इस रहस्यमयी बीमारी से हो जाएं सावधान! अगर आपको भी है अपने डॉगी से प्यार, तो...

इस रहस्यमयी बीमारी से हो जाएं सावधान! अगर आपको भी है अपने डॉगी से प्यार, तो...

नई दिल्ली: युरोपीय देश नोर्वे में एक रहस्मयी खतरनाक बीमारी ने दस्तक दी है. इस बीमारी के कारण सारे नोर्वे में दहशत फैल गई है. ऑफिसर रहस्मय बीमारी का पता लगाने के लिए लगातार हाथ-पांव मार रहे हैं, लेकिन अभी तक कामयाबी नहीं मिल पाई है.

दरअसल, बीते कुछ हफ्तों में नोर्वे में दर्जनों कुत्ते इस रहस्मयी बीमारी की चपेट में आ गए हैं, जिसको लेकर लोग खौफ में हैं. पहला मुद्दा राजधानी ओस्लो में देखा गया, लेकिन कुत्ते सारे देश में बीमार पड़ गए हैं. नॉर्वे के 18 प्रशासनिक क्षेत्रों में से 13 में मुद्दे सामने आए हैं.

सीएनन की रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्वेजियन फूड सेफ्टी अथॉरिटी व नॉर्वेजियन वेटरनरी इंस्टीट्यूट के प्रतिनिधियों ने बताया है कि अब तक कम से कम 25 कुत्तों की मृत्यु हो चुकी है.

नॉर्वेजियन वेटनरी इंस्टीट्यूट के अनुसार, सोमवार को जब मृत कुत्तों के मृत शरीर का परीक्षण किया गया तो कुछ तथ्य सामने आए. मृत कुत्तों के शरीर से असामान्य रूप से बड़े-बड़े दो बैक्टीरिया पाए गए.

हालांकि, इस स्तर पर अभी कोई अधिक ठोस विवरण नहीं मिल सका है. खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण ने कुछ संभावित कारणों जैसे साल्मोनेला, कैम्पिलोबैक्टर या जहर से मना किया है, लेकिन शुरूआती जाँच से अभी तक कोई निश्चित जवाब नहीं मिल सका है.

बीमारी का पता लगाने के लिए अनुसंधान जारी

पशु चिकित्सा संस्थान के अनुसार, मृत कुत्तों के शरीर से जो बैक्टीरिया मिला है, वह पूरी तरह से नए नहीं है. बीमार कुत्तों में पहले भी देखे जा चुके हैं, लेकिन मामलों में तेजी से वृद्धि असामान्य है.

संस्थान ने बताया कि बीमारी पहले की तुलना में अधिक तेजी से फैल रहा है. न केवल कुत्ते बीमार हो रहे हैं, बल्कि बीमार होने के बाद तेजी से स्थिति बेकार हो रही है.

खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण, पशु चिकित्सा संस्थान व नॉर्वेजियन यूनिवर्सिटी ऑफ जीवन साइंसेज एक साथ जाँच पर कार्य कर रहे हैं. पशु चिकित्सा संस्थान के अनुसार, उन्होंने अधिक जानकारी एकत्र करने के लिए पालतू जानवरों के मालिकों के लिए एक सर्वेक्षण भेजा है, साथ ही नॉर्वे में क्लीनिक व2,000 पशु चिकित्सकों के साथ समन्वय किया है.

अनुसंधान टीमें भी इस कारण को कम करने के लिए मृत कुत्तों की virological अध्ययन, मृत शरीरपरीक्षा, व लैब विश्लेषण पर कार्य कर रही हैं.

अधिकारियों ने कुत्तों के मालिकों को दी चेतावनी

वेटरनरी इंस्टीट्यूट ने बोला कि बैक्टीरिया के अलावा, संभावित कारणों में वायरस, कवक, परजीवी या बेकार पानी की गुणवत्ता जैसे पर्यावरणीय कारण शामिल हो सकते हैं. प्रभावित कुत्तों की कुल संख्या अभी तक स्पष्ट नहीं है.

इस बीच, अधिकारियों ने कुत्ते के मालिकों को चेतावनी दी है कि वे अपने कुत्तों को पट्टे पर रखें वकिसी भी तरह के लक्षणों के लिए सचेत रहें.

फूड सेफ्टी अथॉरिटी के एन मार्गरेट ग्रॉन्डहल ने बोला कि जब कुत्तों को टहलाया जाता है, तो उन्हें सड़क या पार्क में मिलने वाले आवारा कुत्तों से सम्पर्क में नहीं आने देना चाहिए.

फिलहाल अभी तक कोई सुझाव नहीं है कि बीमारी कुत्ते के भोजन से आ रही है या यह बीमारी मनुष्यों में फैल सकती है.