दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं

दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं

जिनेवा: स्विट्जरलैंड के ऑफिसरों ने रूस (Russia) के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के बीच अगले सप्ताह होने वाली शिखर बातचीत (Biden-Putin Summit) के दौरान अलावा सुरक्षा के लिए जिनेवा (Geneva) शहर के एयर जोन को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित करने और इलाके में 3,000 सैनिकों तथा पुलिसवालों को तैनात करने की योजना बनाई है

स्विट्जरलैंड की सात सदस्यीय कार्यकारी संस्था संघीय परिषद (Federal Council) ने शुक्रवार को अस्थायी कदमों को स्वीकृति दी जिसमें बुधवार को होने वाली शिखर बातचीत के दौरान देश की वायु सेना द्वारा वायु क्षेत्र की नज़र करना और 1,000 सैनिकों को तैनात करना शामिल है

स्विट्जरलैंड के संघीय रक्षा विभाग ने एक बयान में कहा, ‘उन लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करना स्विट्जरलैंड (Switzerland) की जिम्मेदारी है जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार विशेष सुरक्षा मिली है जैसे कि अमेरिका और रूस के राष्ट्राध्यक्षों के विशेष सिक्योरिटी प्रोटोकॉल की हमने पूरी तैयारियां की हैं '

बताते चलें कि मंगलवार प्रातः काल 8 बजे से गुरुवार शाम 5 बजे तक रहने वाली इस पाबंदी से जिनेवा से उड़ान भरने वाले और यहां आने वाले विमानों की आवाजाही पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा वहीं दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच ये मुलाकात एक 18वीं सदी के प्राचीन विला में हो रही है इसके लिए विला को रिपेयर किया जा रहा है वहीं पूरे शहर में गाड़ियों की सघन तलाशी का अभियान चल रहा है

जिनेवा पुलिस विभाग की कमांडर कर्नल मोनिका बोनफांती ने शिखर बातचीत स्थल के बाहर संवाददाता सम्मेलन में बोला कि स्विट्जरलैंड के अन्य क्षेत्रों से 900 अलावा पुलिस ऑफिसरों को बुलाया जाएगा संघीय पुलिस ऑफिस के उप निदेशक स्टीफन थीमर ने बताया कि उनके ऑफिस को खतरे का कोई इशारा नहीं मिला है

इसके साथ ही उन्होंने ये भी बोला कि स्विट्जरलैंड और यूरोप (Europe) में आतंकी खतरा अधिक रहता है इसलिए हम किसी भी तरह की कोई गलती नहीं होने देंगे

रक्षा विभाग ने बताया कि अलावा सैनिक विदेशी दूतों की रक्षा करेंगे और जिनेवा की क्षेत्रीय पुलिस को योगदान देंगे लोकल प्राधिकारियों ने बृहस्पतिवार को घोषणा की कि बाइडन की राष्ट्रपति के तौर पर पहली विदेश यात्रा के अनुसार होने वाली यह शिखर बातचीत 18वीं सदी के एक मैनर हाउस में होगी


अमेरिका के बाद तुर्की के जंगलों में लगी भीषण आग, तीन की मौत

अमेरिका के बाद तुर्की के जंगलों में लगी भीषण आग, तीन की मौत

तुर्की के दक्षिणी हिस्से के जंगलों में आग लगने की दो घटनाओं में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई है, जबकि पांच दर्जन लोग झुलसने से गंभीर रूप से घायल हैं। तुर्की सरकार के आपदा एवं आपात प्रबंधन कार्यालय ने कहा कि आग लगने की घटनाओं से प्रभावित 58 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। अधिकारियों ने अकेसेकी के पास एक रेस्तरां में फंसे 10 लोगों को भी बचाया है। स्‍थानीय प्रशासन ने करीब 20 गांवों को खाली कराया है।

अधिकारियों ने बताया कि इस हफ्ते देश के एजियन और भूमध्यसागरीय तटों पर स्थित 17 प्रांतों में जंगल में आग भड़कने की 60 से अधिक घटनाएं हुई हैं। दमकलकर्मियों की तमाम कोशिशों के बाद 17 जगहों पर आग जारी है। इसके चलते 140 से ज्यादा लोगों को इलाज की जरूरत है। इनकी संपत्ति को भी काफी नुकसान पहुंचा है। अधिकारियों ने बताया कि मानवगाट से 16 किलोमीटर उत्तर पूर्व में स्थित केपेजबेलेनी से फंसे हुए लोगों को जब निकाला जा रहा था, तब एक 82 वर्षीय व्यक्ति मृत पाया गया और मानवगाट से 20 किलोमीटर पूर्व में देगिरमेनली में दो लोग मृत पाए गए। राहत एवं बचाव कार्य में 35 विमान, 457 वाहन और 4,000 कर्मी लगे हुए हैं। मंत्री ने कहा कि आग बुझाने के लिए हमारा संघर्ष जारी रहेगा। जल्द ही आग को बुझा भी लिया जाएगा लेकिन इसके लिए कुछ समय लगेगा।