क्या देश में लग सकता है संपूर्ण लॉकडाउन, जानें

क्या देश में लग सकता है संपूर्ण लॉकडाउन, जानें

नई दिल्ली। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मामलों ने देश को एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ ढकेल दिया है। हालांकि इस बार केंद्र सरकार ने लॉकडाउन लगाने का जिम्मा राज्य सरकारों को सौंप दिया है। कोरोना संक्रमण से देश के सभी राज्य प्रभावित है। राज्य अपने हिसाब से पाबंदियां लगाकर इस महामारी को थामने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ शहरों पर लॉकडाउन लगाया गया है तो कुछ जगहों पर नाइट कर्फ्यू जारी है। बावजूद इसके संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में सोशल मीडिया पर देशभर में संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की बात तैर रही है। जबकि केंद्र सरकार के अधिकारियों का ऐसी किसी बात की जानकारी होने से इनकार है। अधिकारियों का कहना है लॉकडाउन लगाने का केंद्र सरकार का कोई प्लान नहीं है।

अधिकारियों ने बताया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकारों को पाबंदियां बढ़ाने के लिए कहा गया है। राज्य सरकारें संक्रमण के मामलों को देखते हुए अपने—अपने हिसाब से पाबंदियां लगा रहे हैं। लेकिन इसके बाद भी मामलों में लगातार इजाफा जारी है। अस्पताल फुल चल रहे हैं। देश में आक्सीजन की घोर समस्या बनी हुई है। राज्य सरकारें भी पाबंदियों को धीरे—धीरे करके और सख्त करती जा रही हैं। देश के अब तक करीब 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना कर्फ्यू और लॉकडाउन जैसी बंदिशें लागू की जा चुकी है।

सुप्रीम कोर्ट ने भी विचार करने को कहा

इलाहाबाद हाई कोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र व राज्य सरकारों से सख्त लॉकडाउन लगाने पर विचार करने को कह चुका है। इतना ही नहीं हेल्थ मिनिस्ट्री की तरफ से भी देश के ऐसे जिले जहां 15 प्रतिशत से अधिक पसॅजिटिव रेट है, वहां लॉकडाउन लगाने का सुझाव दिया गया है। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों तथा कोरोना टास्क फोर्स की तरफ से भी बढ़ते मामलों पर चिंता जताई गई है।

मजदूरों का पलायन जारी
फिलहाल लोगों के मन में लॉकडाउन लगाए जाने की बात घर कर गई है। क्योंकि दूसरे शहरों में काम करने वाले मजदूर पिछली बार के भुगतभोगी रह चुके हैं। इसलिए इस बार ऐसे अधिकतर लोग अपने गांव व शहरों में आ चुके हैं। लोगों को यह अंदेशा सता रहा है कि केंद्र सरकार पिछली बार की तरह इस बार भी अचानक लॉकडाउन लगाने का एलान कर सकती है।


कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं

कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं

नई दिल्‍ली: कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) महामारी के शुरुआती दौर से ही इसकी पड़ताल जारी है लोगों को बचाने के लिए हिंदुस्तान और पूरे विश्व में लगातार अध्ययन हो रहे हैं जिनके नतीजे साइंस जर्नल और अन्य प्लेटफार्म पर प्रकाशित होते रहते हैं ऐसे में हाल ही में आई कुछ रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 वैक्सीन ( कोरोना वैक्सीन ) की पहली डोज लेने के बाद भी कुछ लोग कोविड-19 पॉजिटिव (Covid 19 Positive) हो रहे हैं मेडिकल एक्सपर्ट्स ने इसे ‘ब्रेकथ्रू केस’ नाम दिया है हालांकि अपने देश की बात करें तो इस मुद्दे में भारतीय लोग अधिक भाग्यशाली हैं क्योंकि हिंदुस्तान में ऐसे मुद्दे एकदम कम हैं  

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की स्डटी के अनुसार हिंदुस्तान में इस तरह के ‘ब्रेकथ्रू केस’ का आंकड़ा केवल 0.05 परसेंट ही है वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार यदि वैक्सीन की पहला डोज लगने के बाद कोई संक्रमित हो जाता है तो इसका ये मतलब नहीं है कि वो दूसरी डोज नहीं ले सकता है ऐसे लोगों को केवल इस बात का ध्यान रखना होगा कि दूसरी डोज का अंतराल संक्रमण से ठीक यानी कोविड निगेटिव होने के बाद कम से कम चार से आठ सप्ताह के बीच होना चाहिए

 

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार ऐसे लोग जिनमें कोविड-19 संक्रमण के सक्रिय लक्षण हों या वो लोग जिनके शरीर में Covid-19 के विरूद्ध एंटीबॉडी हो उनके लिए दूसरी डोज लगवाने से पहले 4 से 8 सप्ताह का गैप महत्वपूर्ण है वहीं प्लाज्मा ले चुके लोगों के साथ अधिक बीमार या फिर दूसरी रोंगों से ग्रस्त लोगों के लिए भी वैक्सीन की दूसरी डोज लेने में एक महीने से दो महीने का गैप रखा जाना चाहिए

दरअसल एक्सपर्ट्स का मानना है कि वैक्सीन की कार्यप्रणाली का भी अपना प्रभाव होता है सभी की सुरक्षा लगातार और बेहतर होती रहे इस पर अध्ययन जारी है   वैक्सीन की पहली डोज लेने ते बाद भी यदि कोविड-19 संक्रमण हो जाए तो इसमें घबराने की आवश्यकता नहीं है


साइबर हमले के बाद अमरीकी फ्यूल पाइपलाइन जल्द हो सकती है शुरू       अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन       US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स       विदेश मंत्रालय ने कहा कि ईरान के ऑफिसरों ने सऊदी के साथ द्विपक्षीय मुद्दों पर सीधी वार्ता की पुष्टि की       भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...       नगालैंड और तेलंगाना सरकार ने लिया संपूर्ण लॉकडाउन का फैसला!       सना मकबूल ने मनोकिनी में शेयर की कातिलाना फोटोज, तस्वीरों ने लूटा फैंस का दिल       शेफाली जरीवाला ने ट्रांसपेरेंट टॉप में दिखाईं ग्लैमरस अदाएं, देखें फोटोज       ये है दुनिया का सबसे अनोखा रेस्टोरेंट, हवा में ले सकते हैं खाना खाने का आनंद       अपने चेहरे को चमकदार और खूबसूरत बनाये रखने के लिए अपनाएं ये देसी तरीके       लम्बे समय तक ब्यूटीफुल और यंग दिखने के लिए फॉलो करें ये टिप्स