विवेक ओबेराॅय ने हासिल की पहली फिल्म 'कम्पनी'

विवेक ओबेराॅय ने हासिल की पहली फिल्म 'कम्पनी'

विवेक ओबेराॅय ने यह कह कर इन्कार कर दिया कि उन्हें बाकी स्टार संस की तरह लाॅन्च होकर नेपोटिज्म को बढ़ावा नहीं देना. विवेक ओबेराॅय ने एक आम अभिनेता की तरह संघर्ष करके अपनी पहली फिल्म 'कम्पनी' हासिल की.

निर्मला मिश्रा

विवेक ओबेराॅय भले ही सुपर स्टार नहीं बन सके लेकिन उनके पापा सुरेश ओबेरॉय की नजर में वह सुपर स्टार ही हैं. किसी जमाने में सुरेश ओबेराॅय सुपर स्टार बनने की ख्वाहिश रखते थे. लेकिन सबके सपने पूरे होते कहां हैं. सुरेश ओबेराॅय बेटे को सुपर स्टार बनते देखना चाहते थे,लेकिन यहां भी उनकी ख्वाहिश अधूरी रह गयी. हालांकि सुरेश ओबेराॅय अपने बेटे को सुपर स्टार ही मानते हैं और घर में सोते-जागते विवेक को सुपर स्टार ही बुलाते हैं.

विवेक ओबेराॅय की घर में जैसे ही एंट्री होती है तो सुरेश ओबेराॅय खुश होकर कहते हैं सुपरस्टार आ गया. उसके लिए पानी लाओ,सुपर स्टार के लिए नाश्ता लगाओ, डिनर लगाओ. मतलब घर में सुबह से लेकर रात तक विवेक ओबेराॅय की जो भी एक्टिविटी होती है उस पर पापा सुरेश ओबेराॅय की नजर होती ही है . असल जीवन में विवेक ओबेराॅय भले ही सुपरस्टार न बन पाए हों अपने पापा के तो सुपरस्टार हैं ही.

'साथिया' की कामयाबी के बाद यशराज फिल्म्स विवेक ओबेराॅय और रानी मुखर्जी की जोड़ी को अपनी अगली फिल्म 'हम तुम' में लेना चाह रहे थे. राम गोपाल वर्मा की 'कम्पनी' के बाद विवेक ओबेरॉय की इस फिल्म से रोमांटिक हीरो की छवि बन गयी. इस फिल्म के लिए उन्होंने डेढ़ करोड़ की डिमांड कर दी जिसकी वजह से 'हम तुम' से विवेक ओबेराॅय को हटाकर सैफ अली खान को ले लिया गया. इससे पहले सैफ अली खान की कई फिल्मे फ्लॉप रहीं. 'हम तुम' की कामयाबी ने सैफ अली खान की डूबती नैया पार लगा दी. यहीं से यशराज कैम्प में उनकी एंट्री हो गयी और यशराज की कई फिल्मों में नजर आये.

करण जौहर की फिल्म 'काल' के लिए विवेक ओबेराॅय को पहले अजय देवगन वाले भूमिका के लिए फाइनल किया गया था लेकिन यहां भी विवेक ने डेढ़ करोड़ की डिमांड की. जिसकी वजह से उनकी स्थान अजय देवगन को ले लिया. बाद में दूसरे भूमिका के लिए काल में उनकी एंट्री हुई और उसके लिए उन्हें मात्र चालीस लाख मिले. काल मल्टीस्टारर फिल्म थी,अजय देवगन, विवेक ओबेराॅय, जॉन अब्राहम, ईशा देओल और लारा दत्ता जैसे सितारों के बावजूद फिल्म शाहरुख़ खान और मलाइका अरोड़ा का एक गीत 'काल धमाल' शामिल किया गया, बावजूद इसके फिल्म नहीं चली.

सुरेश ओबेराॅय अपने बेटे विवेक को बाकी स्टार संस की तरह फिल्म में लाॅन्च करने की योजना बना रहे थे. उन्होंने निर्देशक जोड़ी अब्बास-मस्तान के साथ मिलकर स्क्रिप्ट भी फाइनल कर ली थी. लेकिन विवेक ओबेराॅय ने यह कह कर इन्कार कर दिया कि उन्हें बाकी स्टार संस की तरह लाॅन्च होकर नेपोटिज्म को बढ़ावा नहीं देना. विवेक ओबेराॅय ने एक आम अभिनेता की तरह संघर्ष करके अपनी पहली फिल्म 'कम्पनी' हासिल की.


पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

किताबें आदमी की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं बिना कम्पलेन किए किताबें अपनी दोस्ती निभाती है, हमारा ज्ञानवर्धन करते हुए हम सब बचपन से आज तक जितना कुछ जानते हैं या जान रहे हैं, उसमें पुस्तकों की किरदार बहुत अहम है कहानी संग्रह, कविताएं, उपन्यास हो या सामान्य ज्ञान की किताब इस बड़ी सी दुनिया में हमें कई किताबें ऐसी होती हैं, जो हमारे दिल के करीब होती है और उन्हें हम हमेशा सुरक्षित रखना चाहते हैं

हर वर्ष हमारी रूचि से जुड़ी ऐसी कई किताबें प्रकाशित होती हैं, जिन्हें हम खरीद लाते हैं, लेकिन एक समय के बाद इनका रख-रखाव कठिनाई हो जाता है ऐसे में आज हम आपको ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी पुस्तकों को सुरक्षित और ठीक ढंग से आर्गेनाइज करते हुए रख सकते हैं यह टिप्स उनके लिए बहुत कारगर होंगे, जिनके घर में स्टडी रूम नहीं है

किताबों को रखने के बेहतरीन आइडियाज़

पहले करें बुक्स की छटाई

सबसे पहले आप सारी बुक्स को एक स्थान पर इकट्ठा कर लें और कैटेगरी और ज़रूरत को ध्यान रखकर उन्‍हें भिन्न-भिन्न करें फिर कोर्स बुक्स एक तरफ, किड्स बुक एक तरफ और कविता, कहानी और उपन्यास आदि से जुड़ी किताबें एक तरफ रखें

इसे भी पढ़ें : पुरानी पुस्तकों को वर्षों वर्ष नया रखने के लिए अपनाएं ये 9 टिप्‍स, हमेशा रहेंगी नयी सी

साइड टेबल पर सजाएं

आप अपनी कुछ फेवरेट बुक्स या ऐसी किताबें जिसकी आपको अक्सर ज़रूरत पड़ती हैं, उन्हें बेड के साइड टेबल पर सेट कर सकते हैं ऐसा करने पर आप दोपहर को आराम करते हुए या फिर रात को सोने से पहले इन्‍हें सरलता से पढ़ सकते हैं इसे यदि टेबल पर ढंग से सजाया जाए, तो यह दिखने में सुन्दर दिखेगा

बुक स्टैंड का करें प्रयोग

बेहतर व आर्गेनाइज ढंग से किताबें रखने के लिए आप बुक स्टैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं यह न केवल कमरे को सुन्दर दिखाएगा, बल्कि बेतरतीबी से पड़े पुस्तकों को भी अरेंज करने में सहायता करेगा औनलाइन या ऑफलाइन बजट के हिसाब से सुन्दर बुक स्टैंड मिलते हैं

हैंगिंग बुक शेल्फ

अगर आपके घर में स्पेस से जुड़ी परेशानी है, तो आप हैंगिंग बुक शेल्फ बनवा सकते हैं आप इसे घर के लिविंग एरिया की वॉल से लेकर बेडरूम में बेड के पीछे की वॉल पर भी बनवा सकते हैं  इससे कमरे की रौनक तो बढ़ेगी ही, किताबें कहां रखें  जैसे प्रश्नों का भी उत्तर मिल जाएगा