आतंकी हमले में छात्र-छात्राओं को बनाया गया निशाना

आतंकी हमले में छात्र-छात्राओं को बनाया गया निशाना

भारत गवर्नमेंट ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की है ये आतंकवादी हमला दश्त-ए-बारची स्थित शैक्षिक संस्थान पर हुए था, जहां विद्यार्थी परीक्षा देने आए थे अधिकांश विद्यार्थी हजारा समुदाय के थे हजारा समुदाय अफगानिस्तान में अल्पसंख्यक माना जाता है और वहां हजारा समुदाय को निशाना बनाकर कई बड़े आतंकी हमले हो चुके हैं इस हमले की जिम्मेदारी किस संगठन ने ली, ये साफ नहीं हो पाया है लेकिन बताया जा रहा है कि तालिबान के सत्ता में आने के बाद अभी आईएस की खुरासान शाखा अफगानिस्तान में काफी एक्टिव है अधिकांश आतंकवादी हमलों की जिम्मेदारी अभी तक आईएस ने ही ली है

निर्दोषों को न बनाया जाए निशाना

भारत गवर्नमेंट के विदेश मामलों के मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोला कि हम काबुल के दश्त-ए-बारची में कल हुए आतंकी हमले से दुखी हैं हमारी संवेदनाएं पीड़ितों के परिवारों के साथ है अरिंदम बागची ने आगे बोला कि शिक्षण संस्थाओं के बेगुनाह विद्यार्थियों को लगातeर निशाना बनाए जाने की हिंदुस्तान गवर्नमेंट कड़ी निंदा करती है 

 

बता दें कि इस आतंकी हमले में 20 से अधिक लोगों की मृत्यु हो गई, जिसमें से अधिकांश छात्र-छात्राएं थी ये सभी छात्र-छात्राएं परीक्षा देने पहुंचे थे इस हमले में कुछ शिक्षकों और सुरक्षाकर्मियों की भी मौतें हुई हैं