ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमरीका को दी चेतावनी, कहा...

ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमरीका को दी चेतावनी, कहा...

नई दिल्ली/तेहरान: सऊदी अरब के दो ऑयल रिफाइनरी पर हुए ड्रोन हमले के बाद एक बार फिर से अमरीका व ईरान के बीच तनाव गहराता जा रहा है. ईरान पर अमरीका के आरोप लगाने के बाद से दोनों राष्ट्रों में जुबानी हमला तेज हो गया है.

इसी कड़ी में ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने रविवार को अमरीका के बयान के बाद चेतावनी देते हुए बोला है कि विदेशी ताकतें खाड़ी से दूर रहें. रूहानी ने बोला कि सुरक्षाबलों को चाहिए कि खाड़ी की सुरक्षा के खातिर वे यहां से दूर रहें.

बता दें कि सऊदी अरब की ऑयल रिफाइनरियों में 14 सितंबर को हुए ड्रोन हमले के बाद अमरीका ने अपने बयान में बोला था कि वह क्षेत्र में अतरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर रहा है.

यमन के हौती विद्रोहियों ने इस हमले की जिम्मेदारी लेते हुए बोला था कि यह हमला उन्होंने कराया है, लेकिन अमरीका व सऊदी अरब दोनों का मानना है कि इस हमले के पीछे ईरान का हाथ है. हालांकि तेहरान ने सऊदी व अमरीका के दावों को खारिज कर दिया है.

विदेशी ताकतों को हमारे क्षेत्र से दूर रहना चाहिए: रूहानी

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, साल 1980-1988 के बीच चले ईरान-इराक की सालगिरह के मौके पर रूहानी ने बोला कि हमारे लोगों व हमारे क्षेत्र के लिए विदेशी बल समस्याएं व असुरक्षा पैदा कर सकते हैं.

उन्होंने बोला कि पहले भी जब ऐसा हुआ उसके चलते विनाश हुआ. विदेशी ताकतों को चाहिए यहां से दूर रहें. अगर वह हकीकत में ईमानदार हैं, तो उन्हें हमारे क्षेत्र में हथियारों की दौड़ प्रारम्भ नहीं करनी चाहिए.

रूहानी ने आगे यह भी बोला कि हमारे क्षेत्र व राष्ट्रों से विदेशी ताकतें जितना दूर रहेंगी, सुरक्षा के लिए उतना ही अच्छा रहेगा.

बता दें कि बीते दिन शनिवार को ही ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स (IRGC) के कमांडर ने बयान देते हुए बोला था कि ईरान पर हमला करने वाले देश को युद्ध का मैदान बना देंगे.

मेजर जनरल हुसैन सलामी ने अपने देश पर हमला करने वाले किसी भी देश को चेतावनी देते हुए बोला था कि अगर किसी भी देश ने ईरान पर हमला किया तो वह उसे 'युद्ध का मैदान' बना देगा.उन्होंने यह भी बोला कि ईरान किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.