ओम बिरला ने यात्री सुविधा कार्यों का शिलान्यास किया

ओम बिरला ने यात्री सुविधा कार्यों का शिलान्यास किया

Bundi: लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बूंदी दौरे के दौरान रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधा कार्यों का शिलान्यास किया और सुपोषित मां अभियान के अनुसार कार्यकर्ताओं से समीक्षा की बिरला ने बुधवार को बूंदी के रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के विकास कार्यों के शिलान्यास कार्यक्रम में आमजन को सम्बोधित करते हुए बोला कि देशभर में ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, पुरातत्व और शौर्य की धरती के रूप में बूंदी की पहचान हैं, यहां एग्रीकल्चर प्रोसेसिंग और पर्यटन के क्षेत्र में भी विपुल संभावनाएं हैं किलें, बावडियों, चित्रशैली, केशवरायपाटन मंदिर सहित अनेकों पुरा महत्व की संपदा से बूंदी की पहचान हैं, जिन्हें देखने राष्ट्र और पूरे विश्व से लोग यहां आते हैं ऐतिहासिक विरासत के संरक्षण के साथ आधुनिक बूंदी का विकास हम सबका सपना है

उन्होंने बोला कि संपूर्ण हाडौती में पर्यटन सर्किट को विकसित किया जा रहा है, बूंदी में देशी विदेशी पर्यटकों की संख्या को बढ़ाने के लिए किए जा रहें प्रयासों के रिज़ल्ट आने वाले दिनों में सबके सामने होंगे यात्रियों की सुविधा के लिए रोड़ कनेक्टिविटी बेहतर हो रही हैं, आने वाले समय में दिल्ली एयरपोर्ट से बूंदी की दूरी 2 घंटे होगी, बूंदी की धरती पर एयरपोर्ट भी बनेगा निश्चित रूप से जितनी बेहतरीन सुविधाएं होगी, उतनी समृद्धि और खुशहाली बूंदी में आएगी,अगले एक साल में बूंदी में अधिकतम ट्रेनों का ठहराव हो और यात्री सुविधाएं मिले, इसके लिए कोशिश किए गए हैं

 

रेलवे स्टेशन पर दिखेगी बूंदी के पुरामहत्व की झलक

लोकसभा अध्यक्ष ने बोला कि आने वाले दिनों में बूंदी रेलवे स्टेशन पर बूंदी के पुरामहत्व की झलक देखने को मिलेगी, इसमें बूंदी चित्रशैली, ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों का चित्रांकन करवाया जाएगा उन्होंने बोला कि जन आस्था के केन्द्र केशवरायपाटन में भगवान केशवराय मंदिर के नजदीक चम्बल नदी के किनारों को विकसित करने की योजना बनाई जा रही है

इससे पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के लिए करवाए जाने वाले विकास कार्यों का शिलान्यास किया कार्यक्रम में बूंदी विधायक अशोक डोगरा, जिला कलक्टर रेणु जयपाल, रेलवे डीआरएम पंकज शर्मा, एडीआरएम रावेन्द्र सास्वत भी उपस्थित रहें


एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य बने डॉ. राजीव बगरहट्टा

एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य बने डॉ. राजीव बगरहट्टा

ऱाजधानी के एसएमएस मेडिकल कॉलेज की कमान डाक्टर राजीव बगरहट्टा के हाथों सौंपी गई है चिकित्सा शिक्षा विभाग ने डॉ सुधीर भंडारी का कार्यकाल 4 जुलाई को पूरा होने पर डॉ राजीव बगरहट्टा को प्राचार्य एवं नियंत्रक नियुक्त किया है डॉ भंडारी का कार्यकाल पूरा होने से पहले चिकित्सा शिक्षा विभाग ने प्राचार्य के लिए आवेदन मांगे थे जिसमें 40 डॉक्टर्स ने आवेदन किया था आवेदनों की स्क्रूटनी के बाद 23 जून को 37 डॉक्टर्स को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था मुख्य सचिव की मौजूदगी में 28 डॉक्टर्स ने दावेदारी पेश की थी जिसके बाद तीन डॉक्टर्स के नाम तय कर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने मंत्री और सीएम को भेजा गया जिनकी अनुमति के बाद डॉ राजीव बगरहट्टा को प्रिंसिपल नियुक्त किया है

मेडिकल कॉलेज और चिकित्सालयों के विकास पर करेंगे काम 

एसएमएस मेडिकल कॉलेज का प्राचार्य नियुक्त करने के बाद डॉ राजीव बगरहट्टा ने सीएम को धन्यवाद देते हुए बोला की गवर्नमेंट ने विश्वास जताकर जिम्मेदारी दी है इसे भली–भाँति निभाऊंगा एसएमएस मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में सुविधाएं बढ़ाते हुए रोगियों को अच्छे उपचार और गवर्नमेंट की योजनाओं का आमजन को फायदा दिलाने पर काम किया जाएगा डॉ बगरहट्टा ने बोला की एसएमएस हॉस्पिटल में विश्वसत्तर का आईपीडी टावर बनाया जा रहा है इसे बेहतर बनाने और एसएमएस हॉस्पिटल के विस्तार पर काम किया जाएगा इसके अतिरिक्त मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा शिक्षा की गुणवत्ता और रिसर्च को बढ़ावा देने का काम किया जाएगा ताकि राष्ट्र ही नहीं विश्व में एसएमएस मेडिकल कॉलेज से निकले डॉक्टर्स रोगियों को बेहतर उपचार देते हुए एसएमएस का नाम रोशन करें साथ ही गवर्नमेंट की मुफ्त उपचार की योजना को सफल बनाते हुए रोगियों के भलाई में काम किया जाएगा
आईपीडी टावर में देंगे विश्वस्तरीय सुविधाएं लिए किया जाएगा काम

एसएमएस हॉस्पिटल में विश्व स्तरीय आईपीडी टावर बनाया जा रहा है इसके अतिरिक्त जनाना, और स्त्री चिकित्सालय में भी आईपीडी टावर बनाया जाएगा जिसको लेकर डॉ बगरहट्टा ने बताया की एसएमएस की सुविधाएं बढ़ाने के लिए 22 मंजिला आईपीडी टावर बनाया जा रहा है जो गवर्नमेंट का जरूरी प्रोजेक्ट है इसे बेहतर और समय पर पूरा करना हमारा लक्ष्य है साथ ही अन्य अस्पतालों में भी सुविधाएं बढ़ाने के लिए आईपीडी टावर बनाए जाएंगे इन्हे भी समय पर बनाते हुए रोगियों को सुविधाएं दी जाएगी