नक्‍सलियों के खिलाफ ऑपरेशन प्रहार पार्ट-3 की तैयारी, जानें क्‍या है केंद्र और राज्‍य सरकार की रणनीति

नक्‍सलियों के खिलाफ ऑपरेशन प्रहार पार्ट-3 की तैयारी, जानें क्‍या है केंद्र और राज्‍य सरकार की रणनीति

छत्तीसगढ़ के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिला बस्तर में नक्सलियों के खात्मे के लिए ऑपरेशन प्रहार पार्ट-3 शुरू करने की तैयारी की जा रही है। केंद्र और राज्य सरकार के इस संयुक्त आपरेशन में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के अधिकारियों के बीच सामंजस्य बिठाकर नक्सलियों को उनके आधार इलाके में घेराबंदी करने की योजना है। बस्तर में ऑपरेशन ग्रीन हंट और ऑपरेशन हाका के तहत नक्सलियों को बैकफुट में धकेलने के बाद ऑपरेशन प्रहार शुरू किया गया है।

यह है योजना 

ऑपरेशन प्रहार वन और प्रहार टू में सुरक्षाबलों को काफी कामयाबी मिली है। बीजापुर की घटना के बाद प्रहार-3 के तहत नक्सलियों के इलाके में जाकर उन्हें नेस्तनाबूद करने की योजना है। पुलिस अधिकारियों की मानें तो नक्सलियों के टॉप लीडरों को घेरने के लिए जंगल में फोर्स को सीधे उतारने का ब्लू प्रिंट तैयार किया जा रहा है।


खुफिया इनपुट के आधार पर बड़े ऑपरेशन की तैयारी 

आधिकारिक सूत्रों की मानें तो खुफिया इनपुट के आधार पर बड़े ऑपरेशन करने की तैयारी की जा रही है। ऑपरेशन ग्रीन हंट, ऑपरेशन हाका और ऑपरेशन प्रहार की चोट से निकलने के लिए नक्सली ग्रामीणों को कवच बनाकर सुरक्षाबलों पर हमला कर रहे हैं।

लोगों को देते हैं धमकियां 

नक्सली पर्चे और बैनर पोस्टर के माध्यम से लोगों को फोर्स के खिलाफ करते हैं। बीजापुर की घटना के बाद नक्सलियों ने ताजा पर्चा जारी कर लोगों से अपील की है कि वह ऑपरेशन प्रहार से दूर रहें।


यह है बौखलाहट की वजह

सरकार ने बस्तर को नक्सल मुक्त करने के लिए बस्तर बटालियन का गठन कर इसमें स्‍थानीय लड़ाकों को शामिल किया है। आत्मसमर्पण करने के बाद फोर्स का हिस्सा बने पूर्व नक्सलियों से नक्सलियों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। इसी वजह से नक्सली आत्मसमर्पण नीति का विरोध कर रहे हैं। नक्सलियों की बौखलाहट की असल वजह उनके कोर इलाकों में नए कैंपों की स्थापना है।

110 गांवों में स्थापित किए गए कैंप 

बस्तर के 110 गांवों में कैंप स्थापित किए गए हैं जिससे नक्सलियों की दहशत कम हुई है। ऑपरेशन प्रहार के दौरान बीते चार साल में फोर्स के जवानों ने 286 नक्सलियों को ढेर किया है। वहीं नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत चार साल के दौरान करीब तीन हजार नक्सलियों की गिरफ्तारी की गई है। 15 सौ नक्सली समर्पण भी कर चुके हैं।

एंटी नक्सल ऑपरेशन होगा तेज 


नारायणपुर जिले के एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि एंटी नक्सल ऑपरेशन तेज किया जा रहा है। नक्सलियों के खात्मे के लिए जवान पूरी मुस्तैदी के साथ सर्च अभियान में निकल रहे हैं। वहीं सुकमा एसपी केएल ध्रुव ने बताया कि नक्सलियों घेराबंदी के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। कोई भी आपरेशन बिना व्यापक रणनीति के नहीं चल सकता है। 

नक्सलियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन 

सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के खिलाफ समय-समय पर कई ऑपरेशन चलाए हैं। इसकी शुरआत साल 2005 में सलवा जुड़ूम अभियान से शुरू की गई थी। यह अभियान तो जनता ने शुरू किया था लेकिन ग्रामीणों के विरोध की वजह से सुरक्षा बलों को नक्सलवाद के खिलाफ काफी सफलता मिली। साल 2011 में सुप्रीम कोर्ट ने सलवा जुड़ूम पर बैन लगा दिया। हालांकि इसके पहले ही फोर्स का बेस ग्रामीणों के बीच बन चुका था। 


ऑपरेशन ग्रीन हंट भी रहा था सफल 

साल 2009 में पुलिस ने बस्तर में ऑपरेशन ग्रीन हंट शुरू किया था। ग्रीन हंट के तहत सूचनातंत्र को मजबूत कर के नक्सल प्रभावित इलाकों में दबिश देने की रणनीति तय की गई थी। यह अभियान भी काफी सफल रहा थी। नक्सलवाद सड़कों से सिमटकर जंगल में छिप गया। नक्सली गाहे बगाहे हमला तो करते रहे लेकिन बड़े हमलों की उनकी हिम्‍मत जाती रही। ऑपरेशन ग्रीन हंट के बाद अलग अलग कई अभियान चलाए गए थे।


अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ कैंसर संस्थान को कोविड-19 के मरीजों के लिए खोले जाने का सुझाव सरकार को सोमवार ट्वीट करके दिया है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा,‘‘इस मेडिकल इमरजेंसी के दौर में सपा के समय शुरू हुआ ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का विशाल परिसर पहले चरण में 750 एवं कुल 1250 बेड के लिए स्थान उपलब्ध कराएगा।‘‘

उन्होंने आगे लिखा,‘‘सपा ने डेढ़ साल में जिस कैंसर इंस्टीट्यूट को बनाया था, उसे भाजपा सरकार अपने चार साल के कार्यकाल के बाद कोविड के लिए तो खोल दे।‘‘

उल्लेखनीय है कि पिछले नवरात्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चक गंजरिया सिटी सुलतानपुर रोड पर ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का लोकार्पण किया था और तब उन्होंने कहा था कि शुरुआत में इसकी क्षमता 54 बिस्तरों की है जिसे जल्द ही 750 बिस्तरों वाला कर दिया जायेगा। योगी ने कहा था कि अगले चरण में इस इंस्टीट्यूट को 1250 बेड की क्षमता का किये जाने का लक्ष्य है। 


गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत       हर्षवर्धन ने साधा निशाना, मोदी सरकार को रास नहीं आए मनमोहन के कोरोना पर सुझाव       अभी अभी: मनमोहन सिंह कोरोना वायरस से संक्रमित, एम्स में भर्ती