इस देश में मंदिरों पर हुए हमले

इस देश में मंदिरों पर हुए हमले

Attack on Hindu Temples: हिंदुस्तान समेत पूरे विश्व से खबरें मिल रही है कि हिंदुओं के मंदिर और मूर्तियों पर अटैक किए जा रहे हैं. पिछले ही दिनों कनाडा और ब्रिटेन में हिंदू मंदिरों को टारगेट किया गया था वहीं हिंदुस्तान में लखनऊ, झारखंड, हैदराबाद समेत अन्य कुछ इलाकों में मंदिर में रखे गए मूर्तियों को छतिग्रस्त पहुंचाया गया. 

1 घंटे के भीतर दो मंदिरों पर हमला 

कनाडा और इंग्लैंड का मामला शांत अभी हुआ ही नहीं था कि विदेशी धरती पर एक बार फिर हिंदुओं के धार्मिक स्थल को निशाना बनाया गया. इस बार कोई पश्चिमी राष्ट्र नहीं बल्कि कैरेबियन द्वीप के त्रिनिदाद और टोबैगो है. यहां हिंदू मंदिरों पर हमला किया गया जिसके बाद वहां रहने वाले हिंदुओं के अंदर आक्रोश देखा गया. आपको हाथ जानकर आश्चर्य होगी कि महज 1 घंटे के भीतर ही 2 मंदिरों को टारगेट किया गया. मंदिर के अंदर घुस कर काफी तोड़फोड़ की गई. मंदिर काउआ और पैनल कस्बे में स्थित है. 

मूर्ती पर लगाया था जैतून का तेल 
जानकारी के मुताबिक, 28 सितंबर को काउआ स्थित एक काली माता मंदिर पर कुछ अज्ञात लुटेरों ने हमला बोल दिया. हमलावरों ने मंदिर के भीतर घुसकर टारगेट बनाकर मूर्तियों को तोड़ा. कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लुटेरों ने मूर्ति पर जैतून का ऑयल भी लगाया और जाते-जाते बाइबल की एक कविता भी लिख डाली. इस कविता का एकमात्र उद्देश्य था कि हिंदू डर जाए यानी आसान भाषा में कहें तो हिंदुओं को चेतावनी दिया गया. अपराधियों ने मंदिर की बाहरी दीवारों पर बड़े लाल अक्षरों में ‘पढ़ें निर्गमन 20:3-4’ लिखा था. 

देवी मां के मंदिर को बनाया निशाना 
इस घटना के संबंध में मंदिर के पुजारी सत्यानंद महाराज ने बताया कि यह घटना उस दौरान घटी जब मंदिर के सेवादार नवरात्रि की पूजा पूरी कर अपने-अपने घर की ओर निकल गए थे. उन्होंने आगे बताया कि लुटेरों ने मंदिर के कई हिस्सों को क्षतिग्रस्त कर दिया. देवी मां की मूर्ति को भी निशाना बनाया गया. वही मूर्तियों को जैतून के ऑयल से नहला दिया गया. वही पंडित सत्यानंद ने बताया कि इसकी कम्पलेन कौवा पुलिस स्टेशन में की गई है. 

देवी-देवताओं के उतार दिए कपड़े 
कौवा मंदिर हुए हमले से पहले पैनल कस्बे में स्थित गणेश भगवान के मंदिर को निशाना बनाया गया था. यह घटना 22 सितंबर की रात को बताई गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुजारी अगले दिन सुबह मंदिर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि मंदिर का पिछला दरवाजा क्षतिग्रस्त हुआ है. इसके अतिरिक्त मंदिर के अंदर रखी हुई मूर्तियों को तोड़ा गया है. सबसे आश्चर्यचकित कर देने वाली बात है कि देवी-देवताओं के ऊपर से कपड़े उतार दिए गए थे. पुजारी ने बताया कि मंदिर के अंदर नशीले पदार्थों का सेवन भी किया गया था. इस संबंध में आगे पुजारी ने बताया कि हम ने शीघ्र में जाकर इसकी कम्पलेन की. 

भारत में भी मंदिर तोड़ने का सिलसिला जारी
भारत के कई हिस्सों से भी आए दिन समाचार मिलती है कि मंदिर के अंदर घुसकर मूर्तियों को तोड़ दिया गया. इसी वर्ष बात करें तो गोरखपुर, रांची, लखनऊ और हैदराबाद में मंदिर को निशाना बनाया गया था. इसमें सबसे दंग करने वाली बात थी कि जो मंदिर तोड़ते थे. वो मानसिक बीमार निकल जाते थे. पुलिस उन्हें मानसिक बीमार करार कर देती थी. पिछले महीने रांची मेन रोड स्थित हनुमान जी की मंदिर के भीतर रखी गई मूर्तियों को तोड़ा गया. घटना की समाचार मिलते ही पुलिस भी तुरंत सक्रिय हो गई थी. पुलिस ने मूर्ति तोड़ने वाले आरोपी रमीज अहमद को अरैस्ट कर लिया था. पुलिस ने बताया कि पुरुष की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी. इसलिए उसने ऐसा कृत्य किया था.