इमरान खान ने कहा की भारत-अफगानिस्तान की दोस्ती से पाकिस्तानी सेना में दहशत

इमरान खान ने कहा की भारत-अफगानिस्तान की दोस्ती से पाकिस्तानी सेना में दहशत

नई दिल्ली/वाशिंगटन: पुलवामा हमले के बाद हिंदुस्तान ने पाक पर के बालाकोट पर जो एयर स्ट्राइक की थी उसका प्रभाव अब साफ़-साफ़ दिखाई दे रहा है. पाक के पीएम इमरान खान ने बोला है कि हिंदुस्तानव अफगानिस्तान की दोस्ती पाक के लिए अच्छा नहीं है. उन्होंने बोला कि इन दोनों राष्ट्रों की दोस्ती से पाक की सेना को दो मोर्चों पर एक साथ जूझना पड़ा रहा है.

अमरीका यात्रा पर गए पाकिस्तान पीएम ने एक प्रोग्राम में बोलते हुए कहा, "आप जानते हैं, पूर्वी मोर्चे पर हिंदुस्तान है. वह अफगानिस्तान से मिलकर पाक के लिए पश्चिमी मोर्चे पर मुसीबत खड़ा कर रहा है. पाक इन दोनों राष्ट्रों के बीच सैंडविच बना हुआ है."

भारत-अफगान गठजोड़ से खतरा

पाक पीएम इमरान खान अफगानिस्तान पर अपनी नीति के बारे में बोल रहे थे. पाकिस्तानी पीएमइमरान खान ने मंगलवार को बोला कि उनकी सेना ने हिंदुस्तान व अफगानिस्तान के साथ "दो-मोर्चे की स्थिति" की संभावना जताई है. उन्होंने बोला कि सेना ने नेतृत्व ने "रणनीतिक बदलाव" के साथ हिंदुस्तान के साथ सैनिक कार्रवाई से बचने का आह्वान किया है.

अफगानिस्तान पर एक अन्य सवाल का जवाब देते हुए इमरान खान ने बोला कि उनकी सरकार ने अफगान पॉलिटिक्स की पॉलिटिक्स में दखल देने की दशकों पुरानी नीति को खत्म करने का निर्णयकिया है. उन्होंने बोला कि पाकिस्तानी सुरक्षा बल अफगानिस्तान के किसी भी मुद्दे में संलिप्त होने से बचते रहे हैं लेकिन अब समय बदल गया है. आज हम महसूस करते हैं कि हिंदुस्तान द्वारा रणनीतिक सुरक्षा के लिए अफगानिस्तान में हस्तक्षेप किया जा रहा है.

अफगानिस्तान में बंद हो हिंदुस्तान का हस्तक्षेप

पाक पीएम ने आगे कहा, " हिंदुस्तान का हस्तक्षेप जल्द से जल्द अफगानिस्तान में बंद होना चाहिए.अफगान यह तय करें कि वे क्या चाहते हैं, किस प्रकार की सरकार चाहते हैं. हमें शांति प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाना चाहिए. इसलिए महत्वपूर्ण है कि इस क्षेत्र के सभी खिलाड़ी समान मैदान में रहें." पाकिस्तानी पीएम ने यह भी बोला कि अफगान सरकार द्वारा आपत्तियों के बाद उन्होंने अफगान तालिबान नेताओं से मिलने का कार्यक्रम खारिज कर दिया था.