सत्ता में आने पर खत्म करेंगे अल्पसंख्यक आरक्षण

सत्ता में आने पर खत्म करेंगे अल्पसंख्यक आरक्षण

तेलंगाना में एक प्रकार से चुनावी बिगुल फूंकते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कथित करप्शन के लिए राज्य की तेलंगाना देश समिति (टीआरएस) गवर्नमेंट पर जमकर धावा बोला और उस पर चुनावी वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाया उन्होंने आरोप लगाया कि चंद्रशेखर राव तेलंगाना को बंगाल बनाना चाहते हैं उन्होंने वादा किया कि भाजपा के सत्ता में आने पर अल्पसंख्यक आरक्षण को समाप्त करेगी

शाह ने बोला कि बीजेपी (बीजेपी) अगले वर्ष होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है उन्होंने साल 2023 के चुनाव में भाजपा के राज्य की सत्ता में आने का भरोसा जतायाबीजेपी की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष बंडी संजय कुमार की पदयात्रा के दूसरे चरण के समाप्ति अवसर पर आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने मतदाताओं से टीआरएस को हराने की अपील की और अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में मतदान का आह्वान किया

यात्रा हैदराबाद के निजाम को बदलने की यात्रा है
शाह ने बोला कि प्रजा संग्राम यात्रा हैदराबाद के निजाम को बदलने की यात्रा है, जोकि परिवारवाद की मानसिकता के खिलाफ भी है सीएम चंद्रशेखर राव पर निशाना साधते हुए शाह ने जनसभा में कहा, क्या हमे तेलंगाना के निजाम को बदलने की आवश्यकता है या नहीं?

टीआरएस गवर्नमेंट पर अलग तेलंगाना आंदोलन के प्रमुख मुद्दों जल, कोष और नौकरियां को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए शाह ने बोला कि यदि भाजपा राज्य की सत्ता में आयी तो इन वादों को पूरा किया जाएगा

तेलंगाना को बंगाल बनाना चहाते हैं राव
बीजेपी के वरिष्ठ नेता शाह ने आरोप लगाया कि टीआरएस गवर्नमेंट का चुनाव निशान गाड़ी है, जिसका स्टेयरिंग एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के हाथ में है शाह ने आरोप लगाया कि सीएम चंद्रशेखर राव तेलंगाना को बंगाल बनाना चाहते हैं उन्होंने बोला कि तेलंगाना की चंद्रशेखर राव गवर्नमेंट ने मोदी गवर्नमेंट की योजनाओं के नाम बदलने के अतिरिक्त कुछ नहीं किया

एससी, एसटी, ओबीसी कोटा बढ़ाएंगे
शाह ने बोला कि ये यात्रा अरबों-खरबों का करप्शन करने वाली टीआरएस पार्टी को उखाड़ फेंकने की यात्रा है उन्होंने यह भी बोला कि उनकी पार्टी राज्य में अल्पसंख्यक आरक्षण को खत्म करेगी और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए कोटा बढ़ाएग


घूस लेकर चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

घूस लेकर चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

सीबीआई ने पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और कांग्रेस पार्टी सांसद कार्ति चिदंबरम के विरूद्ध एक और मामला दर्ज कर उनके करीब 10 ठिकानों पर छापेमारी की ये छापेमारी दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कर्नाटक, पंजाब और ओडिशा में की गई है सीबीआई ने कार्ति चिंदबरम और दूसरे आरोपियों के विरूद्ध जो मामला दर्ज किया है उसमें आरोप है कि कार्ति ने 50 लाख रुपये घूस लेकर गृह मंत्रालय से चीनी नागरिकों को वीजा दिलवाया हैय

चीनी नागरिकों को दिलवाया वीजा

सीबीआई में दर्ज मुद्दे के अनुसार पंजाब के मानसा में तलवंडी साबो पावर प्लांट लग रहा था इस थर्मल पावर प्लांट की क्षमता 1980 मेगा वॉट थी जिसे लगाने का जिम्मा चीन की Shandong Electric Power Construction Corp (SEPCO) को दिया गया था

यही वजह थी कि इस प्लांट को लगाने के लिये चीन के इंजीनियरों को प्रोजेक्ट वीजा दिया गया था लेकिन काम में देरी के चलते कंपनी को अधिक चीनी इंजीनियरों की आवश्यकता थी जिसके लिये वे वीजा स्वीकृति चाहिये थे क्योंकि इससे पहले जो प्रोजेक्ट वीजा दिये गये थे वो तय समय से अधिक हो चुके थे और फिर से वीजा के लिये गृह मंत्रालय से स्वीकृति महत्वपूर्ण थी

एक कपंनी के जरिए 50 लाख की घूस

इसके लिये पावर प्लांट ने कार्ति चिंदबरम को संपर्क किया और फिर 50 लाख रुपयों के बदले कार्ति चिदंबरम ने गृह मंत्रालय से 263 Re-use प्रोजेक्ट वीजा की स्वीकृति दिलवाई ध्यान देने वाली बात ये है कि वर्ष 2011 में जब ये स्वीकृति दिलवाई गई उस दौरान कार्ति के पिता पी चिदंबरम राष्ट्र के गृहमंत्री थे  

एजेंसी के अनुसार चीनी इंजीनियरों को वीजा दिलाने के बदले जो 50 लाख की घूस दी गई थी वो मुंबई की एक कंपनी M/s Bell Tools Ltd के जरिये दी गई थी कार्ति की कंपनी ने कंस्लटेंसी के नाम पर फर्जी बिल इस कंपनी के नाम बनाया जिसके बदले ये रिशवत दी गई