70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत

70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत

नई दिल्‍ली कोविड-19 की दूसरी लहर (Corona Second Wave) का प्रभाव अब धीरे-धीरे कम होने लगा है कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्‍या लगातार पांचवे दिन 1 लाख से कम रही है के बीच बार-बार इस बात को दोहराया जा रहा है कि खतरा अभी भी बरकरार है स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय (Health Department) के अनुसार कोविड-19 गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया तो ये आंकड़े फिर से बढ़ सकते हैं पिछले 24 घंटों की बात करें तो देश में कोविड-19 संक्रमण के 84 हजार 332 नए मुद्दे सामने आए, जबकि 4002 मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी खास बात यह है कि देश में 74 दिन बाद कोविड-19 संक्रमण के इतने कम मुद्दे एक दिन में आए हैं कोविड-19 के नए मुद्दे सामने आने के बाद अब देश में कुल संक्रमित मरीजों की संख्‍या 2 करोड़ 93 लाख 59 हजार 155 हो गई है

, देश में अब तक कोविड-19 से 10 लाख 80 हजार 690 सक्रिय केस हैं, जबकि 2 करोड़ 79 लाख 11 हजार 384 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं देश में अब तक कोविड-19 से 3 लाख 67 हजार 81 लोगों की मृत्यु हो चुकी है महाराष्‍ट्र में कोविड-19 से बड़ी राहत मिलती दिखाई पड़ रही है

जानें कोविड-19 की राज्‍यों में क्‍या है स्थिति

महाराष्ट्र में शुक्रवार को Covid-19 के 11,766 नए मुद्दे सामने आए जबकि कुल मिला कर 2213 लोगों की मृत्यु हो गई स्वास्थ्य विभाग के अनुसार नए मामलों के साथ संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 58,87,853 और मृतक संख्या 1,06,367 हो गई है प्रदेश सरकार ने लैब में Covid-19 जाँच और अन्य आंकड़ों की जाँच करने के बाद मृतकों की संख्या में यह वृद्धि किया है. हालांकि बीते 24 घंटे में Covid-19 के 406 मरीजों की मृत्यु हुई है

राजधानी दिल्‍ली में कोविड-19 के 238 नए मुद्दे सामने आए

दिल्ली में शुक्रवार को कोविड-19 वायरस संक्रमण के 238 नए मुद्दे सामने आए जो कि पिछले तीन महीने में रोजाना सामने आने मामलों की सबसे कम संख्या है स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार महामारी से 24 और मरीजों की मृत्यु हो गई तथा संक्रमण की दर घटकर 0.31 फीसदी रह गई है स्वास्थ्य विभाग के अनुसार दिल्ली में अब तक Covid-19 से 24,772 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है

यूपी में कोविड-19 संक्रमण से 74 और मरीजों की मोत

उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को कोविड-19 वायरस संक्रमण के 74 और संक्रमितों की मृत्यु हो गई जबकि 619 नए मरीज मिले हैं स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटे में 74 मरीजों की मृत्यु के बाद अब तक संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 21,667 हो गई है प्रदेश में इसी अवधि में 619 नए मरीज मिलने के बाद अब तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा 17,01,668 पर पहुंच गया है राज्‍य में पिछले 24 घंटे में 1,642 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर गए हैं और अब तक 16,68,874 लोग कोविड-19 संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं


पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस जासूसी कांड (Jasoosi Case) देश में तूल पकड़ता जा रहा है। इसे लेकर विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार पर लगातार हमलावर हैं और सदन में भी इस मुद्दे को लेकर लगातार सरकार को घेर रही हैं। इस मामले को लेकर पूरा विपक्ष एकजुट हो गया है और मामले में जांच कराने की मांग कर रहा है। इस बीच अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है। सुप्रीम कोर्ट में पेगासस जासूसी मामले को लेकर अगले हफ्ते सुनवाई होगी।

दरअसल, आज यानी शुक्रवार को वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने चीफ जस्टिस एनवी. रमना की बेंच के सामने इस मामले को उठाया, जिस पर फ जस्टिस ने कहा कि अगले हफ्ते वो इस मामले की सुनवाई करेंगे। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में अपील की गई है कि सुप्रीम कोर्ट के जज की अगुवाई में पेगासस मामले की निष्पक्ष जांच की जाए। (कॉन्सेप्ट फोटो साभार- सोशल मीडिया) पेगासस मामला क्या है? दरअसल, बीते दिनों अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने खुलासा किया था कि भारत सरकार ने इजरायली सॉफ्टवेयर पेगासस से कई लोगों के फोन को हैक किया है। इनमें राहुल गांधी, प्रशांत किशोर समेत कई नेता, कुछ केंद्रीय मंत्री, पत्रकार और अन्य लोगों का नाम शामिल था।

वहीं, विपक्ष अब इस मसले को लेकर संसद में रोज हंगामा कर रहा है। विपक्ष की मांग है कि इस विषय पर चर्चा की जाए, जबकि सरकार ने इन आरोपों को पूरी तरह से नकार दिया है क्या है पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware)? पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware) इजरायली साइबर इंटेलिजेंस फर्म NSO ग्रुप द्वारा बनाया गया है, जो निगरानी रखने का काम करता है। पेगासस एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो बिना आप की अनुमति के आपके फ़ोन में घुस जाता है, ये आपके व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी इकट्ठा कर जासूसी करने वाले यूज़र को देने के लिए बनाया गया है। यही आरोप मोदी सरकार पर लगा है कि वह राहुल गांधी समेत तमाम विपक्ष के नेताओं, मीडिया कर्मियों और जानी-मानी हस्तियों की जासूसी कराई है।