कांशीराम की पुण्यतिथि पर मायावती ने दी श्रद्धांजलि

कांशीराम की पुण्यतिथि पर मायावती ने दी श्रद्धांजलि

लखनऊः उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम व बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पार्टी के निर्माणकर्ता व महानदलित नेता कांशीराम की पुण्यतिथि पर उनको श्रद्धांजलि अर्पित की । मायावती ने इस मौके पर उत्तर प्रदेश का उदाहरण देते हुए बोला कि जातिवादी और संकीर्ण ताकतें बसपा आंदोलन को चुनौतियां, मगर वह आगे बढ़ते रहे. उन्होंने कांशीराम को पुष्पांजलि और श्रद्धा-सुमन अर्पित करने के साथ उनके सपनों को साकार करने का संकल्प भी लिया.

मायावती ने आज यानि बुधवार प्रातः काल ट्वीट कर बोला कि 'बामसेफ, डीएस4 और बसपा मूवमेंट के जन्मदाता और निर्माणकर्ता कांशीरामजी को आज उनकी पुण्यतिथि पर बसपा द्वारा देश औरविशेषकर उत्तर प्रदेश में अनेकों कार्यक्रमों के जरिए भावभीनी श्रद्धांजलि और श्रद्धा-सुमन अर्पित.उपेक्षितों के हक में उनका प्रयत्न था 'वोट हमारा राज तुम्हारा नहीं चलेगा.' बीएसपी मुखिया ने बोलाकि दिल्ली में गुरुद्वारा रकाबगंज रोड पर स्थित प्रेरणा केन्द्र में व लखनऊ में बसपा सरकार द्वारा वीआइपी रोड में स्थापित भव्य मान्यवर श्री कांशीरामजी स्मारक स्थल के आयोजनों में बहुजन नायक कांशीराम को पुष्पांजलि और श्रद्धा-सुमन अर्पित.

उनके सपनों को साकार करने का संकल्प. पिछड़े, दलितों व आदिवासियों को पॉलिटिक्स में एक अहम जगह दिलाने वाले कांशीराम डाक्टर भीमराव आंबेडकर के बाद दलितों के सबसे बड़े नेता माने जाते हैं. बुधवार को उनकी 13वीं पुण्यतिथि है. 9 नवंबर, 2006 को उनका निधन हुआ था. पंजाब के एक दलित परिवार कांशीराम का जन्म 15 मार्च, 1934 में हुआ था. उन्होंने अपनी सरकारी जॉबछोड़कर दलितों के लिए कार्य करने का निर्णय लिया.