हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत

हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत

भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 24 घंटे में दो लाख के पार तक पहुंच चुकी है। ऐसे में मेडिकल जनरल 'द लांसेट' में छपे एक आंकलन में इस बात के ठोस सबूत मिले हैं कि कोरोना वायरस मुख्य रूप से हवा के जरिए फैलता है।

इंग्लैंड, अमेरिका, कनाडा के 6 एक्सपर्ट के मुताबिक जो पब्लिक हेल्थ से जुड़े कदम उठाए जा रहे हैं, उनमें वायरस  को मुख्य रूप से एयरबोर्न की तरह नहीं माना जा रहा है और इसकी वजह से लोग असुरक्षित हैं। वायरस तेजी से फैल सकता है।

जो मिला विशेषज्ञ को
विशेषज्ञों की टीम ने वायरस के हवा से फैलने को लेकर कई सबूत पेश किए हैं। उनकी सबूतों की लिस्ट में टॉप पर स्कैगिट चोइर आउटब्रेक जैसे सुपर स्प्लेंडर इवेंट हैं। इस इवेंट में एक संक्रमित केस से 53 लोग संक्रमित हुए थे। अध्ययन से पुष्टि हुई है कि ऐसे आयोजन का स्पष्टीकरण करीबी संपर्क या सहत या चीजों को छूने से नहीं दिया जा सकता। 

टीम ने जो सबूत दिए
टीम ने उस रिसर्च पर जोर दिया जिसमें अनुमान लगाया गया कि जो लोग खांस और छींक नहीं रहे हैं उनसे साइलेंट ट्रांसमिशन (बिना लक्षण या लक्षण देखने से पहले की स्थिति) में कुल ट्रांसमिशन का 40 फीसदी तक है। आंकलन के मुताबिक दुनिया भर में कोविड संक्रमण फैलने में सबसे बड़ी भूमिका साइलेंट ट्रांसमिशन की है और यह मुख्य रूप से एयरबोर्न ट्रांसमिशन के संकेत देता है।

शोधकर्ताओं ने उन लोगों के बीच वायरस ट्रांसमिशन का भी केस रखा जो होटलों के करीबी कमरों में थे और कभी एक दूसरे के संपर्क में नहीं आए। टीम को इस मामले में कोई सबूत नहीं मिला कि वायरस बड़ी ड्रॉपलेट्स से आसानी से फैल जाता है। जो कि हवा से जल्दी गिर जाती है और लोगों को संक्रमित करती है।

बंद जगह पर ज्यादा संक्रमण
रिसर्च में बताया गया है कि खुली जगहों की बजाय बंद जगहों में संक्रमण ज्यादा तेजी से फैलता है। बंद जगहों को हवादार बनाकर संक्रमण के प्रसार को कम किया जा सकता है। 


डॉक्‍टर एंथनी फाउची ने कहा कि कोविड-19 महात्रासदी से जूझ रहा भारत, व्‍यापक टीकाकरण एकमात्र हल

डॉक्‍टर एंथनी फाउची ने कहा कि कोविड-19 महात्रासदी से जूझ रहा भारत, व्‍यापक टीकाकरण एकमात्र हल

अमेरिका के सबसे बड़े संक्रामक रोग जानकार डॉक्‍टर एंथनी फाउची ने बोला है कि हिंदुस्तान कोविड-19 वायरस महामारी के कहर से जूझ रहा है और दुनिया के अन्‍य राष्ट्रों को सहायता के लिए आगे आना चाहिए. फाउची ने बोला कि हिंदुस्तान अस्‍पताल के बिस्‍तरों, ऑक्‍सीजन की कमी, पीपीई किट और अन्‍य चिकित्‍सा उपकरणों की कमी से जूझ रहा है और अमेरिका जैसे राष्ट्रों की इसमें सहायता करनी चाहिए. उन्‍होंने बोला कि इस महासंकट से उबरने के लिए एकमात्र दीर्घकालिक तरीका बड़े पैमाने पर लोगों का टीकाकरण है.

डॉक्‍टर फाउची का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब शनिवार को आधिकारिक आंकड़े के अनुसार इस महामारी से 4 हजार लोगों की मृत्यु हो गई. उन्होंने इस खतरनाक महामारी से निपटने के लिए घरेलू एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-रोधी टीके के उत्पादन को बढ़ाने पर जोर दिया. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रमुख चिकित्सा सलाहकार फाउची ने एबीसी न्यूज को दिए इंटरव्यू में कहा, 'इस महामारी का पूरी तरह से खात्मा करने के लिए लोगों का टीकाकरण किया जाना चाहिए.'


'टीका निर्माण के लिए हिंदुस्तान को सहायता देनी चाहिए'
फाउची ने बोला कि हिंदुस्तान दुनिया का सबसे बड़ा टीका निर्माता देश है. उन्हें अपने संसाधन मिल रहे हैं, न केवल भीतर से, बल्कि बाहर से भी. उन्होंने कहा, 'यही कारण है कि अन्य राष्ट्रों को या तो हिंदुस्तान को उनके यहां टीका निर्माण के लिए सहायता देनी चाहिए अथवा टीके दान देने चाहिए.' डाक्टर फाउची ने एक प्रश्न के उत्तर में बोला कि हिंदुस्तान को तत्काल अस्थायी हॉस्पिटल बनाने की आवश्यकता है, जिस तरह करीब एक वर्ष पहले चाइना ने किया था.

उन्होंने कहा, 'आपको ऐसा करना ही होगा. आप हॉस्पिटल में बिस्‍तर नहीं होने पर लोगों को गलियों में नहीं छोड़ सकते. ऑक्सीजन के दशा बहुत गम्भीर हैं. मेरा मतलब है कि लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पाना वास्तव में दुखद है.' फाउची ने बोला कि तात्कालिक तौर पर हॉस्पिटल के बिस्तरों, ऑक्सीजन, पीपीई किट और अन्य चिकित्सा आपूर्ति की समस्या है. उन्होंने वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए देशव्यापी लॉकडाउन की आवश्यकता पर भी जोर दिया.


भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...       नगालैंड और तेलंगाना सरकार ने लिया संपूर्ण लॉकडाउन का फैसला!       सना मकबूल ने मनोकिनी में शेयर की कातिलाना फोटोज, तस्वीरों ने लूटा फैंस का दिल       शेफाली जरीवाला ने ट्रांसपेरेंट टॉप में दिखाईं ग्लैमरस अदाएं, देखें फोटोज       ये है दुनिया का सबसे अनोखा रेस्टोरेंट, हवा में ले सकते हैं खाना खाने का आनंद       अपने चेहरे को चमकदार और खूबसूरत बनाये रखने के लिए अपनाएं ये देसी तरीके       लम्बे समय तक ब्यूटीफुल और यंग दिखने के लिए फॉलो करें ये टिप्स       आखिर महिलाएं रोमांस के लिए क्यों करती है सर्दियों का इंतजार       अलाना पांडे के बोल्ड बिकिनी अवतार ने गर्माया इंस्टा का माहौल       अगर पैसे कमाने के बावजूद घर में नहीं टिकता है पैसा, तो...       घर में गलत दिशा में लगी घडी भी आपको कर सकती है बर्बाद