जहरीली शराब से कई मौतें: शिवराज सिंह ने लिया सख्त एक्शन

जहरीली शराब से कई मौतें: शिवराज सिंह ने लिया सख्त एक्शन

मुरैना। मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में जहरीली शराब पीने से मरने वाले लोगों की संख्या मंगलवार तक बढ़कर 20 हो गई। जबकि 17 लोग गंभीर रूप से बीमार हैं, वो अस्पताल में भर्ती हैं। ऐसे में अब इस मामले में मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। इसके तत्काल कार्रवाई करते हुए मुरैना के जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक(SP) को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही मामले में जल्द से जल्द रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है।

जिला आबकारी अधिकारी निलंबित
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। शिवराज सिंह चौहान ने एक ट्वीट में मुरैना के जिला आबकारी अधिकारी को निलंबित करने की घोषणा की।

साथ ही सीएम चौहान ने ट्वीट किया, ‘मुरैना की घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखदाई है। मामले की जांच जारी है, लेकिन प्रथम दृष्टया सुपरविजन में लापरवाही बरतने पर जिला आबकारी अधिकारी को निलंबित किया गया है।’ इस बीच एक पुलिस अधिकारी को भी निलंबित किया गया है।


एमपी गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि घटना की जांच के लिए एक दल वहां भेजा है। आगे उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘मुरैना में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों की घटना बेहद दुखद और पीड़ादायक है। इस मामले में संबंधित थाना प्रभारी और जिलाधिकारी को  निलंबित कर दिया गया है। जांच के लिए अलग से एक दल भी भेजा  है। घटना के लिए जिम्मेदार कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।’

शराब माफियाओं का कहर
इस घटना पर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने भी मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार को पर निशाने पर लिया। ऐसे में कमलनाथ ने ट्वीट किया, ‘शराब माफियाओं का कहर जारी। उज्जैन में 16 जान लेने के बाद अब मुरैना में शराब माफियाओं ने 20 के करीब लोगों की जान ले ली।

आगे ट्वीट किया- शिवराज जी, शराब माफिया आखिर कब तक यूं ही लोगों की जान लेते रहेंगे? सरकार बीमार लोगों का समुचित इलाज करवाए और पीड़ित परिवारों की हरसंभव मदद करे।’

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री (शिवराज सिंह चौहान) माफिया के खिलाफ कार्रवाई को लेकर झूठे दावे कर रहे हैं।


आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन

आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आन्दोलन जारी है। दिल्ली बॉर्डर पर बड़ी तादाद में किसान अभी भी डटे हैं। किसान संगठनों और सरकार के प्रतिनिधियों के बीच अब तक की बातचीत बेनतीजा रही है।

केवल दो मुद्दों पर सरकार के साथ उनकी सहमति बनी थी लेकिन किसान इससे संतुष्ट नहीं हैं और सभी मांगों को पूरा करने की मांग पड़े अड़े हुए हैं। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित चार सदस्यीय कमेटी के सामने भी पेश होने से इनकार कर दिया है।

इस बीच अब खबर आ रही है किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा को कल राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) पूछताछ के लिए बुलाया है। ये पूछताछ भारत विरोधी संगठनों की ओर से कई एनजीओ को की गई फंडिंग के सिलसिले में है।

खालिस्तानी संगठनों और उससे जुड़े एनजीओ की फंडिंग की एनआईए कर रही जांच
एनआईए सूत्रों के मुताबिक एनआईए ने लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष बलदेव सिंह सिरसा को पूछताछ के लिए बुलाया है।

ये संगठन सरकार के साथ किसानों की ओर से वार्ता में शामिल है। बलदेव सिंह सिरसा से ये पूछताछ अलगाववादी संगठन सिख फॉर जस्टिस के एक नेता पर दर्ज केस के सिलसिले में की जाएगी।

एनआईए सूत्रों के अनुसार 17 जनवरी को बलदेव सिंह सिरसा से पूछताछ की जा सकती है। बता दें कि खालिस्तानी संगठनों और उससे जुड़े एनजीओ की फंडिंग इस समय एनआईए के रडार पर है।

एनआईए ने खालिस्तानी संगठन और इनके द्वारा किए जाने वाले एनजीओ  की फंडिंग की लिस्ट तैयार की है। ये एनजीओ विदेश से मिले धन का भारत के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे हैं।


भयानक भुतिहा होटल: सालों से पड़ा है वीरान       सबसे बड़े रामभक्त: 11 करोड़ का दान करने वाले हीरा कारोबारी, जानें       आन्दोलन में शामिल इस बड़े किसान नेता को NIA ने भेजा समन       गृहमंत्री अमित शाह, कई परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन       ममता को लगेंगे अभी और झटके!       Covaxin ने सवाल उठाने पर अमेरिकी मीडिया को दिया ऐसा जवाब       सेना दिवस पर माचिस की तीलियों से बनाया टैंक, ओड़िशा के कलाकार का कमाल       राम मंदिर निर्माण के लिए अब तक किन-किन लोगों ने दिया चंदा       लड़की जैसा दिखने के लिए कराया लिंग परिवर्तन और होगा गैंगरेप       अभी अभी: राख हो गए अमेजन कर्मचारी, लाशें भी पहचानना हुआ मुश्किल       11 लोगों का काल बना ये सड़क हादसा, पीएम मोदी ने जताया दुख       किसानों का बड़ा फैसला! 26 जनवरी को नहीं होगी ट्रैक्टर रैली       टीएमसी सांसद ने कहा कि भाजपा सत्ता में आई तो मुसलमानों की उलटी गिनती शुरू हो जाएगी       अभी अभी : सरकार का बड़ा ऐलान! कर्मचारियों को तोहफा, अब होगी पैसों की बारिश       क्या बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन लगवाई जा सकती है? जानें       फिर बेनतीजा रही किसान नेताओं और सरकार के बीच वार्ता       सेना ने किया कमाल, पहली बार साथ उड़े 75 ड्रोन्स       Schools in Himachal Pradesh: 15 फरवरी से तैयार रहें, हुआ ये बड़ा ऐलान       मंत्रालय ने दी ये जानकारी, वैक्सीन लगवाने से पहले जान लें साइड इफेक्ट्स       झारखंड: सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाने वालों पर होगा एक्शन