कैसे हुई थी माता शबरी की प्रभु श्री राम से मुलाकात

कैसे हुई थी माता शबरी की प्रभु श्री राम से मुलाकात

रामायण के अनुसार, भगवान राम की मुलाकात माता शबरी से वनवास के दौरान हुई थी। माता शबरी का वास्तविक नाम श्रमणा था। वे भील समुदाय से थीं। इनका विवाह भील कुमार से हुआ था। उनका हृदय बेहद ही निर्मल था। ऐसे में जब शबरी के विवाह पर पशुओं की बलि दी गई जो कि उनके यहां की परंपरा थी तो वे बेहद आहत हुईं। उन्होंने विवाह से एक दिन पहले घर छोड़ दिया। वे घर छोड़ दंडकारण्य वन में आकर रहने लगीं।

इस वन में मातंग ऋषि तपस्या करना चाहते थे। वे उनकी सेवा करना चाहती थीं। लेकिन भील जाति की होने के कारण उन्हें लगता था कि उन्हें यह अवसर नहीं मिल पाएगा। ऐसे में सुबह जल्दी उठकर शबरी ऋषियों के उठने से पहले ही वो आश्रम और नदी तक जाने वाला मार्ग साफ कर देती थीं। वे रास्ते से कांटों को चुन लेती थीं और बालू बिछा देती थीं। इस बात का पता किसी को न चले इसलिए वो यह सब चुपचाप करती थीं।


लेकिन एक दिन एक ऋषि ने उन्हें ऐसा करते देख लिया। वे उनकी सेवा से बेहद प्रसन्न हुए। ऋषि मातंग का जब अंतिम समय आया तो उन्होंने शबरी को बुलाया तो उन्होंने कहा कि वो अपने आश्रम में ही प्रभु राम की प्रतीक्षा करें, वे उनसे मिलने जरूर आएंगे। ऋषि की बात सुन शबरी ने वैसा ही किया जैसा ऋषि ने कहा था। उन्होंने आश्रम में भगवान राम का इंतजार किया। वे रोज रास्ता साफ करती थीं। श्री राम के लिए मीठे बेर तोड़कर लाती। वे हर बेर को चखती थीं और मीठे बेर को ही पात्र में रखती थीं। ऐसा करते करते काफी समय गुजर गया।


फिर एक दिन शबरी को ज्ञात हुआ कि दो सुंदर युवक उसे ढूंढ रहे हैं। उन्हें समझ आ गया कि वे और कोई नहीं बल्कि श्री राम हैं। जैसे ही उन्होंने श्री राम को उनके आश्रम की ओर आते देखा तो वे बेहद प्रसन्न हुईं। माता शबरी ने भगवान राम के चरणों को धोया और उन्हें बैठने के लिए आसन दिया। इसके बाद वह जूठे बेर लेकर आई जो भगवान राम के लिए लाई थीं। श्री राम ने उनकी भक्ति को पूरा करने के लिए उन बेरों को खाया।  


बचे हुए राजमा का लें ज़ायका 'मसाला पूड़ी'

बचे हुए राजमा का लें ज़ायका 'मसाला पूड़ी'

सामग्री :

1 कटोरी बचा राजमा, 2.5 कप आटा, 2 टेबलस्पून ताजा कटा धनिया, 1/2 कप सूजी, 1 टीस्पून कसूरी मेथी, नमक, 1 नींबू का रस, 1 टीस्पून चीनी, जरूरत भर पानी, तेल तलने के लिए, थोड़ा-सा बारीक कटा धनिया

विधि :

एक बोल में राजमा लेकर मैश कर लें। इसमें आटा, नमक, चीनी, धनिया, सूजी, कसूरी मेथी, नींबू का रस, धनिया और एक टेबलस्पून तेल डालें। इसे मिलाएं। अब थोड़े-थोड़े पानी के साथ आटा गूंथें।
आटा गूंथने के बाद इसे ढककर करीब 10 मिनट के लिए अलग रख दें।
अब एक-एक कर पूड़ियां बेलें। कडा़ही में एक-एक डालकर दोनों ओर से पलटते हुए सेंकते जाएं।
एक प्लेटपर एब्जॉर्बेंट पेपर बिछाएं। इस पर पूड़ियां निकालते जाएं।
राजमा मसाला पूड़ी को आप खट्टे-मीठे अचार, तरीदार आलू की सब्जी और चाय के साथ गर्मागर्म सर्व करें।


गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत       हर्षवर्धन ने साधा निशाना, मोदी सरकार को रास नहीं आए मनमोहन के कोरोना पर सुझाव       अभी अभी: मनमोहन सिंह कोरोना वायरस से संक्रमित, एम्स में भर्ती