युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी

युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी

चीनी सेना ने ताइवान के विरूद्ध प्रॉपगैंडा वॉर छेड़ते हुए धमकियों भरे कई पोस्टर और वीडियो जारी किए हैं. इनमें ताइवान को चीनी भाषा में 'युद्ध के लिए तैयार' रहने की धमकी दी है. इतना ही नहीं, चीनी सैनिकों को हथियारों और जंगी साजोसामान के साथ दिखाया गया है. कई पोस्टरों में मिसाइल, टैंक जैसे हथियारों को लाइव फायर करते हुए भी दिखाया गया है. इन तस्वीरों और वीडियो को पीएलए 80वीं ग्रुप आर्मी के प्रॉपगैंडा विंग ने जारी किया है.

इन पोस्टरों और वीडियोज को चाइना की सोशल मीडिया वीबो और वीचैट पर बहुत ज्यादा बड़ी संख्या में शेयर किया जा रहा है. जिसमें ताइवान को युद्ध के लिए कड़ी चेतावनी दी गई है. ताइवान के समीप स्थित चाइना के शानदोंग प्रांत में तैनात 80वीं ग्रुप आर्मी के जवानों को भी एक ब्रिगेड शपथ ग्रहण कार्यक्रम में भाग लेते दिखाया गया है. इन तस्वीरों में वर्दीधारी चीनी सैनिक मिसाइल, रॉकेट और टैंकों के साथ दिखाई दे रहे हैं.



इस प्रॉपगैंडा तस्वीरों के अनुसार, चीनी सेना के जवानों ने शपथग्रहण कार्यक्रम में 'सभी आज्ञाओं का पालन करने' और 'किसी भी चुनौती से नहीं डरने' की शपथ ली. बताया गया कि सैनिकों ने बोला कि वे मृत्यु के डर के बिना सम्मान से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं. इन पोस्टरों को 80वीं ग्रुप आर्मी पोलिटिकल वर्क्स डिपार्टमेंट ने तैयार किया था. यह डिपार्टमेंट ताइवान से खुफिया सूचनाओं को प्राप्त करने और वहां के लोगों के मन में चाइना के प्रति आदर जगाने के लिए कार्य करता है.



इसी डिपार्टमेंट के जरिए चीनी सेना अपने विरोधी राष्ट्रों के बॉर्डर पर रेडियो स्टेशन चलवाती है. इसके जरिए वह शत्रु राष्ट्रों की संस्कृति में घुसपैठ करने और वहां के लोगों में अपने प्रति नकारात्मकता समाप्त करने की प्रयास करती है. रेडियो के जरिए चीनी सेना कम्युनिस्ट विचारधारा का प्रचार भी करती है. चाइना ने ऐसे ही पांच रेडियो स्टेशन फुजियान प्रांत में स्थापित किया हुआ है, जो ताइवान में लोगों को चाइना के प्रति निष्ठावान बनाने का कार्य करती है.



चीनी सेना ने जो वीडियो जारी किया है, उसमें पैदल सेना, टैंक और रॉकेट के धमाकों के फुटेज भी शामिल हैं. इन वीडियोज को मंडारिन और दक्षिणी मिन बोली में जारी किया गया है. यह दोनों ही ताइवान में बहुत ज्यादा व्यापक रूप से बोली जाती हैं. ताइवान कभी भी चाइना के झंडे के नीचे शासित नहीं रहा है. इसके बावजूद चाइना हमेशा से ही इस देश को अपना भाग बताता रहा है.


अमेरिका के बाद तुर्की के जंगलों में लगी भीषण आग, तीन की मौत

अमेरिका के बाद तुर्की के जंगलों में लगी भीषण आग, तीन की मौत

तुर्की के दक्षिणी हिस्से के जंगलों में आग लगने की दो घटनाओं में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई है, जबकि पांच दर्जन लोग झुलसने से गंभीर रूप से घायल हैं। तुर्की सरकार के आपदा एवं आपात प्रबंधन कार्यालय ने कहा कि आग लगने की घटनाओं से प्रभावित 58 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। अधिकारियों ने अकेसेकी के पास एक रेस्तरां में फंसे 10 लोगों को भी बचाया है। स्‍थानीय प्रशासन ने करीब 20 गांवों को खाली कराया है।

अधिकारियों ने बताया कि इस हफ्ते देश के एजियन और भूमध्यसागरीय तटों पर स्थित 17 प्रांतों में जंगल में आग भड़कने की 60 से अधिक घटनाएं हुई हैं। दमकलकर्मियों की तमाम कोशिशों के बाद 17 जगहों पर आग जारी है। इसके चलते 140 से ज्यादा लोगों को इलाज की जरूरत है। इनकी संपत्ति को भी काफी नुकसान पहुंचा है। अधिकारियों ने बताया कि मानवगाट से 16 किलोमीटर उत्तर पूर्व में स्थित केपेजबेलेनी से फंसे हुए लोगों को जब निकाला जा रहा था, तब एक 82 वर्षीय व्यक्ति मृत पाया गया और मानवगाट से 20 किलोमीटर पूर्व में देगिरमेनली में दो लोग मृत पाए गए। राहत एवं बचाव कार्य में 35 विमान, 457 वाहन और 4,000 कर्मी लगे हुए हैं। मंत्री ने कहा कि आग बुझाने के लिए हमारा संघर्ष जारी रहेगा। जल्द ही आग को बुझा भी लिया जाएगा लेकिन इसके लिए कुछ समय लगेगा।