथ लेने से एक हफ्ते पहले हुआ है।

US कैपिटल के अंदर और बाहर नेशनल गार्ड तैनात

ट्रम्प समर्थकों की हिंसा से सबक लेते हए US कैपिटल के बाहर बड़ी संख्या में नेशनल गार्ड तैनात किए गए थे। कड़ी सुरक्षा के घेरे में सांसदों ने लगभग एक दिन लंबी चलने वाली बहस में हिस्सा लिया। इसमें डेमोक्रेट्स को कुछ रिपब्लिकंस का साथ भी मिला। अब ट्रंप ऐसे पहले राष्ट्रपति बन गए हैं, जिनके खिलाफ दो बार महाभियोग चलाया गया।

'उस दिन जो हुआ वह विरोध नहीं विद्रोह था'

रूल्स कमेटी के चेयरमैन जिम मैक्गोवर्न ने बहस की शुरुआत करते हुए कहा कि हम उसी जगह खड़े होकर ऐतिहासिक कार्यवाही पर बहस कर रहे हैं, जहां अपराध हुआ था। मैक्गोवर्न ने कहा कि उस दिन यहां जो हुआ, वह कोई विरोध नहीं था। यह हमारे देश के खिलाफ संगठित विद्रोह था। इसे डोनाल्ड ट्रम्प ने भड़काया था।

स्पीकर बोलीं- ट्रम्प ने देश के खिलाफ विद्रोह भड़काया

हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने बहस के दौरान ट्रम्प देश के लिए खतरा बताया। उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि उन्होंने देश के खिलाफ विद्रोह के लिए लोगों को उकसाया। उन्हें इसके लिए जाना चाहिए। राष्ट्रपति ट्रम्प ने नवंबर में हुए चुनाव के नतीजों के बारे में में बार-बार झूठ बोला और डेमोक्रेसी पर शक किया।

महाभियोग का समर्थन कर रहीं पेलोसी ने कहा कि मेरा मानना है कि राष्ट्रपति को सीनेट की ओर से दोषी ठहराया जाना चाहिए। यह संवैधानिक उपाय उस शख्स (ट्रम्प) से हमारे गणतंत्र को सुरक्षित करेगा, जो लगातार इसे नुकसान पहुंचा रहा है। वहीं, रिपब्लिकन पार्टी के जिम जॉर्डन ने इस कार्यवाही की आलोचना करते हुए कहा कि डेमोक्रेट्स राष्ट्रपति को हटाने की कोशिश कर रहे हैं।

संवैधानिक विशेषज्ञ इस मसले पर बंटे

महाभियोग पर हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में सुनवाई हो चुकी है। यहां डेमोक्रेट बहुमत में हैं। लिहाजा प्रस्ताव साधारण बहुमत से पास होकर उच्च सदन यानी सीनेट में चला गया है। वहां रिपब्लिकन का बहुमत है और यहां दो तिहाई मत जरूरी होता है।

साल 2019 में ट्रम्प पर पहले महाभियोग में एक भी रिपब्लिकन ने इसके पक्ष में वोट नहीं दिया था। संवैधानिक विशेषज्ञ इस बात पर बंटे हुए हैं कि क्या राष्ट्रपति के पद छोड़ने के बाद भी महाभियोग चलाया जा सकता है या नहीं।

एक बार वाइस प्रेसिडेंट ट्रम्प को बचा चुके हैं

इससे पहले ट्रम्प को राष्ट्रपति पद से हटाने की कोशिश हो चुकी है। तब उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने संविधान के 25वें संशोधन का इस्तेमाल करने से इनकार कर दिया था। इसके जरिए ट्रम्प को पद से हटाया जा सकता था।

ट्रम्प अगर हटते तो पेंस बाकी 7 दिन के लिए राष्ट्रपति बन सकते थे। हालांकि, उन्होंने ऐसा नहीं किया। अब महाभियोग पर जोर ज्यादा है।

अब तक तीन राष्ट्रपतियों पर महाभियोग

अब तक तीन अमेरिकी राष्ट्रपतियों पर महाभियोग चला है। ट्रम्प पहले राष्ट्रपति हैं, जिन पर दूसरी बार महाभियोग चलेगा। सबसे पहले 1868 में एंड्रयू जॉनसन, फिर 1998 में बिल क्लिंटन और 2019 में डोनाल्ड ट्रम्प पर महाभियोग चला।

1974 में वाटरगेट कांड के बाद रिचर्ड निक्सन ने इस्तीफा दे दिया था। उन पर महाभियोग चलना तय था। किसी भी राष्ट्रपति को अब तक इस प्रक्रिया से हटाया नहीं जा सका है। ट्रम्प के कार्यकाल में सिर्फ 6 दिन बाकी हैं। इस वजह से उन्हें हटाना भी मुश्किल है।


रेगिस्तान में Snowfall, सफ़ेद बर्फ ने ढकी इन देशों की रेत

रेगिस्तान में Snowfall, सफ़ेद बर्फ ने ढकी इन देशों की रेत

ठंड का मौसम आते ही दुनिया के कई हिस्सों में बर्फबारी भी शुरू हो जाती है। जनवरी के महीने में ऐसा ज़्यादातर देखा गया है। लेकिन अफ्रीका और मिडिल ईस्ट में ऐसा नज़ारा आपने नहीं देखा होगा। इस साल अफ्रीका के सहारा में जमकर स्नोफॉल हुआ है, जिसके चलते मरुस्थल की पीली रेत बिर्फ़ की सफ़ेद चादर से ढक गया। अरब का तापमान माइनस 2 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है।

दिल खुश कर देने वाला नज़ारा
इस जगह की कई तस्वीरें सामने आईं है जिसे देख आपका दिल भी खुश हो जाएगा। सऊदी अरब के असीर क्षेत्र में रेगिस्तान में हुई इस दुर्लभ बर्फबारी को देखने के लिए दूर दूर से लोग इस स्थान पर इस सुन्दर नज़ारे को देखने आ रहे हैं, साथ ही विदेशी पर्यटको ने भी यहां का माहौल बनाया हुआ है।

हज़ार वर्षों बाद तापमान में गिरावट
समुद्र तल से करीब 1000 मीटर ऊंचाई पर स्थित ये इलाका एटलस माउंटेन से घिरा हुआ है। सहारा मरुस्थल उत्तरी अफ्रीका के अधिकांश हिस्से में फैला हुआ है। जिसके चलते हजारों वर्षों में यहां के तापमान में बदलाव देखा गया है।

वैसे तो अइन सेफरा अभी सूखा पड़ा है, लेकिन 15,000 साल बाद यहाँ एक बार फिर हरे भरे पेड़ पौधे होने की आशंका जताई जा रही है। वही दूसरी तरह, इस सऊदी अरब में बर्फ़बारी होने से यहाँ के लोगों में ख़ुशी और उत्सुकता देखते बन रही है। जहां पहाड़ और रेट दोनों पर ही बर्फ के सफ़ेद चादर बिछे हुए हैं।

पहले भी हुआ ऐसा
खबरों इ माने तो करीब 50 साल बाद इतने निचले स्तर पर तापमान देखें को मिल रहा है। दक्षिणी-पश्चिमी क्षेत्र में पारा माइनस 2 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क चुका है। रेगिस्तानी इलाकों में बर्फ़बारी बेहद कम देखी जाती है । यहां रात के वक़्त तापमान अचानक से गिर जाता है। सहारा के मरुस्थलों में इससे पहले 2018, 2017 और आखिरी रिकॉर्डेड स्नोफॉल साल 1980 में हुआ था।


Bigg Boss 14: शो से निकलते ही दुखी हुए एजाज खान के फैंस       फिल्मों में हीरो बनने आए थे जाकिर हुसैन, विलेन बनकर बनाई अपनी खास पहचान       The Family Man 2, आर्या 2 और दिल्ली क्राइम 2 समेत ओटीटी पर रिलीज़ होंगे इन सीरीज़ के सीक्वल       Aamir Ali ने ‘मिस्ट्री गर्ल’ पर तोड़ी चुप्पी, बोले...       Kapil Sharma ने जया प्रदा से जाहिर की दिल की बात, कहा...       Bigg Boss 14: घरवालों की नज़रों के सामने से ‘बिग बॉस’ ने छीन लिया उनका राशन       Bigg Boss 14 : SHOCKING! विकास गुप्ता के बाद अब एजाज़ ख़ान घर से बाहर       Bigg Boss 14: देवोलीना भट्टाचार्य सलमान खान से सहमत नहीं       सियासत की गहराई छूने से चूकी सितारों की भव्यता में डूबी प्राइम की वेब सीरीज़ 'तांडव', पढ़ें पूरा रिव्यू       Tandav Web Series से सियासत में उबाल, एमपी सरकार के मंत्री ने अमेज़न CEO को ख़त लिखकर दी यह चेतावनी       इस एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया पर शेयर कीं तस्वीरें, पति अनस को लेकर कही ये बात       'धाकड़' बनकर कंगना रनोट मचा रहीं क़त्ले-आम, इस तारीख़ को सिनेमाघरों में होगी रिलीज़       लाइगर बन दहाड़े 'अर्जुन रेड्डी' विजय देवरकोंडा, करण जौहर ने जारी किया फ़र्स्ट लुक       Tandav Web Series से जुड़े 96 लोगों के ख़िलाफ़ बिहार की अदालत में शिकायत       सूचना प्रसारण मंत्रालय से विमर्श के बाद निर्देशक अली अब्बास ज़फ़र ने बिना शर्त मांगी माफ़ी       तीसरे दिन का खेल समाप्त, ऑस्ट्रेलिया के मिली 54 रन की बढ़त       पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने श्रीलंका को रौंदा, जो रूट ने ठोका दोहरा शतक       जानिए किस टूर्नामेंट का आयोजन पहले कराना चाहते हैं BCCI बॉस सौरव गांगुली       सातवें विकेट के लिए सुंदर और शार्दुल ने की दमदार साझेदारी, सातवें आसमान पर टीम के हौसले       सुरेश रैना को IPL 2021 के लिए CSK रीटेन करेगी या नहीं इस पर बना सस्पेंस