OMG! अकांक्षा पुरी ने हटाया पारस छाबड़ा के नाम का टैटू उसपर नया टैटू बनाया       रघुबीर यादव की जिंदगी में आया भूचाल, लगे कई बड़े आरोप       'बेडरूम सीन' करके इतनी परेशान हो गई ये एक्‍ट्रेस, बोला...       अब किसानों के संगठन को नरेन्द्र मोदी सरकार देगी 15 लाख रुपए       दिल्ली हिंसा पीड़ितों को आज से मुआवज़ा देगी केजरीवाल सरकार       जानिए क्यों पड़ी इस दिन की जरुरत, भारत में मनाया गया पहला प्रोटीन डे ?       विदाई से 2 घंटे पहले क्या हुआ कि दूल्हे की कराई गई दूसरी शादी, जानें पूरा मामला       कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की 'राजधर्म' पर भाजपा को नसीहत, कहा...       पी.चिदंबरम ने कहा कि राजद्रोह कानून पर अरविंद केजरीवाल सरकार की समझ गलत       खुलकर लीजिए सांस, दिल्‍ली की हवा हुई शुद्ध       तेज रफ़्तार ट्रेन की चपेट में आई यात्री बस, 20 लोगों की भयावह मौत       दुनियाभर के सामने फिर शर्मसार हुआ पाक       OH NO! इस लड़की का 2 घंटे में 12 दरिंदों ने किया रेप, सुनकर सभी के होश उड़ गए       सगे भाई ने ही लूटी बड़ी बहन की अस्मत, और फिर...       नाबालिग संग किया रेप, हवस की भूख में अँधा हुआ बुजुर्ग       रिक्शावाला ने पहली क्लास की छात्रा को स्कूल ले जाते वक्त कर दिया रेप और फिर...       दिल्ली हिंसा व अंकित की मर्डर के आरोपों से घिरे ताहिर का बयान       नाबालिग छात्रा को नशा देकर बलात्कार करता था टीचर       कपिल मिश्रा के बचाव में उतरे रविशंकर प्रसाद, कहा...       कई महान बीजेपी नेता हुए शामिल, महाप्रभु के दर्शन करने पहुंचे अमित शाह      

अमरीकी सैन्य बेस पर मिसाइल हमले के बाद गरजे ईरानी सुप्रीम लीडर खामनेई, कहा...

अमरीकी सैन्य बेस पर मिसाइल हमले के बाद गरजे ईरानी सुप्रीम लीडर खामनेई, कहा...

नई दिल्ली/तेहरान: अमरीकी हवाई हमले ( us air strike ) में ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की मृत्यु का बदला लेने के लिए ईरान ने इराक स्थित अमरकी सैन्य बेस ( American military Base ) पर बुधवार की प्रातः काल एक के बाद एक कई मिसाइल दागे. ईरान का दावा है कि इसमें 80 सैनिकों की मारे गए हैं.

अब मिसाइल हमले ( missile attack ) के बाद ईरान के सुप्रीम लीडर ने एक बड़ा बयान दिया है. ईरान के सुप्रीम नेता अयोतुल्लाह खामनेई ( Iranian Supreme Leader Ayotullah Khamnai ) ने बुधवार को देश को संबोधित करते हुए कह कि हमारी मिसाइल हड़ताल अमरीका के मुंह पर तमाचा है. उन्होंने साफ कर दिया कि ये कार्रवाई बहुत ज्यादा नहीं है. आगे अमरीका को बुरा अंजाम भुगतना पड़ेगा.

बता दें कि इराक स्थित अमरीकी सैन्य बेस पर हमले के कुछ घंटे बाद खामनेई ने देशवासियों को संबोधित करते हुए संदेश दिया. खामनेई ने बोला कि मध्य-पूर्व में अमरीका की गैरकानूनी मौजूदगी का अंत होना चाहिए. उन्होंने बोला कि मध्य-पूर्व के कई राष्ट्रों में अमरीकी सेना की मौजूदगी से युद्ध, मतभेद व विनाश ही पैदा हुआ है.

ईरान न कभी झूकेगा व न कभी पराजय मानेगा: खामनेई

खामनेई ने देश को संबोधित करते हुए आगे बोला कि हमारे बहादुर व साहसी सैन्य बलों ने अमरीकी बेस पर पास हमला कर अमरीका का करारा तमाचा मारा है. उन्होंने बोला कि आगे भी हमारा प्रयत्न जारी रहेगा व हम ताकतवर राष्ट्रों के विरूद्ध एकजुट हैं. खामनेई ने बोला कि ईरान न कभी झूकेगा व न कभी पराजय मानेगा. ईरान के साथ जो कुछ भी हुआ उसे हम हमेशा याद रखेंगे.

बता दें कि ईरान की फार्स न्यूज एजेंसी के मुताबिक, राष्ट्रपति हसन रूहानी ( President Hassan Rouhani ) ने भी हमले के बाद देश को संबोधित किया व अमरीका को खुली धमकी देते हुए बोला कि भले ही अमरीका ने बहादुर योद्धा सुलेमानी का हाथ काटा होगा, लेकिन अब ईरान मध्य-पूर्व से अमरीका को उखाड़ फेंकेगा.

मालूम हो कि इराक स्थित बगदाद एयरपोर्ट के पास अमरीकी सेना ने एक ड्रोन हमले में बीते शुक्रवार को ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को मार गिराया था. इसके बाद से दोनों राष्ट्रों के बीच तनाव गहराता जा रहा है. ईरान ने साफ कर दिया है कि इसकी मूल्य अमरीका को चुकानी होगी.


दुनियाभर के सामने फिर शर्मसार हुआ पाक

दुनियाभर के सामने फिर शर्मसार हुआ पाक

नई दिल्ली: अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद के मसले पर पाक की दुनियाभर में थू-थू हो रही है। पाकिस्तानी अल्पसंख्यकों ने एक पोस्टर के माधयम से संयुक्त देश से मांग की है कि वो पाक के विरूद्ध कठोर एक्शन ले। जेनेवा में संयुक्त देश मानवाधिकार परिषद के 43वें सत्र में ब्रोकन चेयर स्मारक के पास पाक की कड़े शब्दों में निंदा की गई।

दरअसल, पोस्टर में बोला गया है कि पाकिस्तानी सेना वैश्विक आतंकवाद का केन्द्र है। इस पोस्टर में आरोप लगाया गया है कि पाकिस्तानी आर्मी द्वारा इंटरनेशनल टेररिस्ट ऑर्गनाइजेशन्स की गैरकानूनी सहायता की जाती है। प्रदर्शनकारियों का बोलना है कि पाक सरकार आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त है। पाक की इकॉनमी के बेकार होने के पीछे एक कारण ये भी है कि भारी मात्रा में पैसा आतंकवादी गतिविधियों में लगाया जा रहा है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, पाक में आतंकवादी अपनी गतिविधियों को सरलता से ऑपरेट कर रहे हैं, उनके पास फंड की भी कमी नहीं है क्योंकि वहां की सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। बोला ये भी जा रहा है कि पाकिस्तानी सरकार इस समस्या का निराकरण नहीं करना चाहती क्योंकि वह खुद गैरकानूनी गतिविधियों में संलिप्त है। इसलिए प्रदर्शनकारियों का बोलना है कि UN इस पर एक्शन ले व पाक पर फ़ौरन कार्रवाई करे।

Loading...