जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...       कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'       PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...       कोरोना वायरस के मद्देनजर नेवी में भर्ती पर रोक, एडमिरल करमबीर सिंह बोले...       कोरोना से जंग में लगे पुलिसवालों को मिलेगा 30 लाख का कवर, हरियाणा सरकार बड़ा फैसला!       केरल में COVID-19 वार्ड से पकड़ी गई पांच बिल्लियों की मौत       कोरोना वॉरियर की जान गई तो परिवार को 10 लाख रुपये देगी सरकार       चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि उद्धव ठाकरे को एमएलसी मनोनीत नहीं कर सकते राज्यपाल       OMG! सुपरहीरो बनकर कोरोनावायरस को हराना चाहती हैं ये मॉडल , अंग-अंग दिखाती आई नजर       TV एक्ट्रेस अपने सेक्सी फ़िगर से मचा रही है धमाल, हुस्न का दीदार करते रहे लोग       पीएम मोदी की अपील पर इस मॉडल ने ब्रा और पेंटी पहनकर जलाई मोमबत्तियां, जीत लिया सबका दिल       लॉकडाउन से बोर होकर इस एक्ट्रेस ने शेयर की अपनी कामुक तस्वीरे, जिसे देख दीवाने हुए फैंस       लॉकडाउन के दौरान इस एक्ट्रेस ने की ऑनलाउन चैट शो की शुरुआत       कोरोना की लड़ाई में आखिर शाहरुख खान भी आये आगे       लॉकडाउन के बीच उर्वशी ने दिखया अपना हॉट अवतार       'छोटी सरदारनी' के अमल सेहरावत ने कहा...       OMG!आसिम रियाज ने इस एक्ट्रेस के लिए साझा किया रोमांटिक पोस्ट!       तैमूर ने अपनी मां करीना के लिए बनाया पास्ता नेकलेस       एक कप कॉफी के ये हेल्थ बेनीफिट्स नहीं जानते होंगे आप, जानें       Coronavirus: क्या पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?, जानें      

मोदी के रहते कश्मीर में कुछ नहीं हो सकता : इमरान खान

मोदी के रहते कश्मीर में कुछ नहीं हो सकता : इमरान खान

नई दिल्ली/इस्लामाबाद: ऐसा लग रहा है कि पाक के पीएम इमरान खान ने कश्मीर मुद्दे को लेकर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के सामने आत्म समर्पण कर दिया है. इमरान का मानना है कि मोदी के रहते कश्मीर का कुछ नहीं हो सकता. बता दें कि गत साल जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से पाक तिलमिलाया हुआ है. इमरान ने तक़रीबन हर बड़े मंच पर कश्मीर का मामला उठाया है. मगर उन्हें हर स्थान झटका लगा है.

बेल्जियम के एक टीवी चैनल के साथ बात करते हुए इमरान खान ने बोला कि, 'मुझे हिंदुस्तान के इस सरकार से अधिक उम्मीद नहीं है. जब तक प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी है तब तक कुछ नहीं हो सकता. मगर मुझे उम्मीद है कि भविष्य में कोई सशक्त नेता कश्मीर के मामले को जरूर सुलझाएगा. हर समस्या का निराकरण होता है. स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान हिंदुस्तान के नेता जवाहर लाल नेहरू ने कश्मीरियों को अधिकार देने का वादा किया था. किन्तु उन्हें ये अधिकार नहीं दिए गए.'

पाकिस्‍तान अगस्‍त 2019 में जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा-370 हटाने के बाद से बौखलाया हुआ है. सबसे पहले उसने हिंदुस्तान सरकार के निर्णय का विरोध किया. इसके बाद हिंदुस्तान से राजनयिक संबंधों को कम करना प्रारम्भ कर दिया. इसी कड़ी में उसने पाकिस्‍तान में भारतीय उच्‍चायुक्‍त को नयी दिल्‍ली लौटने का आदेश भी दे दिया था. इसके साथ ही पाक कई दफा हिंदुस्तान को परमाणु युद्ध की धमकी भी दे चुका है, लेकिन हर तरफ से मुंह की खाने के बाद अब इमरान खान नरम पड़ गए हैं.


अमेरिका के सुरों में चाइना के प्रति आया बदलाव

अमेरिका के सुरों में चाइना के प्रति आया बदलाव

नई दिल्ली/वाशिंगटन: एकाएक बढ़ा ही जा रहा कोरोना का प्रकोप आज पूरी संसार के लिए महामारी का रूप लेता रहा है। वही इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 88000 से अधिक मौते हो चुकी है। लेकिन अब भी यह मृत्यु का खेल थमा नहीं है। इस वायरस ने आज पूरी संसार को हिला कर रख दिया है। कई राष्ट्रों के अस्पतालों में बेड भी नहीं बचे है तो कही खुद डाक्टर इस वायरस का शिकार बनते जा रहें है। वहीं कोविड 19 को चीनी वायरस बताने वाले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के सुरों में चाइना को लेकर दिखाई देने वाली आक्रामकता अब आकस्मित खत्‍म हो गई है। चाइना के राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग के साथ बात करने के बाद यह बदलाव दिखाई दिया है। इसके बाद सेक्रेट्री ऑफ स्‍टेट माइक पोंपेइ ने बोला कि कोरोना वायरस की समस्‍या वैश्विक समस्‍या है। इस वक्‍त आवश्यकता है कि सभी देश एक साथ मिलकर इसको खत्‍म करने के लिए कार्य करें। उन्‍होंने ये बयान चाइना के संदर्भ में पूछे गए एक सवाल के जवाब में दिया था।

मिली जानकारी के अनुसार मार्च को राष्‍ट्रपति ट्रंप ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कोरोना वायरस का चीनी वायरस का नाम दिया था। उन्‍होंने बोला था कि चाइना ने इसको पूरी संसार में फैलाने का कार्य किया है। इसके बाद चाइना ने भी जवाबी हमला कहा था। ये सिलसिला लगातार बहुत ज्यादा दिनों तक चलता रहा था। इतना ही नहीं जब चाइना के व्यक्तिगत प्रोटेक्टिव इक्‍यूपमेंट में कमी की बात कहकर उनको वापस किया जाने लगा तब भी चाइना ने इसको लेकर अमेरिका पर उसके विरूद्ध साजिश रचने का आरोप लगाया था। जहां तक ट्रंप की बात है तो वो जो शब्‍द अपने बयानों में इस्‍तेमाल करते हैं उसको अब पूरी संसार जान चुकी है। चीनी वायरस का जिक्र उन्‍होंने केवल एक बार नहीं बल्कि कई बार किया था। लेकिन वैसे अब दोनों ही नेता इसको तूल नहीं देना चाहते हैं।

गौरतलब है कि इस वायरस को लेकर जहां अमेरिका ने चाइना पर आरोप लगाया था वहीं चाइना ने भी अमेरिका पर दोषारोपण किया था। चाइना की तरफ से बोला गया था कि अमेरिका ने साजिश के तौर पर इस वायरस को चाइना के वुहान में फैलाया था। के मुताबिक अमेरिका में उपस्थित चाइना के राजदूत क्‍यूई तियानकई का इस विषय में दिया गया बयान बेहद सियासी था। उन्‍होंने विदेशी मीडिया से वार्ता के दौरान चाइना के अमेरिका के प्रति प्रेम की बात की व बोला कि चाइना अमेरिका के हित के लिए हर संभव प्रयास करेगा।