बुद्ध पूर्णिमा का जानें तिथि मुहूर्त और महत्व

बुद्ध पूर्णिमा का जानें तिथि मुहूर्त और महत्व

Buddha Purnima 2022: पंचांग के मुताबिक बुद्ध पूर्णिमा का पर्व हर वर्ष वैशाख पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है ऐतिहासिक स्रोतों से पता चलता है कि वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था तथा इसी तिथि को उन्हें मुश्किल साधना के बाद बुद्धत्व की प्राप्ति भी हुई थी इस लिए यह तिथि बौद्ध धर्म के अतिरिक्त हिंदू धर्म में भी बहुत ही जरूरी हो जाती है लोक मान्यता है भगवान बुद्ध, भगवान श्री विष्णु के आखिरी और 9वें अवतार थे बुद्ध पूणिमा के दिन इस बार वर्ष का पहला चंद्र ग्रहण भी लग रहा है मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के बाद स्नान करके दान दिया जाता है वैशाख पूर्णिमा के दिन भी पवित्र नदी में स्नान करने और दान देने का महत्व शास्त्रों में बताया गया है

संशय करें दूर

इस बार बुद्ध पूर्णिमा को लेकर लोगों के मध्य काफी संशय बना हुआ है क्योंकि इस बार पूर्णिमा की तिथि 2 दिन यानी 15 और 16 मई दोनों दिन है ऐसे में किस दिन बौद्ध पूर्णिमा का पर्व मनाया जाए संशय बना हुआ है पंचांग के मुताबिक वैशाख पूर्णिमा 15 मई को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से प्रारम्भ हो रही है जो अगले दिन 16 मई को 9 बजकर 45 मिनट तक रहेगी चूँकि 16 तारीख को पूर्णिमा की उदया तिथि है इसलिए बुद्ध पूर्णिमा 16 मई को मनाई जाएगी

बुद्ध पूर्णिमा तिथि और शुभ मुहूर्त

बुद्ध पूर्णिमा प्रारंभ- 15 मई को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से प्रारम्भ बुद्ध पूर्णिमा समाप्त- 16 मई को 9 बजकर 45 मिनट तक

बुद्ध पूर्णिमा का महत्व

बौद्ध धर्म के लोग इस तिथि को भगवान बुद्ध के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं जगह-जगह प्रकाशोत्सव किया जाता है भगवान बुद्ध की शिक्षाओं को आत्मसात करके उनके प्रति सच्ची श्रद्धा रखी जाती है बोला जाता है कि यदि भगवान बुद्ध की शिक्षाओं पर ध्यान दिया जाए, तो मनुष्य के सांसारिक कष्ट कम हो जाते हैं उनका मन शुद्ध हो जाता है

Disclaimer: यहां उपलब्ध सूचना केवल मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है यहां यह बताना महत्वपूर्ण है कि मीडिया किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित जानकार से राय लें


पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

किताबें आदमी की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं बिना कम्पलेन किए किताबें अपनी दोस्ती निभाती है, हमारा ज्ञानवर्धन करते हुए हम सब बचपन से आज तक जितना कुछ जानते हैं या जान रहे हैं, उसमें पुस्तकों की किरदार बहुत अहम है कहानी संग्रह, कविताएं, उपन्यास हो या सामान्य ज्ञान की किताब इस बड़ी सी दुनिया में हमें कई किताबें ऐसी होती हैं, जो हमारे दिल के करीब होती है और उन्हें हम हमेशा सुरक्षित रखना चाहते हैं

हर वर्ष हमारी रूचि से जुड़ी ऐसी कई किताबें प्रकाशित होती हैं, जिन्हें हम खरीद लाते हैं, लेकिन एक समय के बाद इनका रख-रखाव कठिनाई हो जाता है ऐसे में आज हम आपको ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी पुस्तकों को सुरक्षित और ठीक ढंग से आर्गेनाइज करते हुए रख सकते हैं यह टिप्स उनके लिए बहुत कारगर होंगे, जिनके घर में स्टडी रूम नहीं है

किताबों को रखने के बेहतरीन आइडियाज़

पहले करें बुक्स की छटाई

सबसे पहले आप सारी बुक्स को एक स्थान पर इकट्ठा कर लें और कैटेगरी और ज़रूरत को ध्यान रखकर उन्‍हें भिन्न-भिन्न करें फिर कोर्स बुक्स एक तरफ, किड्स बुक एक तरफ और कविता, कहानी और उपन्यास आदि से जुड़ी किताबें एक तरफ रखें

इसे भी पढ़ें : पुरानी पुस्तकों को वर्षों वर्ष नया रखने के लिए अपनाएं ये 9 टिप्‍स, हमेशा रहेंगी नयी सी

साइड टेबल पर सजाएं

आप अपनी कुछ फेवरेट बुक्स या ऐसी किताबें जिसकी आपको अक्सर ज़रूरत पड़ती हैं, उन्हें बेड के साइड टेबल पर सेट कर सकते हैं ऐसा करने पर आप दोपहर को आराम करते हुए या फिर रात को सोने से पहले इन्‍हें सरलता से पढ़ सकते हैं इसे यदि टेबल पर ढंग से सजाया जाए, तो यह दिखने में सुन्दर दिखेगा

बुक स्टैंड का करें प्रयोग

बेहतर व आर्गेनाइज ढंग से किताबें रखने के लिए आप बुक स्टैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं यह न केवल कमरे को सुन्दर दिखाएगा, बल्कि बेतरतीबी से पड़े पुस्तकों को भी अरेंज करने में सहायता करेगा औनलाइन या ऑफलाइन बजट के हिसाब से सुन्दर बुक स्टैंड मिलते हैं

हैंगिंग बुक शेल्फ

अगर आपके घर में स्पेस से जुड़ी परेशानी है, तो आप हैंगिंग बुक शेल्फ बनवा सकते हैं आप इसे घर के लिविंग एरिया की वॉल से लेकर बेडरूम में बेड के पीछे की वॉल पर भी बनवा सकते हैं  इससे कमरे की रौनक तो बढ़ेगी ही, किताबें कहां रखें  जैसे प्रश्नों का भी उत्तर मिल जाएगा