Honor Play 4T व Play 4T Pro हुए लॉन्च, दोनों में मिलेगी 4,000mAh की बैटरी       महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर मंडराया कोरोना का खतरा       वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...       पीएम मोदी ने कहा कि भारत कोरोना से निपटने में अपने मित्रों की हरसंभव मदद करने के लिए तैयार       संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा...       जानें कैसे करती है कोरोना से बचाव, 350 रुपये में तैयार की पीपीई किट       जेईई मेन के आवेदनकर्ता को मिला सुनहरा मौका       जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...       कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'       PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...       कोरोना वायरस के मद्देनजर नेवी में भर्ती पर रोक, एडमिरल करमबीर सिंह बोले...       कोरोना से जंग में लगे पुलिसवालों को मिलेगा 30 लाख का कवर, हरियाणा सरकार बड़ा फैसला!       केरल में COVID-19 वार्ड से पकड़ी गई पांच बिल्लियों की मौत       कोरोना वॉरियर की जान गई तो परिवार को 10 लाख रुपये देगी सरकार       चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि उद्धव ठाकरे को एमएलसी मनोनीत नहीं कर सकते राज्यपाल       OMG! सुपरहीरो बनकर कोरोनावायरस को हराना चाहती हैं ये मॉडल , अंग-अंग दिखाती आई नजर       TV एक्ट्रेस अपने सेक्सी फ़िगर से मचा रही है धमाल, हुस्न का दीदार करते रहे लोग       पीएम मोदी की अपील पर इस मॉडल ने ब्रा और पेंटी पहनकर जलाई मोमबत्तियां, जीत लिया सबका दिल       लॉकडाउन से बोर होकर इस एक्ट्रेस ने शेयर की अपनी कामुक तस्वीरे, जिसे देख दीवाने हुए फैंस       लॉकडाउन के दौरान इस एक्ट्रेस ने की ऑनलाउन चैट शो की शुरुआत      

एक दिन के नवजात मासूम को मिली ऐसी सजा, सुनकर हो जाएंगे हैरान

एक दिन के नवजात मासूम को मिली ऐसी सजा, सुनकर हो जाएंगे हैरान

मंदसौर: यह समाचार बीते रविवार शाम के समय कोई नवजात बच्चे को मसजिद के पास नाली में फेंक कर चला गया था। वहीं, जब रोने की आवाज आई तो रहवासी एकत्र हो गए, परन्तु उसे उठाने की किसी ने हौसला तक नहीं जुटाई थी। इसी दौरान हब्बन आपा (75) ने कागज की सहायता से नवजात को बाहर निकाला। उसे अस्पताल में भर्ती कराया। 6 संतानों को जन्म देने वाली हब्बन अम्मा ने बच्चे को गोद लेने की भी ख़्वाहिश जताई हैं।

शामगढ़ अस्पताल के बीएमओ डाक्टर राकेश पाटीदार ने बोला कि अस्पताल लाते समय बच्चे की हालत गम्भीर थी। वहीं थोड़ी-सी भी देरी बच्चे की जान को खतरे में डाल सकती थी। उसके हाथ-पैर नीले पड़ने लग गए थे। नवजात बच्चे को आक्सीजन देकर प्राथमिक उपचार किया गया फिर आईसीयू की सुविधा के लिए 108 एम्बुलेंस की सहायता से नवजात को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया था। जहां डॉक्टरों ने चेकअप के पश्चात् उसे भर्ती कर लिया। नवजात अब पूरी तरह स्वस्थ माना जा रहा है।

केंद्रीय दत्तकग्रहण अभिकरण (कारा) एक पोर्टल है। वहीं शिशु गृहों में निवासरत बच्चे इस पर अपलोड होते हैं। गोद लेने के लिए औनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है। वहीं, प्रतीक्षा सूची मुताबिक कारा के माध्यम से बच्चे आवंटित हाेते हैं। शामगढ़ थाना एसआई गौरव लाड़ ने बोला मसजिद समेत आसपास के सीसीटीवी कैमरों की जाँच की है। इसमें 2 महिलाएं और एक पुरुष दिखाई दे रहे हैं। वहीं जल्द ही इस मुद्दे का खुलासा करेंगे।

जेजे एक्ट में यह प्रावधान है कि कोई बच्चे को समर्पित कर सकता है। जिले में 38 शिशु स्वागत केन्द्र हैं। जहां बगैर पहचान व वजह बताए बच्चे को छोड़ा जा सकता है। किसी नवजात की जान लेना गंभीर क्राइम में आता है। विशेषज्ञों के अनुसार कोई मां इतनी क्रूर नहीं होती जो बच्चे को फेंक दे। महिला कहीं न कहीं सामाजिक बुराइयों की शिकार होगी। वह अविवाहित या विधवा हो सकती है। जो किसी मज़बूरी के तरह यह कदम उठाया होगा।


वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...

वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...

कांग्रेस नेता व पूर्व सांसद उदित राज ने 'वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट-2020' को लेकर ट्विटर हैंडल से लिखा है है. उन्होंने लिखा है कि इस वर्ष हिंदुस्तान को इस रिपोर्ट में 144वां जगह मिला है. 

उदित राज ने लिखा, 'हाल ही में जारी संयुक्त देश की 'वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट-2020' में हिंदुस्तान को 144 वां जगह मिला है. पिछले साल हिंदुस्तान 140वें पायदान पर था व उससे पहले यानी 2018 में 133 वें व 2017 में 122 वें पायदान पर था. मनमोहन सिंह की सरकार में 111वें पर था. पाक व बांग्लादेश भी हमसे अच्छे हैं.'

बता दें कि पिछले महीने जारी हुई सबसे खुशहाल राष्ट्रों की लिस्ट में फिनलैंड ने पहला जगह हासिल किया था. यह लगातार तीसरी बार था, जब फिनलैंड पहले नंबर पर रहा. संयुक्त देश की इस रिपोर्ट में टॉप-10 खुशहाल राष्ट्रों में पहले नौ यूरोप के थे. 

इसके अतिरिक्त रिपोर्ट में दूसरे नंबर पर डेनमार्क आया था. इसके बाद स्विट्जरलैंड, आइसलैंड व नॉर्वे थे. वहीं, सबसे आखिरी में अफगानिस्तान रहा था. इस पूरी सूची में संयुक्त देश ने 156 राष्ट्रों को शामिल किया था.