फैल रही है ये 4 खतरनाक बीमारियां

फैल रही है ये 4 खतरनाक बीमारियां

नई दिल्ली: आज इस आर्टिकल में हम आपको पांच ऐसे वायरस के बारे में बताने जा रहे हैं जी सही समय पर इलाज ना किया जाए तो इंसान को जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है|Image result for जिका वायरस

जिका वायरसएमआरएस मच्छर के काटने से होता है इसमें चमकू एडिस मच्छर भी कहते हैं कि इसमें किसी व्यक्ति को काट लिया और फिर उसी में आपको भी काट लिया तो आपको जिका वायरस हो जाएगा इस वायरस से संक्रमित होने पर व्यक्ति को बुखार, जोड़ों व मसल्स में दर्द, स्किन रैशेज, लाल आंखे व सिरदर्द जैसे लक्षण नजर आते हैं इस वायरस के लक्षण आपको 2 से 3 दिन में ही नजर आ जाएंगे|

निपाह वायरस वायरस बहुत ही भयंकर वायरस है यह इंसान और जानवरों दोनों में होता है और दोनों के लिए ही जानलेवा है भारत में स्थित पहला मरीज केरल में मिला था और यह वायरस भारत में चमगादड़ के माध्यम से आया था चंद कादरी में आने के बाद किसी इंसान में फैला और इंसान में फैलने के बाद किसी सूअर में और किसी भी सूअर मैं फैलने के बाद यह उसके लिए एक में सब जानवरों और इंसानों को हो जाता है इस वायरस की होने के बाद व्यक्ति को बहुत तेज दिमागी बुखार और बहुत ही भयंकर सिर दर्द होता है|

इबोला वायरस यदि विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ की मानें तो यह सबसे भयंकर वायरस है इससे वायरस की चपेट में आने के बाद व्यक्ति की मृत्यु निश्चित ही हो जाती है यह वायरस भी चमगादड़ के माध्यम से ही फैलता है इस वायरस से के आने के 20 दिन के भीतर ही लिखती की पूरी फ्रिज में यह वायरस फैल जाता है और उस संक्रमित व्यक्ति के यदि पसीने और स्वास संपर्क में भी कोई आ जाता है तो उसे भी यह वायरस हो जाता है इसके अलावा यदि मान लो कि वह व्यक्ति पूर्ण रूप से ठीक भी हो जाता है तो ठीक होने के बाद उसकी पैदा होने वाली संतान को भी यह वायरस होगा|

मारबर्ग यह वायरस भी काफी हद तक इबोला वायरस की तरह ही है पहले यह जानवरों में रहता है और जानवरों से इंसानों में फैलता है 1 साल में खेलने के बाद किसी को हो सकता है मारबर्ग वायरस से संक्रमित व्यक्ति को बुखार, ठंड लगना, व सिरदर्द होता है| करीबन पांच दिन बाद व्यक्ति को मतली, उल्टी, सीने में दर्द, गले में खराश, पेट में दर्द व दस्त की समस्या भी हो सकती है|

एच1एन1 वायरस किस वायरस ने भारत में काफी हद तक लोगों की जान ली है यह बारिश भी बहुत ही खतरनाक है स्वाइन फ्लू वाली मरी थी जब भी खाते हैं जीते हैं और उसका स्नेह और चीनी के संपर्क में जो भी सरस्वती आ जाता है उसे भी यह वायरस हो जाता है|

स्माइल एस्केप होने के बाद भारत में सभी व्यक्ति अपना मुंह ढक कर चलने लगे थे ताकि उन्हें किसी व्यक्ति से वायरस ना हो जाए इस वायरस की चपेट में आने के बाद लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है|