डोनाल्ड ट्रंप की बढ़ी मुश्किलें; महाभियोग लाने की हुई घोषणा

डोनाल्ड ट्रंप की बढ़ी मुश्किलें; महाभियोग लाने की हुई घोषणा

अमेरिकी राष्ट्रपति के विरूद्ध चल रही महाभियोग (Impechment) जाँच मुद्दे में अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने घोषणा की है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विरूद्ध महाभियोग की प्रक्रिया चलेगी। नैन्सी पेलोसी ने गुरुवार को सदन न्यायपालिका समिति को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के विरूद्ध महाभियोग लाने की घोषणा कर दी है।

पेलोसी ने बोला कि, डोनाल्ड ट्रंप ने "राष्ट्रपति के कार्यों ने संविधान का गंभीर उल्लंघन किया है। " अमेरिकी संसद (प्रतिनिधि सभा) की जाँच समिति की रिपोर्ट का यह निष्कर्ष निकाला था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पद का दुरुपयोग किया। ऐसा उन्होंने 2020 के चुनाव में सियासी फायदा पाने के लिए किया। इस दौरान ट्रंप ने विदेशी सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप करने की प्रयास की। उन पर महाभियोग के तहत कार्रवाई के पर्याप्त प्रमाण हैं।

ट्रंप पर लगाया है यह आरोप
अप्रैल 2019 में डेमोक्रेट सीनेटर एलिजाबेथ वारेन (Elizabeth Warren) ने अमेरिका की प्रतिनिधि सभा से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विरूद्ध महाभियोग की कार्यवाही प्रारम्भ करने की अपील की थी। उन्होंने चुनाव में रूसी हस्तक्षेप की जाँच के नतीजों का हवाला देते हुए यह अपील की थी।

विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मूलर की 22 महीने की जाँच के नतीजों की संशोधित रिपोर्ट जारी होने के एक दिन बाद उन्होंने यह अपील की थी। 400 पृष्ठों से अधिक के दस्तावेज में बोला गया है कि ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान की रूस की हस्तक्षेप की कोशिशों के साथ मिलीभगत नहीं थी लेकिन उसने पाया कि राष्ट्रपति रूस के हथकंडों से लाभ पाकर खुश थे व उन्होंने लगातार मूलर की जाँच को बाधित करने की प्रयास की। वारेन ने बोला था, ‘‘इसका मतलब है कि संसद को अमेरिका के राष्ट्रपति के विरूद्ध महाभियोग की कार्यवाही प्रारम्भ करनी चाहिए। ’’