NSA ओ'ब्रायन ने सैंडर्स के आरोपों को किया खारिज, बोले...       शत्रुघ्न सिन्हा ने PAK राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात, कहा...       मरने वालों की 2,442 हुई संख्या, कोरोना ने निगली कई जिंदगियां       कोरोना से भयभीत हुआ चीन, चिनफिंग बोले...       मोदी के रहते कश्मीर में कुछ नहीं हो सकता : इमरान खान       रेप के बाद नाबालिग ने दिया बेटी को जन्म, फिर किया ये काम       एक दिन के नवजात मासूम को मिली ऐसी सजा, सुनकर हो जाएंगे हैरान       कमरे में अकेली बेटी को देख बिगड़ गई पिता की नियत       मुख्यमंत्री नितीश कुमार का बड़ा बयान, कहा...       संघ प्रमुख डॉ मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा...       विपक्ष पर हमलावर हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया, कहा...       कितनी दूर है दिल्ली से अमेरिका, ट्रंप के दौरे से पहले गूगल पर सर्च कर रहे लोग       इस बार दिल्ली में रामवीर सिंह विधूड़ी को मिला मौका       अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हिन्दी में ट्वीट पर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी बोले...       मनमोहन सिंह ने कहा कि अब तक 9 भारतीय प्रधानमंत्रियों ने किया अमेरिकी दौरा       US प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप भी खाएंगे हरिओम के पान       नियॉन रंग की टाई में दिखें डोनाल्ड ट्रंप, सफेद रंग के जंपसूट में हिंदुस्तान पहुंची मेलानिया ट्रंप       ओबामा को परोसी गई थी ये फिश, ट्राउट का स्वाद नहीं चख पाएंगे ट्रंप       आज के दिन श्रीदेवी ने संसार को किया था अलविदा       बिग बॉस 13 से निकलते ही जमकर प्रसिद्ध हुए आसिम रियाज      

परमाणु करार को लेकर ईरान का साफ़ बयान, कहा...

परमाणु करार को लेकर ईरान का साफ़ बयान, कहा...

नई दिल्ली/तेहरान: ईरान के उप विदेश मंत्री अब्बास अराक्ची ने बोला है कि 2015 ईरान परमाणु करार के भीतर अपनी प्रतिबद्धताओं को कम करने के बाद भी ईरान की इस करार से अलग होने की कोई योजना नहीं है। खबर एजेंसी तसनीम ने इस सम्बन्ध में जानकारी दी है। खबर एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, टोक्यो में जापान के विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोटेगी के साथ बैठक के दौरान अराक्ची ने कहा, 'इस्लामिक गणराज्य ने अपनी प्रतिबद्धताएं कम करने का निर्णय किया है, क्योंकि यूरोपीय देश करार के भीतर ईरान के आर्थिक हितों की रक्षा करने की अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा नहीं कर सके। '

बता दें कि इस समझौते को जॉइंट कंप्रिहेंसिव प्लान ऑफ एक्शन (JCPOA) के नाम से जाना जाता है। ईरान के वरिष्ठ परमाणु वार्ताकार की किरदार निभा चुके अराक्ची ने बोला कि, 'हमारा मकसद JCPOA से अलग होना नहीं है। यदि अमेरका प्रतिबंध हटा दे व ईरान को समझौते का लाभ मिलने लगे तो हम JCPOA की प्रतिबद्धताओं का पालन करने लगेंगे। '

मई 2018 में अमेरिका के JCPOA से अलग होने व इस्लामिक गणराज्य पर दोबारा बैन लगाने के व ईरान के बैंकिंग लेन-देन व उसके ऑयल निर्यात को सुगम बनाने में यूरोपीय राष्ट्रों की सुस्ती के उत्तर में ईरान ने जेसीपीओए के भीतर की गई अपनी प्रतिबद्धताओं को खत्म कर दिया था।


शत्रुघ्न सिन्हा ने PAK राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात, कहा...

शत्रुघ्न सिन्हा ने PAK राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात, कहा...

नई दिल्ली/इस्लामाबाद: पाक ( Pakistan ) के साथ तल्ख रिश्तों के बीच कांग्रेसी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ( Congress leader Shatrughan Sinha ) के पाक यात्रा पर सियासी संग्राम प्रारम्भ हो गया है. हालांकि शत्रुघ्न सिन्हा ने इस पाक दौरे को व्यक्तिगत बताया है.

अपने पाक यात्रा पर शत्रुघ्न सिन्हा ने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ( President Arif Alvi ) से मुलाकात की. इस बीच कई मुद्दों पर चर्चा भी की. इसको लेकर उठते सवालों के बीच एक बयान जारी करते हुए उन्होंने बोला कि अल्वी के साथ उनकी एक व्यक्तिगत मुलाकात थी. हम दोनों के बीच किसी भी तरह से कोई सियासी चर्चा नहीं हुई.

बता दें कि दो दिन के लिए पाक गए शत्रुघ्न सिन्हा को लाहौर में एक विवाह समारोह में शामिल देखकर सवाल उठने प्रारम्भ हो गए. हालांकि शादी समारोह में उपस्थित लोग उस वक्त दंग रह गए जब सभी ने अपने बीच शत्रुघ्न सिन्हा को देखा.

सोशल मीडिया पर छाई शत्रुघ्न के पाकिस्तान यात्रा की तस्वीर

शत्रुघ्न सिन्हा ने बोला कि वे अपने दोस्तों, शुभचिंतकों, समर्थकों व मीडिया से बोलना चाहते हैं कि एक आदमी को विदेशी जमीन पर राजनीत अथवा नीतिगत मुद्दों पर तब तक चर्चा नहीं करनी चाहिए जब तक उसे इस कार्य के लिए सरकार से अधिकृत नहीं किया गया हो. वे पर्सनल तौर पर अपने मित्र के बेटे की विवाह में शामिल होने गए थे.

आपको बता दें कि जब ये फोटोज़ सामने आई कि शत्रुघ्न सिन्हा पाक गए हैं, तो देखते ही देखते सोशल मीडिया पर फोटोज़ छा गई. सियासी गलियों में चर्चाएं प्रारम्भ हो गई. विवाह समारोह में शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तानी एक्ट्रेस रीमा खान के साथ दिखे. दोनों की ये फोटोज़ भी मीडिया में छाई रही.

मालूम हो कि शत्रुघ्न सिन्हा इससे पहले भी राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के पारिवारिक प्रोग्राम में शामिल हो चुके हैं.

गौरतलब है कि इससे पहले जब कांग्रेस पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए पाक पहुंचे थे, तो इसको लेकर भी बहुत ज्यादा टकराव हुआ था. उस समय सिद्धू ने बोला था कि वे अपने दोस्त इमरान खान से मिलने गए हैं.

Loading...