शनि पूजा में न करें ये गलतियां

शनि पूजा में न करें ये गलतियां

Shaniwar Puja: शनि देव भगवान सूर्य और माता छाया के पुत्र हैं इन्हें आदि देव शंकर से न्याय के देवता का आशीर्वाद मिला है यह लोगों को उनके कर्म फल के मुताबिक फल प्रदान करते हैं शनि देव स्वभाव से अत्यंत सरल किंतु व्यवहार से क्रोधी हैं शनिदेव की चाल बहुत धीमी होने के कारण यह एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने में ढाई साल का समय लेते हैं शनि की साढ़ेसाती ढैय्या और महादशा से मनुष्य के जीवन पर प्रतिकूल असर पड़ता है इससे बचने के लिए लोगों को शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करनी चाहिए शनिदेव की पूजा में कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना चाहिए गलतियां करने पर शनिदेव रुष्ट हो जाते हैं, और पूजा का उचित फायदा जातक को नहीं मिलता है

शनि पूजा में करें ये गलतियां

शनिदेव की पूजा में लाल रंग के किसी भी वस्तु का प्रयोग नहीं करना चाहिए इससे शनिदेव रुष्ट हो जाते हैं और शनि की छाया पड़ने पर मनुष्य का जीवन कष्टमय हो जाता है सूर्य और मंगल दोनों को ही शनिदेव अपना शत्रु समझते हैं अतः लाल रंग की किसी भी सामग्री का प्रयोग शनिवार के दिन शनि की पूजा में नहीं करना चाहिए शनिदेव की पूजा करते समय शनि की आंखों की तरफ नहीं देखना चाहिए इससे उनकी कुदृष्टि से बचा जा सकता है क्योंकि शनिदेव की कुदृष्टि हमारे जीवन की उन्नति में बाधक बन जाती है इसलिए पूजा के समय शनिदेव के पैरों की तरफ देखना चाहिए शनि देव को काला और नीला रंग अत्यधिक प्रिय है इसलिए इस रंग को छोड़कर बाकी किसी भी रंग से शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा नहीं करनी चाहिए इन्हें लाल, पीले और सफेद फूल नहीं चढ़ाना चाहिए इन्हें सफेद तिल, चावल नहीं चढाना चाहिए शनिदेव की पूजा करते समय आपका मुंह पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए किसी और दिशा में मुंह करके शनिदेव की पूजा नहीं करनी चाहिए, इससे शनिदेव रुष्ट हो जाते हैं शनि देव जी सूर्य को अपना दुश्मन समझते हैं, इसीलिए शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा सूर्योदय से पहले या सूर्योदय के पश्चात ही करनी चाहिए

Disclaimer: यहां उपलब्ध सूचना केवल मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है यहां यह बताना महत्वपूर्ण है कि मीडिया किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित जानकार से राय लें


पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

पढ़ाई में लगातार पिछड़ रहा है आपका बच्‍चा जाने क्यू

किताबें आदमी की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं बिना कम्पलेन किए किताबें अपनी दोस्ती निभाती है, हमारा ज्ञानवर्धन करते हुए हम सब बचपन से आज तक जितना कुछ जानते हैं या जान रहे हैं, उसमें पुस्तकों की किरदार बहुत अहम है कहानी संग्रह, कविताएं, उपन्यास हो या सामान्य ज्ञान की किताब इस बड़ी सी दुनिया में हमें कई किताबें ऐसी होती हैं, जो हमारे दिल के करीब होती है और उन्हें हम हमेशा सुरक्षित रखना चाहते हैं

हर वर्ष हमारी रूचि से जुड़ी ऐसी कई किताबें प्रकाशित होती हैं, जिन्हें हम खरीद लाते हैं, लेकिन एक समय के बाद इनका रख-रखाव कठिनाई हो जाता है ऐसे में आज हम आपको ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी पुस्तकों को सुरक्षित और ठीक ढंग से आर्गेनाइज करते हुए रख सकते हैं यह टिप्स उनके लिए बहुत कारगर होंगे, जिनके घर में स्टडी रूम नहीं है

किताबों को रखने के बेहतरीन आइडियाज़

पहले करें बुक्स की छटाई

सबसे पहले आप सारी बुक्स को एक स्थान पर इकट्ठा कर लें और कैटेगरी और ज़रूरत को ध्यान रखकर उन्‍हें भिन्न-भिन्न करें फिर कोर्स बुक्स एक तरफ, किड्स बुक एक तरफ और कविता, कहानी और उपन्यास आदि से जुड़ी किताबें एक तरफ रखें

इसे भी पढ़ें : पुरानी पुस्तकों को वर्षों वर्ष नया रखने के लिए अपनाएं ये 9 टिप्‍स, हमेशा रहेंगी नयी सी

साइड टेबल पर सजाएं

आप अपनी कुछ फेवरेट बुक्स या ऐसी किताबें जिसकी आपको अक्सर ज़रूरत पड़ती हैं, उन्हें बेड के साइड टेबल पर सेट कर सकते हैं ऐसा करने पर आप दोपहर को आराम करते हुए या फिर रात को सोने से पहले इन्‍हें सरलता से पढ़ सकते हैं इसे यदि टेबल पर ढंग से सजाया जाए, तो यह दिखने में सुन्दर दिखेगा

बुक स्टैंड का करें प्रयोग

बेहतर व आर्गेनाइज ढंग से किताबें रखने के लिए आप बुक स्टैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं यह न केवल कमरे को सुन्दर दिखाएगा, बल्कि बेतरतीबी से पड़े पुस्तकों को भी अरेंज करने में सहायता करेगा औनलाइन या ऑफलाइन बजट के हिसाब से सुन्दर बुक स्टैंड मिलते हैं

हैंगिंग बुक शेल्फ

अगर आपके घर में स्पेस से जुड़ी परेशानी है, तो आप हैंगिंग बुक शेल्फ बनवा सकते हैं आप इसे घर के लिविंग एरिया की वॉल से लेकर बेडरूम में बेड के पीछे की वॉल पर भी बनवा सकते हैं  इससे कमरे की रौनक तो बढ़ेगी ही, किताबें कहां रखें  जैसे प्रश्नों का भी उत्तर मिल जाएगा