पाक में सरकारी संस्था ईटीपीबी को मिला हिंदुओं के प्रमुख धर्म स्‍थल कटास राज मंदिर का नियंत्रण

पाक में सरकारी संस्था ईटीपीबी को मिला हिंदुओं के प्रमुख धर्म स्‍थल कटास राज मंदिर का नियंत्रण

पाकिस्तान में हिंदुओं के प्रख्यात कटास राज मंदिर का प्रशासनिक नियंत्रण सरकारी संस्था इवाक्यू ट्रस्ट प्रोपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के हाथों में चला गया है। यह संस्था देश के सभी अल्पसंख्यक समुदायों के धर्मस्थलों पर प्रशासनिक नियंत्रण के लिए गठित हुई है। भगवान शिव के इस मंदिर में दर्शन के लिए भारत से हर साल जनवरी और नवंबर के महीनों में हिंदुओं के समूह पाकिस्तान जाते हैं।

कटास राज मंदिर पाकिस्तान में बसे हिंदुओं के सबसे प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। यह मंदिर पंजाब प्रांत में कटास नाम के बड़े तालाब के बीच में बना हुआ है। इस तालाब के पवित्र जल को लेकर भी काफी मान्यताएं हैं। पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद कटास राज मंदिर का प्रशासनिक नियंत्रण ईटीपीबी को मिला है। पहले मंदिर का नियंत्रण पंजाब सरकार के पास था।

प्रांतीय सरकार के पास 15 साल तक मंदिर का प्रशासनिक नियंत्रण रहने के बाद शनिवार को हुए समारोह में अधिकारों का हस्तांतरण हुआ। रविवार को यह जानकारी ईटीपीबी के डिप्टी डायरेक्टर फराज अब्बास ने मीडिया को दी। अब्बास मंदिर के प्रशासक बनाए गए हैं। अब्बास ने बताया कि जल्द ही कटास राज मंदिर परिसर में बने सात अन्य छोटे मंदिरों की मरम्मत और उन्हें बेहतर स्वरूप देने के लिए कार्य शुरू किया जाएगा। इसके लिए प्रक्रिया अगले हफ्ते से शुरू हो जाएगी।


मरम्मत और पुनर्निर्माण का कार्य उन मंदिरों के ऐतिहासिक और धार्मिक मूल स्वरूप को बरकरार रखते हुए होगा। अगले हफ्ते से ही मंदिर परिसर की व्यापक सफाई का कार्य शुरू होगा। साथ ही मंदिर की ओर जाने वाली सड़कों पर जानकारियों से संबंधित साइन बोर्ड भी लगने शुरू हो जाएंगे। अब्बास ने बताया कि मंदिर परिसर में कुछ समय पहले टूटे छोटे पुल का निर्माण भी जल्द शुरू होगा।

इससे पहले परवेज मुशर्रफ सरकार ने 2006 में कटास राज मंदिर का प्रशासनिक नियंत्रण ईटीपीबी से लेकर पंजाब सरकार को दे दिया था। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट में गया और फरवरी में कोर्ट ने ईटीपीबी को मंदिर का नियंत्रण देने का आदेश पारित किया।


काबुल के स्कूल में हुए बम धमाके में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हुई

काबुल के स्कूल में हुए बम धमाके में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हुई

काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी में गर्ल स्कूल में किए गए भीषण बम धमाके में मृतक संख्या बढ़कर 50 हो गई है गृह मंत्रालय ने बताया कि मरने वालों में अधिकांश 11 से 15 वर्ष की लड़कियां हैं पीड़ित परिजनों ने रविवार को अपने प्रियजनों को सुपुर्दे खाक कर दिया हिंदुस्तान ने इस हमले की निंदा की है

विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में बोला गया कि हिंदुस्तान इस हमले की कड़ी निंदा करता है बयान में बोला गया कि हिंदुस्तान हमेशा से अफगानिस्तान के युवाओं की एजुकेशन का समर्थन किया है और इसे आगे भी जारी रखेगा हिंदुस्तान ने पीड़ितों के परिवारों के प्रति संवेदना जताई और आतंकवाद को समाप्त करने का आह्वान किया

वहीं अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि तारिक अरियान ने बताया कि शनिवार के इस हमले में घायलों की संख्या भी 100 के पार हो गई है राजधानी के पश्चिमी इलाके दश्त-ए-बरची में जब परिजन मृतकों को दफना रहे थे तो उनके भीतर दुख के साथ ही आक्रोश भी था

मोहम्मद बारीक अलीज़ादा (41) ने कहा, “ सरकार घटना के बाद प्रतिक्रिया देती है वह घटना से पहले कुछ नहीं करती है ” अलीज़ादा की सैयद अल-शाहदा स्कूल में 11वीं कक्षा में पढ़ने वाली भतीजी लतीफा की हमले में मृत्यु हुई है अरियान ने बताया कि स्कूल की छुट्टी होने के बाद विद्यार्थी जब बाहर निकल रहे थे तब स्कूल के प्रवेश द्वार के बाहर तीन धमाके हुए

ये धमाके राजधानी के पश्चिम में स्थित शिया बहुल इलाके में हुए हैं तालिबान ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है और घटना की निंदा की है अरियान ने बताया कि पहला धमाका विस्फोटकों से लदे एक वाहन से किया गया जिसके बाद दो और धमाके हुए साथ ही उन्होंने बोला कि हताहतों की संख्या अब भी बढ़ सकती है

निरंतर बम धमाकों से दहली रहने वाली राजधानी में शनिवार को हुआ हमला अब तक का सबसे निर्मम हमला है अमेरिकी और नाटो बलों की आखिरी टुकड़ियों की अफगानिस्तान से वापसी प्रक्रिया पूरी करने के बीच सुरक्षा के अभाव और अधिक हिंसा बढ़ने के डर को लेकर आलोचनाएं तेज होती जा रही हैं

इन हमलों में पश्चिमी दश्त-ए-बरची इलाके के हाजरा समुदाय को निशाना बनाया गया जहां ये धमाके किए गए वहां अधिकतर हाजरा शिया मुसलमान हैं यह क्षेत्र अल्पसंख्यक शिया मुसलमानों को निशाना बनाकर किए जाने वाले हमलों के लिये कुख्यात है और इन हमलों की जिम्मेदारी अक्सर देश में सक्रिय इस्लामिक स्टेट से संबद्ध संगठन लेते हैं शनिवार को हुए धमाकों की जिम्मेदारी अब तक किसी ने नहीं ली है

कट्टर सुन्नी मुस्लिम समूह ने अफगानिस्तान के शिया मुस्लिमों के विरूद्ध जंग की घोषणा की है इसी इलाके में पिछले वर्ष जच्चा बच्चा हॉस्पिटल में हुए क्रूर हमले के लिए अमेरिका ने आईएस को उत्तरदायी ठहराया था जिसमें गर्भवती महिलाएं और नवजात शिशु मारे गए थे

स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रतिनिधि अधीन दस्तीगार नाज़री ने बोला कि बम धमाकों के बाद, गुस्साई भीड़ ने एंबुलेंसों और यहां तक कि स्वास्थ्य कर्मियों पर भी हमला किया जो घायलों को निकालने की प्रयास कर रहे थे उन्होंने निवासियों से योगदान करने और एम्बुलेंसों को घटनास्थल पर जाने देने की अपील की अरियान ने हमले के लिए तालिबान को उत्तरदायी ठहराया है, बावजूद इसके कि उसने इससे मना किया है

सईद अल शाहदा स्कूल के बाहर खून से सने स्कूल बैग और किताबें बिखरी पड़ीं थी प्रातः काल में, इस विशाल स्कूल परिसर में लड़के पढ़ते हैं और दोपहर में लड़कियों के लिये कक्षाएं चलती हैं रविवार को दश्त-ए-बरची के हजारा समुदाय के नेताओं ने मीटिंग की और जातीय हजारा समुदाय की सुरक्षा में सरकार की नाकामी पर हताशा जताई और समुदाय का एक सुरक्षा बल बनाने का निर्णय किया

सांसद अधीन हुसैन नसेरी ने बोला कि बल को स्कूलों, मस्जिदों और सार्वजनिक प्रतिष्ठानों के बाहर तैनात किया जाएगा और वे सरकारी सुरक्षा बलों से योगदान करेंगे हमले के बाद, अधिकांश जख्मियों को युद्ध में घायलों के लिए बने इमरजेंसी हॉस्पिटल ले जाया गया अफगानिस्तान में हॉस्पिटल प्रोग्राम के समन्वयक मैक्रों पुनतिन ने बोला कि सभी लड़कियां 12 से 20 साल की आयु की थीं


साइबर हमले के बाद अमरीकी फ्यूल पाइपलाइन जल्द हो सकती है शुरू       भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...       नगालैंड और तेलंगाना सरकार ने लिया संपूर्ण लॉकडाउन का फैसला!       सना मकबूल ने मनोकिनी में शेयर की कातिलाना फोटोज, तस्वीरों ने लूटा फैंस का दिल       शेफाली जरीवाला ने ट्रांसपेरेंट टॉप में दिखाईं ग्लैमरस अदाएं, देखें फोटोज       ये है दुनिया का सबसे अनोखा रेस्टोरेंट, हवा में ले सकते हैं खाना खाने का आनंद       अपने चेहरे को चमकदार और खूबसूरत बनाये रखने के लिए अपनाएं ये देसी तरीके       लम्बे समय तक ब्यूटीफुल और यंग दिखने के लिए फॉलो करें ये टिप्स       आखिर महिलाएं रोमांस के लिए क्यों करती है सर्दियों का इंतजार       अलाना पांडे के बोल्ड बिकिनी अवतार ने गर्माया इंस्टा का माहौल       अगर पैसे कमाने के बावजूद घर में नहीं टिकता है पैसा, तो...