जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...       कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'       PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...       कोरोना वायरस के मद्देनजर नेवी में भर्ती पर रोक, एडमिरल करमबीर सिंह बोले...       कोरोना से जंग में लगे पुलिसवालों को मिलेगा 30 लाख का कवर, हरियाणा सरकार बड़ा फैसला!       केरल में COVID-19 वार्ड से पकड़ी गई पांच बिल्लियों की मौत       कोरोना वॉरियर की जान गई तो परिवार को 10 लाख रुपये देगी सरकार       चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि उद्धव ठाकरे को एमएलसी मनोनीत नहीं कर सकते राज्यपाल       OMG! सुपरहीरो बनकर कोरोनावायरस को हराना चाहती हैं ये मॉडल , अंग-अंग दिखाती आई नजर       TV एक्ट्रेस अपने सेक्सी फ़िगर से मचा रही है धमाल, हुस्न का दीदार करते रहे लोग       पीएम मोदी की अपील पर इस मॉडल ने ब्रा और पेंटी पहनकर जलाई मोमबत्तियां, जीत लिया सबका दिल       लॉकडाउन से बोर होकर इस एक्ट्रेस ने शेयर की अपनी कामुक तस्वीरे, जिसे देख दीवाने हुए फैंस       लॉकडाउन के दौरान इस एक्ट्रेस ने की ऑनलाउन चैट शो की शुरुआत       कोरोना की लड़ाई में आखिर शाहरुख खान भी आये आगे       लॉकडाउन के बीच उर्वशी ने दिखया अपना हॉट अवतार       'छोटी सरदारनी' के अमल सेहरावत ने कहा...       OMG!आसिम रियाज ने इस एक्ट्रेस के लिए साझा किया रोमांटिक पोस्ट!       तैमूर ने अपनी मां करीना के लिए बनाया पास्ता नेकलेस       एक कप कॉफी के ये हेल्थ बेनीफिट्स नहीं जानते होंगे आप, जानें       Coronavirus: क्या पत्तागोभी खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?, जानें      

भीमा कोरेगांव मुद्दे में शरद पवार से की जाएगी पूछताछ

भीमा कोरेगांव मुद्दे में शरद पवार से की जाएगी पूछताछ

मुंबई: भीमा कोरेगांव मुद्दे की जाँच कर रहे आयोग ने राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) प्रमुख शरद पवार को जातिगत हिंसा के मुद्दे में बयान के लिए तलब करने का फैसला लिया है. न्यायिक पैनल के एडवोकेट आशीष सतपुते ने मंगलवार को बताया कि आयोग के अध्यक्ष, सेवानिवृत्त जस्टिस जेएन पटेल ने बोला कि पवार ने पैनल के सामने एक हलफनामा दाखिल किया है व उन्हें बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया जाएगा.

उन्होंने बोला कि, 'इस विषय में एक समन जारी किया जाएगा.' एडवोकेट ने बोला कि पवार को सुनवाई के आखिरी चरण में बुलाए जाने की आसार है. इस माह की आरंभ में शिवसेना के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार ने इस साल 8 अप्रैल तक आयोग को अंतिम विस्तार दिया है व पैनल को अपनी रिपोर्ट सौंपने को बोला गया है. पिछले हफ्ते सामाजिक समूह विवेक विचार मंच के मेम्बर सागर शिंदे ने आयोग के समक्ष एक आवेदन दाखिल किया. जिसमें 2018 जाति हिंसा के सम्बन्ध में मीडिया में उनके द्वारा दिए गए कुछ बयानों को देखते हुए पवार को तलब करने की मांग की गई है.

अपनी याचिका में शिंदे ने 18 फरवरी को प्रेस बातचीत में पवार द्वारा दिए बयान का जिक्र किया था. आवेदन के मुताबिक, पवार ने प्रेस बातचीत में कथित तौर पर आरोप लगाया था कि दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं मिलिंद एकबोटे व संभाजी भिडे ने पुणे शहर के बाहरी इलाके में स्थित कोरेगांव-भीमा व इसके आसपास के इलाके में हिंसा का माहौल बनाया है. इसी प्रेस बातचीत में पवार ने यह भी आरोप लगाया था कि पुणे शहर के पुलिस कमिश्नर की किरदार संदिग्ध है व इसकी जाँच होनी चाहिए.


कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'

कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बोला है कि जिन इलाकों में कोरोना के केस पाए गए हैं, उन 21 इलाकों में कंटेंनमेंट लागू किया गया है। किसी को अपने घर से बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी व सभी महत्वपूर्ण चीजें घर पर ही पहुंचाई जाएंगी। अब कंटेनमेंट लागू होने वाले 21 इलाकों में ऑपरेशन शील्ड चलेगा।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बोला कि डाॅक्टर व नर्स अपनी जान दांव पर लगाकर लोगों का उपचार कर रहे हैं। किसी डाॅक्टर या नर्स के साथ दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा व ऐसा करने वालों को कठोर सजा दी जाएगी।

इसके साथ ही सरकार ने घर से निकलने पर मास्क पहनना जरूरी कर दिया है। केजरीवाल ने बोला कि सभी को लाॅकडाउन से परेशानी हो रही, लेकिन यह आपकी जिंदगी बचाने लिए है। सरकार का कर आना बंद हो गया है, अब सरकार केवल तनख्वाह व कोरोना से जुड़े मसले के अतिरिक्त कोई खर्च नहीं करेगी, आगे भी कटौती करनी पड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने बोला कि जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें भी राशन बांट रहे, इस कार्य में लगे प्रधानाचार्यों व शिक्षकों का शुक्रिया जो दिन रात लगे हुए हैं।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में कोरोना का कहर थामने के लिए ऑपरेशन शिल्ड को बड़े पैमाने पर चलाने का फैसला लिया है। जिन 21 इलाकों में कंटेनमेंट लागू किया गया है, वहां ऑपरेशन शील्ड चलाया जा रहा है।

इस तरह होगा ऑपरेशन शील्ड का संचालन 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बोला कि दिल्ली में 21 ऐसे इलाके चिंहित किए गए हैं, जिनमें कंटेनमेंट (शील्ड) लागू किया गया है। यह कंटेनमेंट क्या है? सीएम ने बताया कि जहां पर कुछ मरीज मिलते हैं, उस एरिया को हम सील कर देते हैं।

कंटेनमेंट का सीधा तात्पर्य है कि हमने उस एरिया को पूरी तरह से शील्ड कर दिया। उस एरिया के लोग बाहर नहीं जाएंगे। बाहर के लोग अंदर नहीं आएंगे। शील्ड में 6 अक्षर हैं, एस से सील हुआ, ‘एच’ अक्षर का मतलब होम क्वारेंटाइन है। उस एरिया के लोग अपने-अपने घर में ही रहेंगे। बाहर नहीं निकलेंगे।

‘आई’ अक्षर का मतलब आइसोलेशन एंड ट्रेसिंग है। जिन लोगों को कोरोना हुआ है, उनको उस कमरे के अंदर आइसोलेट किया जाता है व वे पिछले दिनों में कहां-कहां घूमे, यह सीसीटीवी व मोबाइल फोन के जरिए पता करके उन सभी लोगों को मार्क किया जाता है। ‘ई’ अक्षर का मतलब एसेंशियल सप्लाई है। उस इलाके अंदर रहने वाले लोगों को महत्वपूर्ण वस्तुओं की आपूर्ति डोर-टू-डोर के जरिए की जाती है। महत्वपूर्ण वस्तुएं उनके घर पहुंचा दी जाती है, ताकि वो लोग घर से बाहर न निकलें। शिल्ड के ‘एल’ अक्षर का मतलब लोकल सेनिटाइजेशन है। उस सारे एरिया को सैनिटाइज कर दिया जाता है। उस सारे एरिया को दवाई छिड़क कर डिस-इंफेक्ट कर दिया जाता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बोला कि शिल्ड के ‘डी’ अक्षर का मतल डोर-टू- डोर चेकिंग है. एक-एक घर के अंदर जाकर यह पूछा जाता है कि आपके घर में कोई बीमार तो नहीं है। किसी को खांसी, बुखार, सांस लेने में या शरीर में कोई परेशानी तो नहीं है। जिन लोगों में कोरोना के लक्षण मिलते हैं, उन लोगों को आइसोलेट कर, उनके सैंपल लेकर जाँच की जाती है।

लाॅकडाउन के चलते सरकार को कर आना लगभग बंद

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बोला कि दिल्ली सरकार ने कल आदेश पारित किया है। लाॅकडाउन की वजह से कोई भी गतिविधि नहीं चल रही है न किसी की दुकान चल रही है, न किसी की फैक्ट्री चल रही है व न कोई जॉब कर पा रहा है। इसीलिए सरकार को कर आना लगभग बंद हो गया है। सरकार को महीने-दो महीने के बाद सैलरी देने के लिए पैसे कहां से आएंगे। हमें बेहद कटौती करनी पड़ेगी। इसलिए दिल्ली सरकार ने निर्णय लिया है कि अब सिर्फ सैलरी व कोरोना से संबंधित जैसे फ्री राशन बांट रहे हैं व फ्री खाना खिला रहे हैं, इन सब के अतिरिक्त कोई व खर्चा नहीं किया जाएगा। आगे हम व भी कटौती करेंगे, लेकिन इस मुश्किल हालात में हम सभी लोगों को कुर्बानी करनी पड़ेगी।

राशन वितरण में आ रही दिक्कतों को दूर कर देंगे

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बोला कि हमने बताया था कि 71 लाख लोगों को राशन दे रहे हैं। जिन लोगों के पास राशन कार्ड नहीं था, अब उन लोगों को भी राशन देना प्रारम्भ कर दिया है। इसकी पूरी व्यवस्था आकस्मित बनानी पड़ी है। इसलिए थोड़ी फ्रील्ड में थोड़ी कठिनाई आ रही है, क्योंकि स्कूल में राशन बांट रहे हैं. स्कूल के शिक्षक व प्रिंसिपल राशन का वितरण कर रहे हैं। मैं सभी स्कूल के शिक्षक व प्रिंसिपल को धन्यवाद देना चाहता हूं। उनका यह कार्य नहीं था, लेकिन वे लोग यह कार्य कर रहे हैं। इसमें अभी कई दिक्कतें आ रही हैं व दो-चार दिन में सभी दिक्कतें अच्छा हो जाएंगी। सभी लोगों को थोड़ा सब्र करना होगा। यह मैं विश्वास दिलाता हूं कि सभी लोगों को राशन मिलेगा, आप लोग बिल्कुल चिंता न करें।