डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा, अमेरिका के साथ समझौता नहीं करना ईरान की मूर्खता होगी

डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा, अमेरिका के साथ समझौता नहीं करना ईरान की मूर्खता होगी

नई दिल्ली/वॉशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बोला है कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा किए गए 2015 परमाणु समझौते के जगह पर अगर ईरान के नेता वॉशिंगटन के साथ एक नया समझौता नहीं करते तो यह उनका 'स्वार्थ व मूर्खता' होगी। बुधवार को जापान में होने वाले जी 20 सम्मेलन के लिए रवाना होने से पहले ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, "वह ऐसे देश में हैं जो आर्थिक संकट झेल रहा है। यह एक आर्थिक आपदा है, जिसका निवारण या तो वह अभी कर सकते हैं, या फिर आज से 10 वर्ष बाद करेंगे। व मेरे पास पूरा समय है। इस बीच उन्हें कड़े प्रतिबंध झेलने पड़ेंगे। "Image result for अमेरिका के साथ समझौता नहीं करना ईरान की मूर्खता होगी : डोनाल्‍ड ट्रंप

एफे न्यूज की र्पिोट के अनुसार, राष्ट्रपति ने बोला कि वह पक्के तौर पर नहीं कह सकते कि ईरानी नेताओं को अपने देश के लोगों की चिंता है या नहीं। उन्होंने बोला कि अगर ईरान के नेताओं को अपने देशवासियों की चिंता है तो वह ट्रंप प्रशासन के साथ समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे, लेकिन अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो वह 'स्वार्थी व मूर्ख' हैं।

ट्रंप ने बोला कि तेहरान व वॉशिंगटन के बीच समझौता होगा या नहीं, यह तो ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामनेई व उनकी सरकार पर निर्भर करता है। ट्रंप ने बुधवार को यह भी बोला कि वह ईरान के साथ युद्ध नहीं चाहते, लेकिन अगर दोनों राष्ट्रों के बीच युद्ध की आरंभ होती है तो "वह बहुत लंबा नहीं चलेगा"। वहीं वॉशिंटगन द्वारा उठाए गए कदमों पर खमनेई ने बोला कि अमेरिका द्वारा दिया गया वार्ता का प्रस्ताव भ्रामक है व हमारा देश ट्रंप की धमकियों के आगे नहीं झुकेगा।खमनेई ने यह भी बोला कि बाहरी दबाव उनके देश पर कोई निगेटिव असर नहीं डाल सकता।