UNSC की बैठक में आमने-सामने आए दोनों देश, कोरोना को लेकर चाइना पर भड़का अमेरिका       कोरोना ख़त्म होने के बाद क्या होगा संसार का हाल ?       संक्रमितों की संख्या में हुई खौफनाक बढ़ोतरी, कोरोना से पाकिस्तान के हाल बेहाल       आइसोलेशन में गए किंग सलमान, सऊदी के शाही परिवार पर 'कोरोना' का हमला       संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा- शुक्रिया       कोरोना से नहीं हारे जॉनसन: आईसीयू से बाहर आए, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा...       अमेरिका ने चाइना को दी Telecom बैन करने की धमकी, कोरोना को लेकर गहराया विवाद       कोरोना: 10 लाख लोगों के लिए सिर्फ 5 बेड, सुविधाओं की कमी से जूझ रहे अफ्रीकी देश       लंदन उच्च न्यायालय ने टाली सुनवाई, दिवालिया घोषित नहीं होगा विजय माल्या       घर आंगन में फिर फुदकने लगी है नन्ही गौरेया       कोरोना: न्यूजीलैंड ने हिंदुस्तान के साथ प्रारम्भ किया था लॉकडाउन       तस्वीरें: लॉकडाउन से पर्यावरण में पड़ी जान, गंगा-यमुना का पानी हुआ साफ       Honor Play 4T व Play 4T Pro हुए लॉन्च, दोनों में मिलेगी 4,000mAh की बैटरी       महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर मंडराया कोरोना का खतरा       वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...       पीएम मोदी ने कहा कि भारत कोरोना से निपटने में अपने मित्रों की हरसंभव मदद करने के लिए तैयार       संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा...       जानें कैसे करती है कोरोना से बचाव, 350 रुपये में तैयार की पीपीई किट       जेईई मेन के आवेदनकर्ता को मिला सुनहरा मौका       जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...      

A PHP Error was encountered

Severity: 8192

Message: Array and string offset access syntax with curly braces is deprecated

Filename: libraries/My_upload.php

Line Number: 2727

Backtrace:

File: /home/newsexpre/web/newsexpress24.com/public_html/application/core/Core_Controller.php
Line: 7
Function: __construct

File: /home/newsexpre/web/newsexpress24.com/public_html/application/core/Core_Controller.php
Line: 100
Function: __construct

File: /home/newsexpre/web/newsexpress24.com/public_html/application/controllers/Home.php
Line: 8
Function: __construct

File: /home/newsexpre/web/newsexpress24.com/public_html/index.php
Line: 315
Function: require_once

खुलकर लीजिए सांस, दिल्‍ली की हवा हुई शुद्ध
जनता से एकजुट होने की कर दी अपील, सोनिया गांधी ने गहरी साजिश का किया खुलासा!

जनता से एकजुट होने की कर दी अपील, सोनिया गांधी ने गहरी...

Content Team Jan 26, 2020 56

24 घंटे में माँगा जवाब, मध्य प्रदेश फ्लोर टेस्ट पर कमलनाथ सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

24 घंटे में माँगा जवाब, मध्य प्रदेश फ्लोर टेस्ट पर कमलनाथ...

Content Team Mar 17, 2020 14

टोक्यो ओलंपिक गेम्स 2020 टलने से मायूस हुए खिलाड़ी, बोले...

टोक्यो ओलंपिक गेम्स 2020 टलने से मायूस हुए खिलाड़ी, बोले...

Content Team Mar 25, 2020 15

कोरोना: न्यूजीलैंड ने हिंदुस्तान के साथ प्रारम्भ किया था लॉकडाउन
जनता से एकजुट होने की कर दी अपील, सोनिया गांधी ने गहरी साजिश का किया खुलासा!

जनता से एकजुट होने की कर दी अपील, सोनिया गांधी ने गहरी...

Content Team Jan 26, 2020 56

24 घंटे में माँगा जवाब, मध्य प्रदेश फ्लोर टेस्ट पर कमलनाथ सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

24 घंटे में माँगा जवाब, मध्य प्रदेश फ्लोर टेस्ट पर कमलनाथ...

Content Team Mar 17, 2020 14

टोक्यो ओलंपिक गेम्स 2020 टलने से मायूस हुए खिलाड़ी, बोले...

टोक्यो ओलंपिक गेम्स 2020 टलने से मायूस हुए खिलाड़ी, बोले...

Content Team Mar 25, 2020 15

खुलकर लीजिए सांस, दिल्‍ली की हवा हुई शुद्ध

राष्ट्रीय राजधानी के निवासियों ने शनिवार की प्रातः काल राहत की सांस ली. दिल्‍ली की हवा शनिवार की प्रातः काल पहले के मुकाबले बहुत ज्यादा साफ रही. समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) में सुधार हुआ, जो केंद्र-संचालित के अनुसार प्रातः काल 7:40 बजे 121 तक आ गया. एयर क्‍वालिटी इंडेक्स व वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के मुताबिक, PM2.5 व PM10 की समग्र सांद्रता क्रमशः 66 व 131 पर पहुंच गई, दोनों 'मध्यम' श्रेणी में आते हैं.

दरअसल, पिछले कुछ समय से वायु की गुणवत्‍ता दिल्‍ली व आसपास के क्षेत्र में अच्छा नहीं थी. एक्‍यूआइ लगभग 300 के आसपास चल रहा था, जो बेहद बेकार श्रेणी में आता है. ऐसे में एक्‍यूआइ का स्‍तर 121 तक पहुंचना, दिल्‍लीवासियों के लिए राहत की समाचार है.

पुरानी दिल्ली का लोकप्रिय बाज़ार चंदानी चौक, जो पिछले कई हफ्तों से वायु गुणवत्ता की 'बहुत खराब' श्रेणी से जूझ रहा था, इसमें भी सुधार देखने को मिला है. यहां पिछले कुछ समय से वायु प्रदूषण की 'खराब' श्रेणी दर्ज की गई, लेकिन शनिवार को यहां 244 एक्‍यूआइ दर्ज किया गया. वहीं धीरपुर, पूसा व लोधी रोड में हवा की गुणवत्ता क्रमश: 173, 108 व 131 के साथ 'मध्यम' श्रेणी में रही. दिल्ली विश्वविद्यालय, आईआईटी दिल्ली, इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे व मथुरा रोड जैसे कई स्थानों पर, पीएम 10 का उच्च स्तर क्रमशः एक्‍यूए के साथ 116, 125, 126 व 116 के साथ दर्ज किया गया, जो 'मध्यम' श्रेणी में आता है.


कोरोना: न्यूजीलैंड ने हिंदुस्तान के साथ प्रारम्भ किया था लॉकडाउन

भारत में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है. बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन की अवधि को 21 दिनों से बढ़ाने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है. हिंदुस्तान ने बेशक इस वायरस पर अब तक काबू पाने में सफलता हासिल नहीं की है लेकिन संसार का एक देश ऐसा भी है जहां हिंदुस्तान के साथ ही लॉकडाउन की आरंभ हुई थी व वहां के दशा अब बेहतर होने लगे हैं.

लगातार चौथे दिन न्यूजीलैंड में मामलों में आई गिरावट
हिंदुस्तान व न्यूजीलैंड ने कोरोना के विरूद्ध लड़ाई के लिए एक ही लॉकडाउन की घोषणा की थी. एक तरह से न्यूजीलैंड ने कोरोना पर काबू पा लिया है व यहां लगातार मामलों में कमी नजर जा रही है. यहां लगातार चौथे दिन मामलों में गिरावट दर्ज की गई. वहीं हिंदुस्तान की बात करें तो यहां मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. पिछले एक सप्ताह के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो प्रतिदिन कोरोना के 500 से ज्यादा मुद्दे सामने आ रहे हैं. 

24 मार्च को हुई थी लॉकडाउन की घोषणा
लॉकडाउन की घोषणा के समय न्यूजीलैंड में कोरोना के केवल 29 मुद्दे सामने आए थे जबकि हिंदुस्तान में यह आंकड़ा 590 के करीब था. न्यूजीलैंड की पीएम जेसिंडा अर्डर्न ने चार हफ्तों के लॉकडाउन की घोषणा की है. वहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने इसी दिन देश के नाम संबोधन में 21 दिनों के लॉकडाउन का एलान किया था. न्यूजीलैंड की तरह हिंदुस्तान में भी राशन, सब्जी, दवा की दुकानों को छोड़कर सबकुछ बंद है. दोनों देश सामाजिक दूरी का पालन कर रहे हैं. कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए दोनों राष्ट्रों ने अपनी आबादी को घरों में कैद किया हुआ है. इसके बावजूद हिंदुस्तान में संक्रमितों की संख्या 6400 से ऊपर है व न्यूजीलैंड में 1200 के करीब.

आबादी में है बहुत अंतर
न्यूजीलैंड की आबादी केवल 50 लाख है जो दिल्ली की जनसंख्या के करीब एक चौथाई है. कोरोना के विरूद्ध लड़ाई में हिंदुस्तान के सामने सबसे बड़ी समस्या उसकी 130 करोड़ की आबादी है. न्यूजीलैंड में जिस समय 29 मुद्दे दर्ज किए गए थे तो उसने तभी 19 मार्च को विदेशियों के प्रवेश पर रोक लगा दी थी. हिंदुस्तान ने लगभग 12 मार्च के इर्द-गिर्द विदेशियों के प्रवेश पर रोक लगाई थी. हिंदुस्तान में विदेशों से आने वाले यात्रियों की संख्या न्यूजीलैंड से ज्यादा है.

नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं लोग
जिस समय न्यूजीलैंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या 102 पर पहुंची वहां तभी से एहतियात बरतने व कड़े कदम उठाने प्रारम्भ कर दिए. जबकि हिंदुस्तान में 175 मुद्दे सामने आने के बाद कड़े कदम उठाए गए. कई जगहों पर धारा 144 लागू की गई तो 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाया गया. दोनों राष्ट्रों के बीच सबसे बड़ा अंतर यह देखने को मिला कि जहां न्यूजीलैंड के लोगों ने आइसोलेशन को समझा व लॉकडाउन को गंभीरता से लिया वहीं हिंदुस्तान में ऐसा कम ही नजर आया. लोग आज भी लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. जबकि उन्हें बार-बार सामाजिक दूरी के बारे में बताया जा रहा है कि कोरोना को रोकने का यही तरीका है. देशभर में जगह-जगह लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले लोग सामने आ रहे हैं. 

तब्लीगी जमात ने भी बढ़ाई संख्या
हिंदुस्तान में कोरोना संक्रमितों की संख्या में आई तेजी का एक कारण तब्लीगी जमात भी है. स्वास्थ्य मंत्रालय का भी बोलना है कि देश के कुल कोरोना मरीजों की संख्या में 30 से 35 प्रतिशत का सहयोग तब्लीगी जमात का है. वहीं न्यूजीलैंड में ऐसा कोई मुद्दा सामने नहीं आया. हिंदुस्तान में जहां अब तक 199 लोगों की मृत्यु हो चुकी है वहीं न्यूजीलैंड में केवल दो लोगों की जान गई है.