संसार के सबसे शक्तिशाली 'पहाड़' से टकराना चाहता है ईरान, पड़ोसी राष्ट्रों से कहा...

संसार के सबसे शक्तिशाली 'पहाड़' से टकराना चाहता है ईरान, पड़ोसी राष्ट्रों से कहा...

नई दिल्ली: इराकी एयरबेस पर अमेरिकी सैन्‍य ठिकानों पर रॉकेट हमले के बाद अमेरिका व ईरान के बीच तनाव चरम पर है। लंबे समय से प्रतिद्वंद्वी रहे अमेरिका व ईरान के बीच तनाव के बीच युद्ध छिड़ने की भी संभावना जताई जा रही है। इसी बीच ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनी ने क्षेत्रीय राष्ट्रों में योगदान बढ़ाने का आग्रह किया है। खबर एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, कतर के धनी शेख तमीम बिन हमद अल थानी के साथ मीटिंग के दौरान खामेनी ने कहा, "क्षेत्र की वर्तमान स्थिति विदेशियों पर निर्भरता से बचने के लिए क्षेत्रीय योगदान को जरूरत बनाती है। "

उन्होंने बोला कि ईरान ने बार-बार घोषणा की है कि वह क्षेत्रीय राष्ट्रों में घनिष्ठ योगदान बढ़ाने के लिए तैयार है। खामेनी ने ईरान व कतर के बीच आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देने का भी आग्रह किया है। कतर के धनी शेख ने कहा, "हम भी क्षेत्रीय राष्ट्रों में योगदान बढ़ाने के आपके विचार से सहमत हैं व मानते हैं कि क्षेत्रीय राष्ट्रों के बीच व्यापक बातचीत होनी चाहिए। "

पिछले कुछ वर्षों में कुछ अरब राष्ट्रों द्वारा प्रतिबंध लगाने पर कतर को ईरान से समर्थन मिलने के लिए उन्होंने खामेनी का आभार जताया।

अमेरिका व ईरान की जंग रोकेगा भारत?
इसके पहले ईरान ने बोला था कि संसार में शांति बनाए रखने में हिंदुस्तान की अहम किरदार रहती है इसलिए ईरान ने हिंदुस्तान से मदद की गुहार लगाई है। हिंदुस्तान में ईरान के राजदूत अली चेगेनी ने के मुताबिक अमेरिका के साथ तनाव कम करने में अगर हिंदुस्तान की तरफ से कदम उठाया जाता है तो ईरान उसका स्वागत करेगा।

भारत में ईरान के राजदूत अली चेगेनी ने ट्विटर पर लिखा है 'हम युद्ध नहीं चाहते हैं, हम क्षेत्र में सभी लोगों के लिए शांति व समृद्धि चाहते हैं। हम हिंदुस्तान के किसी भी कदम व परियोजना का स्वागत करते हैं जो संसार में शांति व समृद्धि लाने में मददगार हो। '