उच्चतम न्यायालय ने विवाह के लिए हिंदू धर्म अपनाने वाले मुस्लिम से कहा...

उच्चतम न्यायालय ने विवाह के लिए हिंदू धर्म अपनाने वाले मुस्लिम से कहा...

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने एक अंतर-धार्मिक शादी मुद्दे में सुनवाई के दौरान बुधवार को मुस्लिम आदमी से बेहतर पति बनने को कहा. मुद्दा छत्तीसगढ़ का है. यहां एक मुस्लिम आदमी ने हिंदू महिला से अंतर-धार्मिक शादी किया था. महिला के परिवार को विवाह के लिए राजी करने के लिए इस आदमी ने हिंदू धर्म अपना लिया था. लेकिन, महिला के परिवार का दावा है कि इस आदमी ने सिर्फ दिखावे के लिए धर्म बदलाव किया.

हमें लड़की के भविष्य की चिंता- कोर्ट

सुप्रीम न्यायालय में सुनवाई के दौरान जस्टिसअरुण मिश्रा की बेंच ने कहा, “हमें सिर्फ लड़की के भविष्य की चिंता है. हम अंतर-धार्मिक या अंतर-जातीय शादी के विरूद्ध नहीं हैं.” न्यायालय ने बोलाकि आदमी को एक विश्वसनीय पति व एक बेहतर प्रेमी बनना चाहिए. महिला के पिता के एडवोकेट ने कहा- लड़की एक गिरोह में फंस चुकी है. सर्वोच्च न्यायालयने वकीलसे इस विषय में हलफनामा दायर करने को कहा.

कोर्ट ने प्रदेश सरकार से मुद्दे में जवाब देने को कहा

सुप्रीमकोर्ट ने आदमी से पूछा कि क्या उसने आर्य समाज मंदिर में विवाह के बाद अपना नाम बदला है? नाम बदलने के लिए क्या उचित कानूनी कदम उठाए हैं? महिला के पिता के एडवोकेट ने कहा- महिला को सुरक्षा की आवश्यकता नहीं है. शीर्ष न्यायालय ने प्रदेश सरकार से भी जवाब तलब किया है|