इन्द्रजीत के गीत यूट्यूब में ट्रेंड कर चुके

इन्द्रजीत के गीत यूट्यूब में ट्रेंड कर चुके

लोक संगीत के प्रति बालपन की दीवानगी परवान चढ़ी 17 वर्ष की उम्र में, जब इंद्रजीत ने पहला वीडियो एलबम 'दिल का क्या कसूर' लांच किया. साल 2010 में इसी एलबम के साथ हिमाचली लोक गायिकी को अपना नया सितारा इन्द्रजीत मिला. यह एलबम इंद्रजीत ने लॉन्च किया बिना किसी सहायता के. इस एलबम में 10 गाने थे जो गायक ने स्वयं लिखे व कंपोज़ किये थे. हिमाचल प्रदेश के क़ुल्लू जिले के गांव दोगरी में जन्मे हैं ये लोकगायक. इन्द्रजीत ने मुड़कर कभी पीछे नहीं देखा और लोगों ने भी खूब प्यार दिया. इन्द्र जीत का सपना था कि वह हिमाचली संस्कृति को पहाड़ी गानों के जरिये देश-विदेश तक पहुंचाये. इस यात्रा में कई समस्याएं भी आईं. वर्ष 2016 से इन्द्र जीत ने परंपरागत संस्कृति पर काम करना प्रारम्भ किया. सबसे पहले एलबम 'हाड़े मेरे मामुआ' लेकर आये जिसके माध्यम से पारंपरिक वेशभूषा में क़ुल्लू की सांस्कृतिक झलक के साथ यूट्यूब के माध्यम से देश-विदेश तक पहुंचाया. लोगों ने इसे खूब पसंद किया व इंद्रजीत को हिमाचल में पहचान मिली. इसके बाद बहुत सारे गीत बनाए जिनमें हिमाचल का सांस्कृतिक व सामाजिक सन्देश होता है.

इंद्रजीत करीब 100 हिमाचली गाने गा चुके हैं जिसे श्रोताओं व दर्शकों का सकारात्मक प्रतिसाद मिला. सोशल मीडिया पर श्रोताओं के समर्थन से लाखों का दायरा पार किया. हिमाचल प्रदेश पुलिस की निवेदन पर इन्द्र जीत ने गीत बनाया जिसका सन्देश था नशा मुक्त हिमाचल प्रदेश| जिसका लोकार्पण किया था हिमाचल प्रदेश के तत्कालीन गवर्नर आचार्य देवव्रत ने. इन्द्रजीत ने स्वर्णिम हिमाचल के उपलक्ष्य में भी गीत बनाया. इन्द्रजीत के गीत यूट्यूब में ट्रेंड कर चुके हैं. हिमाचल फोक स्टार का अवार्ड देकर भी इन्हें सम्मानित किया गया. -फीचर डेस्क


पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

किताबें आदमी की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं बिना कम्पलेन किए किताबें अपनी दोस्ती निभाती है, हमारा ज्ञानवर्धन करते हुए हम सब बचपन से आज तक जितना कुछ जानते हैं या जान रहे हैं, उसमें पुस्तकों की किरदार बहुत अहम है कहानी संग्रह, कविताएं, उपन्यास हो या सामान्य ज्ञान की किताब इस बड़ी सी दुनिया में हमें कई किताबें ऐसी होती हैं, जो हमारे दिल के करीब होती है और उन्हें हम हमेशा सुरक्षित रखना चाहते हैं

हर वर्ष हमारी रूचि से जुड़ी ऐसी कई किताबें प्रकाशित होती हैं, जिन्हें हम खरीद लाते हैं, लेकिन एक समय के बाद इनका रख-रखाव कठिनाई हो जाता है ऐसे में आज हम आपको ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी पुस्तकों को सुरक्षित और ठीक ढंग से आर्गेनाइज करते हुए रख सकते हैं यह टिप्स उनके लिए बहुत कारगर होंगे, जिनके घर में स्टडी रूम नहीं है

किताबों को रखने के बेहतरीन आइडियाज़

पहले करें बुक्स की छटाई

सबसे पहले आप सारी बुक्स को एक स्थान पर इकट्ठा कर लें और कैटेगरी और ज़रूरत को ध्यान रखकर उन्‍हें भिन्न-भिन्न करें फिर कोर्स बुक्स एक तरफ, किड्स बुक एक तरफ और कविता, कहानी और उपन्यास आदि से जुड़ी किताबें एक तरफ रखें

इसे भी पढ़ें : पुरानी पुस्तकों को वर्षों वर्ष नया रखने के लिए अपनाएं ये 9 टिप्‍स, हमेशा रहेंगी नयी सी

साइड टेबल पर सजाएं

आप अपनी कुछ फेवरेट बुक्स या ऐसी किताबें जिसकी आपको अक्सर ज़रूरत पड़ती हैं, उन्हें बेड के साइड टेबल पर सेट कर सकते हैं ऐसा करने पर आप दोपहर को आराम करते हुए या फिर रात को सोने से पहले इन्‍हें सरलता से पढ़ सकते हैं इसे यदि टेबल पर ढंग से सजाया जाए, तो यह दिखने में सुन्दर दिखेगा

बुक स्टैंड का करें प्रयोग

बेहतर व आर्गेनाइज ढंग से किताबें रखने के लिए आप बुक स्टैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं यह न केवल कमरे को सुन्दर दिखाएगा, बल्कि बेतरतीबी से पड़े पुस्तकों को भी अरेंज करने में सहायता करेगा औनलाइन या ऑफलाइन बजट के हिसाब से सुन्दर बुक स्टैंड मिलते हैं

हैंगिंग बुक शेल्फ

अगर आपके घर में स्पेस से जुड़ी परेशानी है, तो आप हैंगिंग बुक शेल्फ बनवा सकते हैं आप इसे घर के लिविंग एरिया की वॉल से लेकर बेडरूम में बेड के पीछे की वॉल पर भी बनवा सकते हैं  इससे कमरे की रौनक तो बढ़ेगी ही, किताबें कहां रखें  जैसे प्रश्नों का भी उत्तर मिल जाएगा