आखिरकार तपकर सोना बन ही गए रिषभ पंत, बहुत झेलनी पड़ी थी आलोचना

आखिरकार तपकर सोना बन ही गए रिषभ पंत, बहुत झेलनी पड़ी थी आलोचना

सिडनी टेस्ट के पांचवें दिन से एक दिन पहले की बात है, रिषभ पंत की कोहनी में चोट थी और परिस्थिति कुछ ऐसी थी कि उन्हें मैच के पांचवें दिन मैदान पर उतरना था। तब पंत थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट के साथ घंटों तक अभ्यास कर रहे थे। थ्रोडाउन कर रहे नुवान पूरी गति से बाउंसर नहीं फेंक रहे थे। पंत ने कहा पूरी गति से डालो, मैदान पर ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ऐसी धीमी गेंद नहीं फेंकेंगे। नुवान को लग रहा था कि कहीं पंत को चोट नहीं लग जाए, लेकिन पंत लगातार कहते दिखे, और तेज डालो, और तेज डालो। पंत उस मैच में 97 रन बनाकर आउट हुए थे और उस टेस्ट को जिताने से कुछ दूर रह गए थे, लेकिन मंगलवार को वह पहली बार कोई टेस्ट मैच जिताकर नाबाद लौटे। इस आठ दिन के अंदर नादान रिषभ, नायाब पंत बन गया।

सिडनी में 97 रन पर आउट होने के बाद जब पंत ने अपने कोच तारक सिन्हा को फोन किया, तो वह काफी निराश थे। सिन्हा ने कहा कि कभी-कभी तुम्हें खराब गेंदों को छोड़ना भी होगा। पंत का जवाब था मैं खराब गेंदों को छोड़ नहीं सकता। दरअसल, अपने करियर के शुरुआती दिनों से पंत ऐसे ही हैं। उनके अंदर युवराज सिंह जैसे छक्के लगाने की क्षमता के साथ फौलादी इरादे भी हैं। अपने तेज तर्रार शॉट की वजह से ही वह राहुल द्रविड़ के पसंदीदा बने थे और इन्हीं शॉट चयन की वजह से पंत का करियर डूबता जा रहा था। वर्ष 2020 आते-आते वह अपने पसंदीदा प्रारूप (टी-20) से बाहर हो गए थे। वनडे टीम से भी निकाले गए और टेस्ट टीम में भी पहली पसंद नहीं रहे।


पंत की मदद इस मामले में कोई दूसरा नहीं कर सकता था। पंत की लड़ाई खुद से थी। यह लड़ाई इतनी आसान भी नहीं रही, क्योंकि वीरेंद्र सहवाग भी अपने शॉट चयन की वजह से विकेट खो बैठते थे और आलोचना झेलते थे, लेकिन पंत के साथ यह बार-बार होने लगा। कई बड़े मौकों पर होने लगा। पंत भी आम से खास बनने का सपना देखते आए, लेकिन उनके सपने भी बड़े थे। वह एमएस धौनी की तरह विजयी बाउंड्री लगाकर बड़ा मैच जिताना चाहते थे। ऑस्ट्रेलिया में अभ्यास मैच में बड़ी पारी खेलने के बावजूद पहले टेस्ट में पहली पसंद रिद्धिमान साहा बने।


दिल्ली की सर्दियों में गुरुद्वारे में रात बिताकर टेस्ट कैप हासिल करने वाले पंत अंदर से टूटने वालों में से कहां थे। सिडनी टेस्ट और गाबा टेस्ट में पंत के शॉट लगाने के तरीकों में पहले से कुछ भी अलग नहीं था, अलग था तो उनके अंदर का संकल्प।

2016 में उनके साथ अंडर-19 विश्व कप खेलने वाले तेज गेंदबाज शुभम मावी ने बताया कि वह क्लीन हिटर रहे हैं। कभी भी कितना भी दबाव हो वह अपना ही खेल खेलता था। घरेलू स्तर पर वह तीन बार फेल हुआ तो अगले मैच में उसकी बड़ी पारी सब भुला देती थी। राहुल द्रविड़ सर को भी उसकी यही खासियत पसंद थी लेकिन भारतीय टीम के साथ खेलते हुए उसकी समस्या यही थी कि उसके प्राकृतिक खेल की ही आलोचना होने लगी, जिसे वह बदल नहीं सकता, लेकिन मंगलवार को उसने अपनी इसी काबिलियत से अपने अंदर के पंत को हरा दिया।

रिषभ पंत के कोच तारक सिन्हा ने कहा है, "पंत ने अब अपने सभी आलोचकों को शांत कर दिया। टीम ने उसे मौका देकर दिखाया कि वह उस पर पूरा विश्वास करती है। मुझे पूरा विश्वास है कि उसकी विकेटकीपिंग भी बेहतर होगी। जब आप अपनी जगह को लेकर संतुष्ट हो जाओ और सभी कहें कि आप अच्छे हो तो बाकी चीजें खुद ठीक होने लगती हैं।"


उम्र बना रहस्य, सोशल मीडिया पर हुए इस बात पर ट्रोल

उम्र बना रहस्य, सोशल मीडिया पर हुए इस बात पर ट्रोल

नई दिल्ली: शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) का नाम तो आपने सुना ही होगा। विवादों के कारण सुर्खियों में छाए रहने वाले पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) का आज जन्मदिन हैं। अपने जन्मदिन के मौके पर शाहिद ने आज ट्विटर पर अपने उम्र को लेकर एक पोस्ट शेयर की। पोस्ट शेयर करने के बाद से ही अफरीदी ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए है।

शाहिद ने शेयर की पोस्ट
पाकिस्तान क्रिकेट जगत के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) आज 44 साल के हो गए है। अपने जन्मदिन के मौके पर शाहिद ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा, “सभी को जन्मदिन की शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद – 44 आज! मेरा परिवार और मेरे प्रशंसक मेरी सबसे बड़ी संपत्ति हैं। वास्तव में मुल्तान के साथ मेरे कार्यकाल का आनंद ले रहे हैं और सभी एमएस प्रशंसकों के लिए मैच जीतने वाले प्रदर्शन का उत्पादन करने की उम्मीद है।”

ट्रोल हुए अफरीदी
इस पोस्ट को शेयर करने के बाद ही टोलर्स ने शाहिद के उम्र पर खूब कमेंट कर रहे हैं। बता दें कि शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) को सोशल मीडिया पर ‘लाला’ नाम से ट्रोल किया जा रहा है। शाहिद के इस पोस्ट पर एक यूजर ने लिखा है, “44 या बस 24 साल की हो गए। अगर आपकी उम्र 44 की है तो मुझे भ्रम है कि चाचा इफ्तिखार की वास्तविक उम्र क्या है।” इसी कमेंट पर एक यूजर ने रिप्लाई करते हुए लिखा, “लाला की उम्र 30 और इफ्तिखार चाचू की उम्र 44 है।” हालांकि इस बीत शाहिद के फैंस उन्हें जन्मदिन की बधाइयां भी खूब दे रहे हैं।


दो साल तक फ्री LPG Cylinder देगी मोदी सरकार       करोड़पति मांग रहा भीख, आलीशान बंगला फिर भी दर दर की खा रहा ठोकरे       तमिलनाडु चुनाव से पहले बड़ा फैसला, शशिकला ने छोड़ी राजनीति, संन्यास का एलान       सामूहिक आत्महत्या से दहला गुजरात, पूरे परिवार ने खाया जहर       ट्रैक्टर परेड हिंसा, किसानों पर बड़ी खबर आई सामने       बागी हुए सिद्धू, अपनी ही सरकार को घेरा       डॉक्टरों ने कही ये बात, वैक्सीन से हुई मौत! महाराष्ट्र में मचा हड़कंप       महिलाओं पर बड़ी खबर! ये आंकड़ा चौंका देगा आपको       भयानक बारिश का अलर्ट, इन राज्यों में 5 दिन जमकर बरसेंगे बादल       छापेमारी से हिला बॉलीवुड, फंसे अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू       ये कैसा सम्मान, भारत-चीन युद्ध में मिला था विशेष अवॉर्ड       Ajit Singh Murder Case: लखनऊ में पूर्व सांसद धनंजय सिंह के ठिकानों पर देर रात छापेमारी, नोटिस चस्पा       हाथरस हत्याकांड पर यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- फिर सवालों के घेरे में सपा की टोपी       कश्मीरी छात्रों को भारत विरोधी एजेंडे के लिए डिग्रियां देता है पाकिस्तान, NIA ने दी चौंकाने वाली जानकारियां       प्रधानमंत्री के विदेश दौरों की जल्द होगी शुरुआत, कोरोना काल से कूटनीति के बाहर निकलने के संकेत       अनुराग का 14 करोड़ का फ्लैट बना आईटी के छापे का कारण....ठनका एजेंसी का माथा, जद में आयीं कई हस्तियाँ       Bigg Boss 14 जीतने के बाद रुबीना दिलैक को बधाई देने का सिलसिला अभी तक है जारी       Sushant के नाम पर ट्रोल करने वालों पर फूटा अंकिता का गुस्सा       Ankita Lokhande ने ट्रोल करने वालों को फिर दिया मुंहतोड़ जवाब, अब एक्ट्रेस बोलीं...       ब्रेकअप की खबरों के बीच हिमांशी खुराना ने शेयर की ये हॉट फोटो