अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन

अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन

नई दिल्ली: पूरी दुनिया इस समय महामारी कोविड-19 वायरस से जूझ रही है. कोविड-19 की लहर को रोकने के लिए कोविड वैक्सीन लगाई जा रही है. इस बीच अमेरिका से एक अच्छी समाचार सामने आ रही है. अमेरिका में अब कोविड-19 वैक्सीन बच्चों को भी लगायी जाएगी. एक रिपोर्ट के अनुसार, फाइजर की कोविड वैक्सीन 12 से 15 वर्ष तक के बच्चे को लगाई जाएगी. यूएस रेगुलेटर्स ने फाइजर की कोविड वैक्सीन (Pfizer COVID-19 vaccine) को स्वीकृति दे दी है. यूएस में 12 से 15 साल के बच्चों को टीके की दो खुराक लगने की तैयारी प्रारम्भ हो गई है.

12 से 15 वर्ष के बच्चों को लगेंगे फाइजर की कोविड वैक्सीन
अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने कोविड-19 के विरूद्ध बच्चों बचाने के लिए यह यह कदम उठाया है. अमेरिकी ऑफिसरों ने बताया कि 13 मई से 12 से 15 वर्ष के बच्चों को भी फाइजर की कोविड वैक्सीन की टीका लगाना प्रारम्भ किया जाएगा. इसके बारे में 12 मई को आधिकारिक घोषणा हो सकती है. अमेरिकी सरकार के इस निर्णय से उन माता-पिता को राहत मिली है, जिनके बच्चे कुछ दिनों बाद प्रारम्भ होने वाले सत्र में स्कूल जाएंगे. अभिभावन पिछले कई दिनों से बच्चों के लिए कोविड वैक्सीन का इन्तजार कर रहे थे. अमेरिकी के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन ने बोला कि यह वैक्सीन कम आयु के टीनएजर्स के लिए सुरक्षित है और यह कोविड से बचाने में मददगार है.

स्वीकृति से पहले 2000 बच्चों पर किया टेस्टिंग
एक रिपोर्ट के अनुसार, फाइजर की कोविड वैक्सीन को टीनएजर्स के लिए स्वीकृति देने से पहले 12 से 15 वर्ष के 2000 अमेरिकी बच्चों पर टेस्टिंग की गई. टेस्टिंग के दौरान बच्चों को कोविड वैक्सीन के दोनों डोज दिए गए. सबसे खास बात यह है कि दोनों डोज लेने वाले बच्चे कोविड-19 संक्रमति नहीं हुए है. इस दौरान वैक्सीन लेने वाले बच्चों के शरीर मे कोविड से लड़ने वाली जबरदस्त एंटीबॉडी विकसित हुई. वैक्सीन लगवाने वाले बच्चों में भी कुछ साइड इफेक्ट्स नजर आए. जैसे हल्का बुकार, शरीर में दर्द जैसी कम्पलेन के लक्षण नजर आए.


धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)

Southern Ocean of Antarctica: अंटार्कटिका के पास पानी का करंट इतना अलग है कि National Geographic ने इसे अलग महासागर मान लिया है.



हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)



अब तक कहां छिपा था?

नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार यह महासागर अंटार्कटिका के तट से 60 डिग्री दक्षिण की ओर है और दूसरे राष्ट्रों से किसी महाद्वीप नहीं बल्कि अपने करंट की वजह से अलग होता है. इसके अंदर आने वाले क्षेत्र अमेरिका से दोगुना है. सोसायटी आमतौर पर इंटरनैशनल हाइड्रोग्राफिक ऑर्गनाइजेशन के नामों को मानती है जिसने 1937 की गाइडलाइन्स में दक्षिणी महासागर को अलग माना था लेकिन 1953 में इसे बाहर कर दिया. इसके बावजूद अमेरिका के जियोग्राफिक नेम्स बोर्ड ने 1999 से दक्षिणी महासागर नाम का इस्तेमाल किया है. फरवरी में National Oceanic and Atmospheric Administration ने इसे मान लिया. (फोटो: British Antarctic Survey Reuters)



खतरों से घिरा

यह कदम कई अर्थ में खास है. नैशनल जियोग्राफिक एक्सप्लोरर एनरिक साला ने बताया है कि दक्षिणी महासगर में बहुत अनोखे और गम्भीर जलीय ईकोसिस्टम पाए जाते हैं जहां वेल, पेंग्विन्स और सील्स जैसे जीव रहते हैं. ऐसी हजारों प्रजातियां हैं जो केवल यहीं रहती हैं, और कहीं नहीं पाई जातीं. इस क्षेत्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों का बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है. ऐसे में संरक्षण की आवश्यकता के चलते भी इसे अलग से मान्यता देना अहम हो जाता है. इसके अतिरिक्त जलवायु बदलाव का प्रभाव भी पड़ रहा है. पिछले महीने दुनिया का सबसे बड़ा हिमखंड अंटार्कटिका से अलग हो गया. फरवरी में भी एक विशाल हिमखंड टूट गया था. (Reuters)



कब बना था?

एक खास अंटार्कटिक सर्कमपोलर करंट भारी मात्रा में पानी ट्रांसपोर्ट करता है और पूरे विश्व में ऐसे सर्कुलेशन सिस्टम को चलाता है जो धरती पर गर्मी ट्रांसपोर्ट करता है. नैशनल जियोग्राफिक 1915 से मैप तैयार कर रहा है और इसके करंट के आधार पर कार्टोग्राफर्स ने यह निर्णय किया है. वर्ल्ड वाइड फंड के अनुसार यह महासागर सबसे हाल में बना महासागर हुआ. यह 3 करोड़ वर्ष पहले बना था जब अंटार्कटिका और दक्षिण अमेरिका एक-दूसर से अलग हुए थे. टेट का बोलना है कि इस महासागर के बारे में लोगों को अलग से बताया-पढ़ाया नहीं गया तो इसकी जरूरतों, सम्मान और खतरों को समझा नहीं जा सकेगा.


Bigg Boss 14: राखी को हुआ कैप्टन बनने का पछतावा, घरवालों के परेशान करने से टूटी हिम्मत       नेहा पेंडसे ने सीरियल में आने को लेकर तोड़ी चुप्पी, बोलीं...       Bigg Boss 14: निक्की के बिस्तर पर खाना फेंकना सोनाली फोगाट को पड़ा भारी, ट्रोलर्स ने यूं निकाला भाजपा नेता पर गुस्सा       इस एक्ट्रेस की बोल्ड फोटो हुई वायरल, कुर्सी पर बैठकर हॉट पोज देती आईं नजर       Amitabh Bachchan ने किया खुलासा, 14 साल की उम्र में बेटे अभिषेक बच्चन ने दिया था पहला ऑटोग्राफ       2021 में सोने की कीमत होगी 65000 रुपये!       नए साल में UPI ट्रांजैक्शन होगा महंगा?       Jio ने फ्री की सेवा, कस्टमर की हुई बल्ले-बल्ले       महंगा हुआ प्याज, इतने रुपये तक पहुंचा       बैंक आएगा घर! ग्राहकों को मिलेगी ये सभी सुविधाएं, जानें       सेहत के लिए फायदेमंद होता है इसका सेवन       नीम के पत्तों के सेवन से होते हैं ये फायदे, कभी नहीं होता है कैंसर       मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ रहा है कोरोना वायरस के कारण       जलने के बाद अपनाएं ये घरेलू उपाय       लड़कियों के पीरियड्स में दर्द से राहत दिलाती है ये घरेलू उपाय       दिग्गज खिलाड़ियों के बावजूद यूपी की टीम ने झेली हार की हैट्रिक, आगे की राह हुई मुश्किल       सिर्फ चौके-छक्के से बनाए 90 रन,इस धुरंधर ने तोड़ा सबसे तेज महिला टी20 शतक का वर्ल्ड रिकॉर्ड       शिखर धवन नहीं चले फिर भी दिल्ली ने आंध्र को हराकर दर्ज की लगातार दूसरी जीत       फाइनल टेस्ट मैच के दौरान भारतीय टीम को लगा बड़ा झटका!       रोहित शर्मा ने की फिटनेस पर उंगली उठाने वालों की बोलती बंद