एनटीए में निकली इस पद पर वैकेंसी

एनटीए में निकली इस पद पर वैकेंसी

 नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने चार्टर्ड अकाउंटेंट के पद के लिए भर्ती नोटिफिकेशन जारी किया है इस भर्ती के लिए आधिकारिक अधिसूचना 12 मई को जारी कर दी थीजबकि आवेदन प्राप्त करने की आखिरी तारीख विज्ञापन के प्रकाशन की तारीख से 15 दिन तक है उम्मीदवारों को आखिरी तारीख से पहले आवेदन करने की राय दी जाती है

इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवार के पास कम से कम 15 साल का होना चाहिए जबकि आवेदक फर्म के पास शैक्षिक समितियों/सरकारी संगठनों के काम को संभालने के लिए एक समर्पित विंग होना चाहिए आवेदक फर्म  को कम से कम 2 बड़े सरकारी संगठनों के लेखा परीक्षा का अनुभव होना चाहिए एनटीए बिना कोई कारण बताए किसी भी या सभी आवेदनों को किसी भी समय स्वीकार/अस्वीकार करने का अधिकार सुरक्षित रखता है

इसके साथ ही आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट में विज्ञापन की तिथि से 15 दिनों के एंड शुल्क सहित अपनी फर्म का प्रोफाइल और प्रासंगिक विवरण भेजना होगा आवेदन महानिदेशक, राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी, प्रथम तल, एनएसआईसी-एमडीबीपी बिल्डिंग ओखला इंडस्ट्रियल एस्टेट नयी दिल्ली 110020 को भेजा जाना चाहिए साथ ही आवेदन पत्र को [email protected] पर ईमेल भी करना होगा

एनटीए भर्ती 2022 के लिए आवेदन इस प्रकार करें

चरण 1: सबसे पहले एनटीए की आधिकारिक वेबसाइट  nta.ac.in पर जाएं चरण 2: अब होम पेज पर “नवीनतम @NTA” अनुभाग को चुनें चरण 3: इसके बाद अधिसूचना में आवेदन पत्र भी शामिल होगा उसे डाउनलोड कर लें चरण 4: अब आवेदन पत्र का प्रिंट निकाल लें चरण 5: अंत में आवेदन पत्र भरें और संबंधित पते व मेल आईडी पर भेज दें

Education Loan Information:


घूस लेकर चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

घूस लेकर चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

सीबीआई ने पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और कांग्रेस पार्टी सांसद कार्ति चिदंबरम के विरूद्ध एक और मामला दर्ज कर उनके करीब 10 ठिकानों पर छापेमारी की ये छापेमारी दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कर्नाटक, पंजाब और ओडिशा में की गई है सीबीआई ने कार्ति चिंदबरम और दूसरे आरोपियों के विरूद्ध जो मामला दर्ज किया है उसमें आरोप है कि कार्ति ने 50 लाख रुपये घूस लेकर गृह मंत्रालय से चीनी नागरिकों को वीजा दिलवाया हैय

चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

सीबीआई में दर्ज मुद्दे के अनुसार पंजाब के मानसा में तलवंडी साबो पावर प्लांट लग रहा था इस थर्मल पावर प्लांट की क्षमता 1980 मेगा वॉट थी जिसे लगाने का जिम्मा चीन की Shandong Electric Power Construction Corp (SEPCO) को दिया गया था

यही वजह थी कि इस प्लांट को लगाने के लिये चीन के इंजीनियरों को प्रोजेक्ट वीजा दिया गया था लेकिन काम में देरी के चलते कंपनी को अधिक चीनी इंजीनियरों की आवश्यकता थी जिसके लिये वे वीजा स्वीकृति चाहिये थे क्योंकि इससे पहले जो प्रोजेक्ट वीजा दिये गये थे वो तय समय से अधिक हो चुके थे और फिर से वीजा के लिये गृह मंत्रालय से स्वीकृति महत्वपूर्ण थी

एक कपंनी के जरिए 50 लाख की घूस

इसके लिये पावर प्लांट ने कार्ति चिंदबरम को संपर्क किया और फिर 50 लाख रुपयों के बदले कार्ति चिदंबरम ने गृह मंत्रालय से 263 Re-use प्रोजेक्ट वीजा की स्वीकृति दिलवाई ध्यान देने वाली बात ये है कि वर्ष 2011 में जब ये स्वीकृति दिलवाई गई उस दौरान कार्ति के पिता पी चिदंबरम राष्ट्र के गृहमंत्री थे  

एजेंसी के अनुसार चीनी इंजीनियरों को वीजा दिलाने के बदले जो 50 लाख की घूस दी गई थी वो मुंबई की एक कंपनी M/s Bell Tools Ltd के जरिये दी गई थी कार्ति की कंपनी ने कंस्लटेंसी के नाम पर फर्जी बिल इस कंपनी के नाम बनाया जिसके बदले ये रिशवत दी गई