अच्छी खबर: भारत को जल्द मिलेगी दो और कोरोना वैक्सीन

अच्छी खबर: भारत को जल्द मिलेगी दो और कोरोना वैक्सीन

नई दिल्ली: देश में दो कोरोना वैक्सीन को आपात मंजूरी मिलने के बाद 16 जनवरी से कोरोना के खिलाफ टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने जा रहा है। सरकार के प्लान के तहत देश के कई राज्यों में वैक्सीन पहुंचनी भी शुरू हो चुकी है। इस बीच देश को दो और टीके मिलने की संभावना जताई गई है। दरअसल, अगले महीने में कोरोना की दो अन्य वैक्सीन सामने आ रही हैं।

ये दो टीके जल्द हो सकते हैं उपलब्ध
इनमें एक स्वदेशी है, जो कि जाइडस कैडिला कंपनी का है। वहीं दूसरा टीका रूस का स्पूतनिक-5 टीका है। फिलहाल इन दोनों वैक्सीन का ही अंतिम फेज का ट्रायल चल रहा है। सरकार के प्लान के मुताबिक, मार्च महीने के पहले हफ्ते तक चार और अप्रैल के अंत तक देश में पांच तरह के टीके उपलब्ध होंगे। तब तक अनुमान है कि देश में तीन करोड़ हेल्थ वर्कर्स और सुरक्षा जवानों को वैक्सीन दे दी जाएगी।

पांच तरह के टीके आने के बाद कीमत भी होगी कम
वहीं अगर बाजार में एक बार पांच तरह के टीके उपलब्ध हो जाते हैं तो इनकी कीमतों में भी कमी आएगी। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य सरकारों के साथ मिलकर टीके की कीमतों पर विचार करेंगे। आपको बता दें कि वैक्सीनेशन शुरू होने से पहले ही इसकी कीमतों को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। एक तरफ राज्यों की डिमांड है कि केंद्र टीकाकरण पर खर्च के लिए मदद करे, वहीं दूसरी ओर आम जनता के लिए टीके की कीमत क्या होगी यह अभी तक तय नहीं हुआ है।

क्या है केंद्र का प्लान?
बीते सोमवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की हुई बैठक में कुछ राज्यों ने यह मांग की थी कि वैक्सीनेशन का पूरा खर्च केंद्र उठाए। इस पर पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ सरकार की योजना को साझा करते हुए कहा था कि अगले दो से तीन महीने में देश में चार से पांच तरह के टीके उपलब्ध होंगे, जिसके बाद फिर से बैठक कर कीमत और बजट पर चर्चा की जाएगी।

अभी इन्हें दी जा रही है प्राथमिकता
फिलहाल देश में टीकाकरण के पहले चरण में कुछ खास लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है। केंद्र सरकार के मुताबिक कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन के लिए प्राथमिकता वाले समूहों में  संक्रमित होने या मृत्यु का खतरा ज्यादा होने वाले लोग, हेल्थ वर्कर्स, फ्रंट लाइन वर्कर्स, 50 वर्ष के ऊपर के उम्र वाले लोग और पहले से बीमार व्यक्ति शामिल हैं। अभी हर किसी को टीका उपलब्ध नहीं होगा, लेकिन जून तक मार्केट में टीका उपलब्ध होने की उम्मीद है।

भारत में फिलहाल सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ के देश में सीमित आपात इस्तेमाल को भारत के औषधि नियामक की ओर से मंजूरी दी गई है।


आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन

आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आन्दोलन जारी है। दिल्ली बॉर्डर पर बड़ी तादाद में किसान अभी भी डटे हैं। किसान संगठनों और सरकार के प्रतिनिधियों के बीच अब तक की बातचीत बेनतीजा रही है।

केवल दो मुद्दों पर सरकार के साथ उनकी सहमति बनी थी लेकिन किसान इससे संतुष्ट नहीं हैं और सभी मांगों को पूरा करने की मांग पड़े अड़े हुए हैं। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित चार सदस्यीय कमेटी के सामने भी पेश होने से इनकार कर दिया है।

इस बीच अब खबर आ रही है किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा को कल राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) पूछताछ के लिए बुलाया है। ये पूछताछ भारत विरोधी संगठनों की ओर से कई एनजीओ को की गई फंडिंग के सिलसिले में है।

खालिस्तानी संगठनों और उससे जुड़े एनजीओ की फंडिंग की एनआईए कर रही जांच
एनआईए सूत्रों के मुताबिक एनआईए ने लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष बलदेव सिंह सिरसा को पूछताछ के लिए बुलाया है।

ये संगठन सरकार के साथ किसानों की ओर से वार्ता में शामिल है। बलदेव सिंह सिरसा से ये पूछताछ अलगाववादी संगठन सिख फॉर जस्टिस के एक नेता पर दर्ज केस के सिलसिले में की जाएगी।

एनआईए सूत्रों के अनुसार 17 जनवरी को बलदेव सिंह सिरसा से पूछताछ की जा सकती है। बता दें कि खालिस्तानी संगठनों और उससे जुड़े एनजीओ की फंडिंग इस समय एनआईए के रडार पर है।

एनआईए ने खालिस्तानी संगठन और इनके द्वारा किए जाने वाले एनजीओ  की फंडिंग की लिस्ट तैयार की है। ये एनजीओ विदेश से मिले धन का भारत के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे हैं।


भयानक भुतिहा होटल: सालों से पड़ा है वीरान       सबसे बड़े रामभक्त: 11 करोड़ का दान करने वाले हीरा कारोबारी, जानें       आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन       गृहमंत्री अमित शाह, कई परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन       ममता को लगेंगे अभी और झटके!       Covaxin ने सवाल उठाने पर अमेरिकी मीडिया को दिया ऐसा जवाब       सेना दिवस पर माचिस की तीलियों से बनाया टैंक, ओड़िशा के कलाकार का कमाल       राम मंदिर निर्माण के लिए अब तक किन-किन लोगों ने दिया चंदा       लड़की जैसा दिखने के लिए कराया लिंग परिवर्तन और होगा गैंगरेप       अभी अभी: राख हो गए अमेजन कर्मचारी, लाशें भी पहचानना हुआ मुश्किल       11 लोगों का काल बना ये सड़क हादसा, पीएम मोदी ने जताया दुख       किसानों का बड़ा फैसला! 26 जनवरी को नहीं होगी ट्रैक्टर रैली       टीएमसी सांसद ने कहा कि भाजपा सत्ता में आई तो मुसलमानों की उलटी गिनती शुरू हो जाएगी       अभी अभी : सरकार का बड़ा ऐलान! कर्मचारियों को तोहफा, अब होगी पैसों की बारिश       क्या बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन लगवाई जा सकती है? जानें       फिर बेनतीजा रही किसान नेताओं और सरकार के बीच वार्ता       सेना ने किया कमाल, पहली बार साथ उड़े 75 ड्रोन्स       Schools in Himachal Pradesh: 15 फरवरी से तैयार रहें, हुआ ये बड़ा ऐलान       मंत्रालय ने दी ये जानकारी, वैक्सीन लगवाने से पहले जान लें साइड इफेक्ट्स       झारखंड: सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाने वालों पर होगा एक्शन