कोविड-19 मरीजों में के लिए मुसीबत बना म्यूकोरमाइकोसिस, जानें

कोविड-19 मरीजों में के लिए मुसीबत बना म्यूकोरमाइकोसिस, जानें

Covid-19 को मात देने के बाद कवक (फंगल) संक्रमण ‘म्यूकोरमाइकोसिस’ की वजह से आंखों की रोशनी गंवाने के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है. कवक संक्रमण (म्यूकोरमाइकोसिस) गंभीर है लेकिन दुर्लभ है. महाराष्ट्र और गुजरात के स्वास्थ्य ऑफिसरों ने शनिवार को बताया कि इस संक्रमण के मुद्दे Covid-19 से ठीक हुए मरीजों में बढ़ रहे हैं और जिसकी वजह से उनमें आंखों की रोशनी चले जाना और अन्य दिक्कतें उत्पन्न हो रही है. 

क्या है म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस)?

म्यूकोरमाइकोसिस एक तरह का बहुत ज्यादा दुर्लभ फंगल इंफेक्शन है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इसे ब्लैक फंगस भी बोला जाता है. म्यूकोरमाइकोसिस इंफेक्शन दिमाग, फेफड़े या फिर स्किन पर भी हो सकता है. इस रोग में कई के आंखों की रौशनी चली जाती है वहीं कुछ मरीजों के जबड़े और नाक की हड्डी गल जाती है. यदि समय रहते इसे कंट्रोल न किया गया तो इससे मरीज की मृत्यु भी हो सकती है. यह मुख्य रूप से उन लोगों को प्रभावित करता है जो स्वास्थ्य समस्याओं के लिए दवा पर हैं जो पर्यावरणीय रोगजनकों से लड़ने की उनकी क्षमता को कम करता है.

डायबिटीज के मरीजों को अधिक खतरा

आम तौर पर जिन लोगों में इम्यूनिटी बहुत कम होती है, म्यूकोरमाइकोसिस उन लोगों को तेजी से अपना शिकार बनाती है. कोविड-19 के दौरान या फिर ठीक हो चुके मरीजों का इम्यून सिस्टम बहुत निर्बल होता है इसलिए वो सरलता से इसकी चपेट में आ जा रहे हैं. खासतौर से कोविड-19 के जिन मरीजों को डायबिटीज है, शुगर लेवल बढ़ जाने पर उनमें म्यूकोरमाइकोसिस खतरनाक रूप ले सकता है.

ब्लैक फंगस के लक्षण?

इसके लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, खूनी उल्टी और बदली हुई मानसिक स्थिति के साथ आंखों या नाक के आसपास दर्द और लाली दिखना शामिल हैं. वहीं स्किन पर ये इंफेक्शन होने से फुंसी या छाले पड़ सकते हैं और इंफेक्शन वाली स्थान काली पड़ सकती है. कुछ मरीजों को आंखों में दर्द, धुंधला दिखाई देना, पेट दर्द, उल्टी या मिचली भी महसूस होती है. हालांकि, सलाहकारों के अनुसार, हर बार नाक ब्लॉक होने की वजह ब्लैक फंगस हो ये भी महत्वपूर्ण नहीं है. इसलिए जाँच कराने में संकोच न करें.

म्यूकोरमाइकोसिस के लक्षण दिखें तो क्या करें?

यदि किसी में इस तरह के लक्षण महसूस हों, तो फौरन डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए. समय रहते उपचार प्रारम्भ कर दिया जाए, तो एंटीफंगल दवाओं से इसे सही किया जा सकता है. जिन लोगों में यह स्थिति गंभीर हो जाती है, उनमें प्रभावित डेड टिशूज़ को हटाने के लिए सर्जरी की भी आवश्यकता पड़ सकती है. ध्यान रहे कि ऐसी समस्या आने पर बिना डॉक्टर की सलाह के कोई दवा न खाएं.

म्यूकोरमाइकोसिस का इलाज?

हालांकि इसका उपचार एंटीफंगल के साथ किया जाता है, लेकिन ब्लैक फंगस में सर्जरी की जरूरत हो सकती है. डॉक्टरों का बोलना है कि डायबिटीज  को नियंत्रित करना, स्टेरॉयड का उपयोग कम करना और इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग ड्रग्स को बंद करना सबसे जरूरी हैं. पर्याप्त हाइड्रेशन बनाए रखने के लिए, इलाज में कम से कम 4-6 हफ्ते के लिए एम्फ़ोटेरिसिन बी और एंटीफंगल थेरेपी से पहले नॉर्मल सलाइन (IV) शामिल हैं.

ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए अलग वार्ड

Covid-19 से ठीक हुए व्यक्तियों में म्यूकरमाइकोसिस या 'ब्लैक फंगस' के संक्रमण के मुद्दे सब स्थान देखने को मिल रहे हैं. मामलों में वृद्धि के बीच गुजरात सरकार ने ऐसे रोगियों के लिए हॉस्पिटल ों में अलग वार्ड स्थापित करना प्रारम्भ कर दिया है और इसके इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा की 5,000 शीशियों की खरीद की है. गुजरात में म्यूकरमाइकोसिस के अब तक 100 से अधिक मुद्दे सामने आये हैं. यह एक गंभीर लेकिन दुर्लभ कवक संक्रमण है, जिसके चलते कई बीमार दृष्टहीन हो गए हैं और इससे अन्य गंभीर दिक्कतें भी उत्पन्न हो रही हैं. प्रदेश सरकार के मुताबिक वर्तमान में अहमदाबाद सिविल हॉस्पिटल में 19 रोगियों का इसके लिए उपचार किया जा रहा है. प्रदेश सरकार के मुताबिक ऐसे मरीजों के उपचार के लिए अहमदाबाद सिविल हॉस्पिटल में 60 बिस्तर वाले दो अलग समर्पित वार्ड स्थापित किए गए हैं.


कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

नई दिल्ली   कोविड-19 के इलाज़ के लिए दुनिया में इस समय कोई खास दवाई नहीं है ऐसे में दूसरी रोंगों में इस्तेमाल होने वाली दवाईयां ही इस्तेमाल के तौर कोविड-19 के मरीजों को दी जाती है इसी कड़ी में इन दिनों 'एंटीबॉडी कॉकटेल' (Antibody Cocktail) की चर्चा है वो दवा जिसे पिछले वर्ष अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दी गई थी अब हिंदुस्तान में भी ये 'एंटीबॉडी कॉकटेल' कई हॉस्पिटल ों में कोविड-19 के मरीजों को दी जा रही है खास बात ये है कि हिंदुस्तान में इस कॉकटेल के अच्छे नतीजे आ रहे हैं दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में जिन मरीजों को ये कॉकटेल दी गई उन्हें उपचार के कुछ ही घंटे के बाद हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई

पिछले वर्ष चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा था इसी दौरान उन्हें इस्तेमाल के तौर पर एंटीबॉडी कॉकटेल दी गई थी उस उक्त न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा था कि आने वाले दिनों में ये कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में असरदार हथियार साबित हो सकता है

ट्रंप में क्या-क्या थे लक्षण, कौन-कौन सी दी गई दवाईयां?

डोनाल्ड ट्रंप को हल्का बुखार और नाक में कंजेशन था आयु और भारी वजन के चलते वो कोविड-19 के हाई रिस्क मरीज़ थे बोला जाता है कि हॉस्पिटल में उन्हें कम से कम दो बार ऑक्सिजन की आवश्यकता पड़ी इसी दौरान उन्हें एंटीबॉडी कॉकटेल की डोज़ दी गई इसके अतिरिक्त उन्हें रेमडेसिवीर की इंजेक्शन लगाई गई साथ ही उन्हें डेक्सामेथासोन की टैबलेट भी दी गई


Bigg Boss 14: राखी को हुआ कैप्टन बनने का पछतावा, घरवालों के परेशान करने से टूटी हिम्मत       नेहा पेंडसे ने सीरियल में आने को लेकर तोड़ी चुप्पी, बोलीं...       Bigg Boss 14: निक्की के बिस्तर पर खाना फेंकना सोनाली फोगाट को पड़ा भारी, ट्रोलर्स ने यूं निकाला भाजपा नेता पर गुस्सा       इस एक्ट्रेस की बोल्ड फोटो हुई वायरल, कुर्सी पर बैठकर हॉट पोज देती आईं नजर       Amitabh Bachchan ने किया खुलासा, 14 साल की उम्र में बेटे अभिषेक बच्चन ने दिया था पहला ऑटोग्राफ       2021 में सोने की कीमत होगी 65000 रुपये!       नए साल में UPI ट्रांजैक्शन होगा महंगा?       Jio ने फ्री की सेवा, कस्टमर की हुई बल्ले-बल्ले       महंगा हुआ प्याज, इतने रुपये तक पहुंचा       बैंक आएगा घर! ग्राहकों को मिलेगी ये सभी सुविधाएं, जानें       सेहत के लिए फायदेमंद होता है इसका सेवन       नीम के पत्तों के सेवन से होते हैं ये फायदे, कभी नहीं होता है कैंसर       मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ रहा है कोरोना वायरस के कारण       जलने के बाद अपनाएं ये घरेलू उपाय       लड़कियों के पीरियड्स में दर्द से राहत दिलाती है ये घरेलू उपाय       दिग्गज खिलाड़ियों के बावजूद यूपी की टीम ने झेली हार की हैट्रिक, आगे की राह हुई मुश्किल       सिर्फ चौके-छक्के से बनाए 90 रन,इस धुरंधर ने तोड़ा सबसे तेज महिला टी20 शतक का वर्ल्ड रिकॉर्ड       शिखर धवन नहीं चले फिर भी दिल्ली ने आंध्र को हराकर दर्ज की लगातार दूसरी जीत       फाइनल टेस्ट मैच के दौरान भारतीय टीम को लगा बड़ा झटका!       रोहित शर्मा ने की फिटनेस पर उंगली उठाने वालों की बोलती बंद