कश्मीरी छात्रों को भारत विरोधी एजेंडे के लिए डिग्रियां देता है पाकिस्तान, NIA ने दी चौंकाने वाली जानकारियां

कश्मीरी छात्रों को भारत विरोधी एजेंडे के लिए डिग्रियां देता है पाकिस्तान, NIA ने दी चौंकाने वाली जानकारियां

नई दिल्ली। पाकिस्तान की सरकार जम्मू-कश्मीर के छात्रों को एमबीबीएस, इंजीनियरिंग के पाठयक्रम या अन्य शिक्षण संस्थानों में दाखिला और छात्रवृत्ति अपने भारत विरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए देती है। डाक्टर, इंजीनियर बनने के लिए पाकिस्तान पहुंचने वाले कश्मीरी छात्रों में जिहादी और अलगाववादी मानसिकता को बढ़ावा देकर उन्हें आतंकी और अलगाववादी बनाया जाता है। पाकिस्तान की इस साजिश का पर्दाफाश जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने किया है।

आतंकियों, हुर्रियत और पाक का नापाक गठजोड़ 

एनआइए ने टेरर फंडिंग के सिलसिले में दायर अपने आरोपपत्र में बताया है कि आतंकियों, हुर्रियत कांफ्रेंस और पाकिस्तान सरकार के बीच एक त्रिपक्षीय गठजोड़ है, जो पाकिस्तान के प्रति झुकाव रखने वाले कश्मीरी डाक्टरों, इंजीनियरों की एक पौध तैयार करने में जुटा हुआ है।

दाखिले के लिए वीजा उपलब्‍ध कराते हैं ये नेता 

उल्लेखनीय है कि कट्टरपंथी हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी और उदारवादी हुर्रियत नेता मीरवाइज मौलवी उमर फारूक व उनके कई अन्य साथी पाकिस्तान में कश्मीरी छात्रों के दाखिले का प्रबंध करते रहे हैं। इनकी सिफारिश पर पाकिस्तान के लिए कश्मीरी छात्रों व अन्य लोगों को वीजा आसानी से मिल जाता था। 

आतंकियों के साथ जुड़ रहे तार 

जांच में पता चला है कि जो भी छात्र पाकिस्तान पढ़ने गए हैं, उनमें से अधिकांश किसी पूर्व आतंकी के रिश्तेदार या सक्रिय आतंकियों के साथ किसी न किसी तरीके से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा हुर्रियत नेता कश्मीर के कुछ प्रभावशाली परिवारों के बच्चों को पाकिस्तान में मेडिकल व इंजीनियरिंग कालेजों में दाखिला दिलाने की आड़ में उनसे मोटी रकम भी प्राप्त करते रहे हैं। इस पैसे का एक बड़ा हिस्सा आतंकी व अलगाववादी गतिविधियों में खर्च होता रहा है।

दस्तावेज से सच्चाई आई बाहर

एनआइए ने अदालत को बताया कि अलगाववादी नेता नईम खान के मकान की तलाशी के दौरान कुछ दस्तावेज मिले। यह दस्तावेज पाकिस्तान में एक कश्मीरी छात्र को एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए दाखिला दिलाने की सिफारिश से संबंधित थे। इनमें एक छात्र के बारे में बताया गया था कि वह और उसका परिवार पाकिस्तान समर्थक है, वह कश्मीर की आजादी के प्रति संकल्पबद्ध है।

बंद हुई अलगाववादियों की दुकान 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मामले का नोटिस लिया था और उन्होंने जांच एजेंसियों को इस पूरे नेटवर्क पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। इसके बाद ही जम्मू कश्मीर से गुलाम कश्मीर या पाकिस्तान में एमबीबीएस या इंजीनियरिग की पढ़ाई के लिए जाने वाले छात्रों की संख्या में कमी आई है। अनुच्छेद 370 की समाप्ति के बाद यह संख्या नाममात्र रह गई है, क्योंकि हुर्रियत नेताओं ने जो पढ़ाई के लिए दाखिले दिलाने की दुकान खोल रखी थी, वह बंद हो गई है।

तत्कालीन सत्ता तंत्र ने कभी संज्ञान नहीं लिया 

हुर्रियत, आतंकियों और पाकिस्तान सरकार द्वारा कश्मीरी छात्रों को एक हथियार की तरह इस्तेमाल करने की इस साजिश का जम्मू-कश्मीर के तत्कालीन सत्ता तंत्र को पूरा पता था, लेकिन किसी ने इसे रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। पाकिस्तान गए कई छात्रों ने वहां उन्हें कश्मीर में पाकिस्तानी एजेंडे को प्रोत्साहित करने के लिए मजबूर किए जाने के बारे में एजेंसियों को भी बताया था। 

पाकिस्‍तान गए हैं करीब 700 छात्र 

कई छात्रों ने कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के पक्ष को सही ठहराने संबंधी मुद्दों के बारे में कश्मीर आकर संबंधित सुरक्षा एजेंसियों को बताया था। करीब एक साल पहले सुरक्षा एजेंसियों ने बताया था कि जम्मू कश्मीर से करीब 700 छात्र पकिस्तान के विभिन्न मेडिकल व इंजीनियरिंग कालेजों में पढ़ने गए हैं। इनमें से अधिकांश छात्र कश्मीर घाटी से संबंध रखते हैं।

डिग्री को लेकर पैदा हुआ था विवाद

अगस्त, 2020 में मेडिकल काउंसिल आफ इंडिया ने एक अधिसूचना जारी कर स्पष्ट किया था कि गुलाम कश्मीर का कोई भी कालेज उसके द्वारा मान्य नहीं है, इसलिए वहां से पढ़कर आने वाले छात्रों को जम्मू-कश्मीर या भारत में कहीं भी प्रेक्टिस करने या सरकारी रोजगार प्राप्त करने का अधिकार नहीं है। करीब तीन साल पहले भी गुलाम कश्मीर में एमबीबीएस की डिग्री हासिल करने को लेकर जम्मू कश्मीर में विवाद पैदा हो गया था। इसके बाद यह मामला अदालत में पहुंचा और हादिया चिश्ती नामक छात्रा को अदालत ने राहत देते हुए विदेश मंत्रालय को कहा था कि वह उसके मामले का संज्ञान ले। गुलाम कश्मीर भी भारत का ही हिस्सा है।


अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ कैंसर संस्थान को कोविड-19 के मरीजों के लिए खोले जाने का सुझाव सरकार को सोमवार ट्वीट करके दिया है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा,‘‘इस मेडिकल इमरजेंसी के दौर में सपा के समय शुरू हुआ ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का विशाल परिसर पहले चरण में 750 एवं कुल 1250 बेड के लिए स्थान उपलब्ध कराएगा।‘‘

उन्होंने आगे लिखा,‘‘सपा ने डेढ़ साल में जिस कैंसर इंस्टीट्यूट को बनाया था, उसे भाजपा सरकार अपने चार साल के कार्यकाल के बाद कोविड के लिए तो खोल दे।‘‘

उल्लेखनीय है कि पिछले नवरात्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चक गंजरिया सिटी सुलतानपुर रोड पर ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का लोकार्पण किया था और तब उन्होंने कहा था कि शुरुआत में इसकी क्षमता 54 बिस्तरों की है जिसे जल्द ही 750 बिस्तरों वाला कर दिया जायेगा। योगी ने कहा था कि अगले चरण में इस इंस्टीट्यूट को 1250 बेड की क्षमता का किये जाने का लक्ष्य है। 


गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत       हर्षवर्धन ने साधा निशाना, मोदी सरकार को रास नहीं आए मनमोहन के कोरोना पर सुझाव       अभी अभी: मनमोहन सिंह कोरोना वायरस से संक्रमित, एम्स में भर्ती