शतक ठोकते ही भावुक हुए सरफराज सिद्धू मूसेवाला को किया याद

शतक ठोकते ही भावुक हुए सरफराज सिद्धू मूसेवाला को किया याद

मुंबई रणजी टीम के क्रिकेटर सरफराज खान ने गुरुवार को यहां मध्य प्रदेश के विरूद्ध रणजी ट्रॉफी फाइनल में बनाए गए अपने शतक को अपने पिता और कोच नौशाद खान को समर्पित किया शतक जड़कर मुंबई को पहली पारी में 374 रन तक पहुंचाने वाले सरफराज की आंखे डबडबाई हुई थी, उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘यह शतक मेरे अब्बू (पिता) की वजह है, यह उनके बलिदान की वजह से है और उस समय मेरा हाथ थामने की वजह से है जब मैं निराश था

पिता को याद कर हुए भावुक

नौशाद के दोनों बेटे सरफराज और मुशीर मुंबई टीम में ही खेलते हैं यह पूछने पर कि क्या भारतीय टीम में स्थान बनाने का सपना पूरा होने की ओर है? इस प्रश्न के उत्तर में सरफराज की आंखे डबडबा गईं उन्होंने कहा, ‘हमारी जीवन सब कुछ उन छोटे छोटे सपनों के लिए हैं जिन्हें हम संजोते हैं सपने हम (वह और उनके पिता) साथ देखते हैं मैंने मुंबई में वापसी के बाद से दो सत्र में जो 2000 के करीब रन बनाए हैं, वह सब मेरे अब्बू की वजह से है

पिता को दिया सारा क्रेडिट

जब कोई मैच नहीं होता तो दोनों भाई अपने पिता की नज़र में रोजाना छह से सात घंटे अभ्यास करते हैं कुछ अनुशासनात्मक मुद्दों के कारण सरफराज को एक सत्र के लिए यूपी जाना पड़ा और उन्होंने वापसी करने से पहले ‘कूलिंग ऑफ’ समय बिताया जिसके बाद वह फिर मुंबई की टीम में चुने गए सरफराज ने कहा, ‘आप सब तो जानते हो मेरे साथ क्या हुआ अब्बू ना रहते तो मैं समाप्त हो जाता

उन्होंने कहा, ‘इतनी सारी समस्याएं थीं और जब मैं सोचता कि मेरे अब्बू इन सबसे कैसे निपटे तो मैं भावुक हो जाता हूं उन्होंने एक बार भी मेरा हाथ नहीं छोड़ा मेरे भाई ने अपने टेलीफोन पर एक ‘स्टेटस’ लगाया है और मैं देख सकता हूं कि अब्बू कितने खुश हैं मेरा दिन बन गया

सिद्धू मूसेवाला की तरह मनाया जश्न

सरफराज पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला के प्रशंसक हैं जिनकी हाल में एक गैंग ने गोली मारकर मर्डर कर दी थी सरफराज ने शतक जड़ने के बाद मूसेवाला के स्टाइल (जांघ पर हाथ मारकर) में उत्सव बनाया इसके बारे में पूछने पर सरफराज ने कहा, ‘यह सिद्धू मूसेवाला के लिए था मुझे उनके गाने बहुत पसंद हैं और ज्यादातर मैं और हार्दिक तामोरे (विकेटकीपर) उनके गाने सुनते हैं मैंने इसी तरह का उत्सव पिछले मैच के दौरान भी मनाया था लेकिन तब हॉटस्टार ने इसे दिखाया नहीं था मैंने निर्णय किया था कि जब भी एक और शतक ठोक दूंगा, इस तरह ही उत्सव मनाऊंगा


खतरे में पड़ा टीम इंडिया के इस खिलाड़ी का करियर

खतरे में पड़ा टीम इंडिया के इस खिलाड़ी का करियर

इंग्लैंड के विरूद्ध खेल जा रहे टेस्ट मैच में भारतीय टीम (Team India) की पकड़ मजबूत नजर आ रही है टीम को पहली पारी में बढ़त भी मिली है, लेकिन टीम का एक बल्लेबाज इस टेस्ट में बिल्किुल फ्लॉप रहा है ये खिलाड़ी दोनों ही पारियों में बड़ा स्कोर बनाने में असफल रहा ये खिलाड़ी लगातार टीम की प्लेइंग XI में स्थान नहीं बना पाता है, ऐसे में इस खिलाड़ी टेंशन अब बढ़ने वाली हैं ये खिलाड़ी आने वाले मैचों में बाहर भी हो सकता है

ये बल्लेबाज फिर रहा फ्लॉप

टीम इण्डिया को पहली पारी में 132 रनों की अहम बढ़त हासिल हुई ऐसे में बल्लेबाजों से अच्छी आरंभ की आवश्यकता थी, लेकिन टीम ने शुरुआती 2 विकेट 43 रनों के स्कोर पर ही गंवा दिए पहली पारी में फ्लॉप रहने वाले बल्लेबाज हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने इस पारी में भी बहुत खराब खेल दिखाया वे पहली पारी में 20 रन बनाकर आउट हुए थे, लेकिन इस पारी में तो हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) 11 रन के स्कोर पर ही पवेलियन लौट गए वे रन बनाने के साथ-साथ क्रीज पर टिकने के लिए भी जूझते नजर आए 

करियर पर मंडराने लगा खतरा

हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) पिछले कुछ समय से लगातार खराब प्रदर्शन कर रहे हैं टीम में उनकी स्थान लेने के लिए कई दावेदार भी हैं इस मैच में भी मयंक अग्रवाल जैसे बल्लेबाज को टीम से बाहर कर उन्हें प्लेइंग XI में शामिल किया गया था, लेकिन वे इस मौके का लाभ उठाने में असफल रहे हैं रोहित शर्मा और केएल राहुल जैसे बल्लेबाजों की जब टीम में वापसी होगी तो हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) के लिए टीम में स्थान बनाने के लिए भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा 

ऐसा रहा टीम इण्डिया में अभी तक का सफर

हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने हिंदुस्तान के लिए अभी तक 16 टेस्ट मैच खेले हैं उन्होंने इन मैचों में 33.56 की औसत से 839 रन बनाए हैं, जिसमें 1 शतक और 5 अर्धशतक भी शामिल हैं हनुमा विहारी ने अपने दम पर टीम इण्डिया को कई मैच जिताए हैं लेकिन वह अपनी लय बरकरार नहीं रख पाए ऐसे उनके टीम में रहने पर भी प्रश्न उठाए जा रहे हैं